Wednesday, October 20, 2021

Add News

पटना में किसानों के ‘राजभवन मार्च’ पर पुलिस का लाठीचार्ज, कई नेता घायल

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

पटना। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर आज आयोजित किसानों के राजभवन मार्च पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इसमें सैकड़ों लोगों के घायल होने की खबर है। बिहार के दूर-दराज के इलाकों से दसियों हजार की तादाद में किसान अपनी मांगों को लेकर पटना आए थे, और वो बिहार के राज्यपाल को अपना ज्ञापन सौंपना चाहते थे। लेकिन प्रशासन ने संवेदनशील रवैया अपनाने की बजाए दमन का रास्ता अपनाया। और किसानों पर लाठीचार्ज कर दिया।

इसके पूर्व आज गांधी मैदान से अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर से अपनी मांगों से संबंधित तख्तियां लेकर हजारों किसानों ने राजभवन मार्च का आरंभ किया। मार्च का नेतृत्व का. राजाराम सिंह के अलावा अशोक प्रसाद, ललन चैधरी, अखिल भारतीय किसान महासभा के राज्य सचिव रामाधार सिंह, राज्य अध्यक्ष विशेश्वर प्रसाद यादव आदि नेता कर रहे थे। मार्च के दौरान तीनों काले कृषि कानून रद्द करो, बिजली बिल 2020 वापस लो, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान सहित सभी फसलों की खरीद की गारंटी करो, बिहार में मंडी व्यवस्था बहाल करो आदि नारे लगा रहे थे।

राजभवन मार्च कर रहे किसानों को प्रशासन ने गांधी मैदान से निकलते ही जेपी चौक पर रोक देना चाहा। लेकिन प्रदर्शनकारी अपनी मांगों का ज्ञापन राज्यपाल को देना चाहते थे। जेपी चौक पर प्रशासन ने धक्का-मुक्की किया, लेकिन वह किसानों के सैलाब को नहीं रोक पाया। मार्च डाकबंगला की ओर बढ़ा और फिर वहां एक बार प्रशासन ने दमनात्मक रवैया अपनाया। पुलिस लाठीचार्ज में कई किसान नेताओं के घायल होने की सूचना है।

डाकबंगला चैराहा को जाम करके किसान नेताओं ने सभा आरंभ की। सभा को सबसे पहले पूर्व विधायक राजाराम सिंह ने संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि आज भगत सिंह का पंजाब और स्वामी सहजानंद के किसान आंदोलन की धरती बिहार के किसानों की एकता कायम होने लगी है, इससे भाजपाई बेहद डरे हुए हैं। बिहार की धरती सहजानंद सरस्वती जैसे किसान नेताओं की धरती रही है, जिनके नेतृत्व में जमींदारी राज की चूलें हिला दी गई थीं।

आजादी के बाद भी बिहार मजबूत किसान आंदोलनों की गवाह रहा है। 70-80 के दशक में भोजपुर और तत्कालीन मध्य बिहार के किसान आंदोलन ने किसान आंदोलन के इतिहास में एक नई मिसाल कायम की है। अब एक बार नए सिरे से बिहार के छोटे-मंझोले-बटाईदार समेत सभी किसान आंदोलित हैं। बिहार से पूरे देश को उम्मीदें हैं। आज 29 दिसंबर के राजभवन मार्च ने साबित कर दिया है कि अब पूरा देश भाजपा के खिलाफ उठ खड़ा हुआ है।

सभा को तरारी विधायक सुदामा प्रसाद ने भी संबोधित किया। सुदामा प्रसाद आज ही दिल्ली किसान आंदोलन में अपनी भागीदारी निभाकर पटना लौटे थे। उन्होंने कहा कि पंजाब के किसानों को बिहार के किसानों से बहुत उम्मीद है। आज के इस राजभवन मार्च से निश्चित रूप से पंजाब व पूरे देश के किसान आंदोलन को एक नई उर्जा हासिल होगी।

अन्य नेताओं ने कहा कि बिहार सरकार ने सबसे पहले 2006 में ही बाजार समितियों को खत्म कर दिया। एमएसपी खत्म होने की वजह से आज किसी भी क्षेत्र में बिहार के किसानों का सही समय पर धान की खरीद नहीं होती है, न्यूनतम समर्थन मूल्य की तो बात ही जाने दी जाए। जो काम नीतीश ने 2006 में बिहार में किया मोदी सरकार अब पूरे देश में वही करना चाहती है। बिहार के किसानों की दुर्दशा के लिए भाजपा-जदयू जवाबदेह है। नीतीश कुमार से हम पूछना चाहते हैं कि वे बताएं कि बिहार के किसानों को कहां-कहां न्यूनतम समर्थन मूल्य मिल रहा है। इन लोगों का काम किसानों को बस ठगना है।

बाद में अपनी किसान संघर्ष समन्वय समिति के नेताओं ने अपना एक ज्ञापन बिहार के राज्यपाल को भी सौंपा। अखिल भारतीय किसान महासभा की ओर से प्रतिनिधिमंडल में घोषी के विधायक रामबली सिंह यादव शामिल हुए।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

सिंघु बॉर्डर पर लखबीर की हत्या: बाबा और तोमर के कनेक्शन की जांच करवाएगी पंजाब सरकार

निहंगों के दल प्रमुख बाबा अमन सिंह की केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात का मामला तूल...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -