Thursday, December 9, 2021

Add News

17 साल के अपहृत एक बच्चे का राजधानी दिल्ली में रेस्क्यू ऑपरेशन!

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े


तारीख
 13 नवम्बर 2021 दिन शनिवार को मेरा दोस्त महेश फोन करता है और कहता है कि उसके भैया मनोज अपने गाँव के एक 17 साल के बच्चे विष्णु को खूंटी में अपने किराये के मकान में साथ रखकर अपने स्कूल में पढ़ाते थेजो 11 तारीख से गायब है। मनोज पेशे से शिक्षक हैं और झारखंड मेंस्थित बंधगांव हाई स्कूल पढ़ाते हैं।

मैं सुनकर कुछ हेल्पलाइनकुछ लोगों का संपर्क भेजा और निश्चिंत हो गया। लेकिन अचानक 16 नवम्बर को पता चला कि मनोज जी और विष्णु के पिताजी कोलकाता रवाना हो चुके हैं विष्णु को ढूंढने के लिए। क्योंकि विष्णु ने 12 नवम्बर को किसी नम्बर से फोन किया था और कहा था कि “हमअपने दोस्त के साथ कोलकाता घूमने  गये हैं …………..” और भी कुछ कहा होगा उसने लेकिन ये जानकारी मुझे नहीं है। 3 दिनों तक मनोज और विष्णु के पिताजी ने हावड़ा रेलवे स्टेशनहावड़ा ब्रिज के इर्द गिर्द उसे ढूंढा। इस दौरान खूंटी थाने में गुमशुदगी का मामला भी दर्ज करा दिया गया था।विष्णु ने किसी अनजान व्यक्ति के फोन से कॉल किया थाफिर वो गायब हो गया। कोलकाता जाने के बाद मनोज ने उस अनजान व्यक्ति से मिलने की कोशिश की लेकिन वो व्यक्ति कहीं और जा चुका था 

दिन थक हार कर हर संभव ढूंढने की कोशिश कीहावड़ा के थाने में रिपोर्ट भी दर्ज किया उन लोगों ने लेकिन कुछ नहीं हुआ। तभी 16 नवम्बर को उन्हें बच्चा एक नंबर से कॉल करता है और कहता है कि “भैया दिल्ली फंसाकर ले आया हमकोएक फैक्ट्री है बहुत बड़ी,  और जबर्दस्ती काम करवारहा हैकाम नहीं करने से गाली दे रहा है…”

मनोज बात करते हुए समझाया कि “तुम चुपचाप काम करो हम ढूंढ (ट्रेस करकेलेंगेतुम रूम से कैसे निकले और कौन ले गया तुमको….”

विष्णु ने उत्तर देते हुए कहा कि “अरे वही एक दोस्त बुलाया थायही ये अविनाशहम लोग के स्कूल का नहीं रोलाडिह का अविनाशखाना ही बनाये थेखाकर टाटा पहुंच गए फिर कोलकाता और फिर दिल्लीएक ठो आदमी बोला हमको कि हम टाटा जायेंगेफिर हम उसके साथ आये और हमकोयहां फंसा दिया.. अविनाश जो है वो कोलकाता से भाग गया।

मनोज ने समझाते हुए कहा कि, “सुरक्षित रहनाखाना खा के स्वस्थ रहनाहम ढूंढ के निकाल लेंगे ”

और मनोज ने कॉल और फोन नंबर की जानकारी खूंटी पुलिस को दे दीपुलिस ने ट्रेस करके बताया कि कॉल दिल्ली के द्वारकासेक्टर – 11 के किसी इलाके से आया है। तुरंत ये जानकारी मुझे दी गयी।

मैं टीचर ट्रेनिंग कोर्स बीएड दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया से कर रहा हूँटीचिंग प्रैक्टिस क्लास की तैयारी में लगा हुआ था। जैसे ही मुझे ये जानकारी मिली मैंने तुरंत चाइल्ड लाइन और दिल्ली कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड राइट्स पर कॉल करके मामला दर्ज कराया। साथ ही 112 पर कॉल करके मामले को बतायाऔर तुरंत मुझे पीसीआर वालों का फोन आया कि आप कहाँ हैंकहाँ चलना हैमैंने समझाया कि मैं सीधा सेक्टर 11 के नजदीकी थाने पर आके मिलता हूँ और मामला बताता हूँ। तभी एएसआई कीर्ति का कॉल आया और उन्होंने समझाया कि आप खुद उसलोकेशन को ढूंढने का प्रयास करेंवगैरह – वगैरह… मैंने सीधा जवाब दिया कि मैं आकर मिलता हूँ 

मैं DCP ऑफिस पहुंचा जो सेक्टर 11 मेट्रो स्टेशन से 1.5 किलोमीटर दूर स्थित हैवहां पहुंचने पर पता चला कि जो भी होगा वह द्वारका साउथ थाने से होगावैसे भी ASI कीर्ति से बात हुई थी तो मैं पैदल चल दियामैं 1 बजे द्वारका साउथ थाने पहुंचातभी पता चला कि ASI कीर्ति 4 बजे के करीबमिलेंगे 

मैं बाहर वेट कर रहा था तभी मनोज का कॉल आया और उन्होंने कहा  कि “विष्णु के मैनेजर का कॉल आया है और वो कह रहा है कि बच्चा सेफ है, 17 साल के बच्चे से क्या काम करवाएंआप कोई गार्जियन आकर ले जाइये इससे पहले जिससे सुबह कॉल आया था वो नम्बर स्विच ऑफ आनेलगा था  लेकिन 4 बजे के करीब यह कॉल आई तो उम्मीद की किरण नजर आई क्योंकि सुबह वाले नम्बर को कई लोगों ने प्रयास किया था।लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकला था।

मैंने उसके सुपरवाइजर से बात की और मिलने का प्रस्ताव रखाउसने मुझे बुलाया और लोकेशन बताया कि “द्वारकासेक्टर-11, अक्षरधाम अपार्टमेंट के बगल में एक पार्क की दीवार बन रही है वहीं पर  जाइये

मैं पहले से ही डरा हुआ था क्योंकि बच्चे ने बताया था कि उसे जबर्दस्ती उठा के लाया गया है और काम करवाया जा रहा है। मैंने सुपरवाइजर को कहा कि “ऐसा करिए कि बच्चे को किसी पब्लिक प्लेस जैसे मेट्रो स्टेशन के पास या कहीं और ले आइये”, तभी उसने कहा कि मैं बाहर नहीं जा सकतासाइट पर हमारा काम चल रहा है। तभी मैंने ये निर्णय लिया कि चलो चला जाए और मिला जाएजो होगा देखा जाएगा।

मैंने सारी जानकारी अपने दोस्त महेश को दे रखा थाजैसे – Whatsapp live लोकेशनलोकेशनअगल बगल की जानकारी आदि।

मैं साइट पर पहुंचा तो देखा कि वहां पर जिला उद्यान (पब्लिक पार्कहै और उसके बगल में एक बड़े से मैदान पर बिल्डिंग निर्माण का कार्य चल रहा है और वह चारों ओर से लोहे की चादरों से ढका हुआ हैअन्दर जाने के लिए एक गेट हैजिसे किसी गेट कीपर ने खोला और मैं अन्दर गया। अन्दर जातेही सुपर वाइजर से मिला और अपना परिचय बताया कि मैं मनोज का भाई हूँविष्णु से मिलने आया हूंवो मुझे अन्दर ले गयाअन्दर से मैं डरा हुआ था लेकिन बात मुस्कुरा के और आत्मविश्वास से कर रहा थाथोड़ा और अन्दर जाने पर 2 कारें खड़ी थीं और 2 लोग कुर्सी पर बैठे हुए थेसुपरवाइजरउसे अपना साहब बता रहा था।

उसने अपने साहब से बात की और बताया कि ये (यानि कि मैंबच्चे से मिलने आए हैंसाहब ने मिलने की अनुमति दी। थोड़ी दूर आगे और गया तो देखा कि लोहे की चादरों के छोटेछोटे रूम बने हुए थे जहाँ पर मजदूर रहते थेएक बच्चा मुझे दिखा जो यही कोई 16-17 साल का लगावो विष्णु हीथाक्योंकि मैंने उसका फोटो देखा था। जैसे ही बच्चा मुझे मिला वो मन ही मन खिल खिला उठा थामैं लगातार मनोज से कॉल पर थावीडियो कॉल पर बात करायी।

विष्णु के पिताजी से बात करायीमनोज से बात करायी। उसके पिताजी जो 5 दिनों से लगातार हैरानपरेशान थेफोन पर ही रोने लगेउन दोनों को उम्मीद की किरण नजर  गयी थी।

इसी दौरान सुपरवाइजर ने बताना शुरू किया कि “इस बच्चे को किसी दलाल ने यहां के दलाल को बेचा हैयहां का जो दलाल है वो खरीद के लाया हैयहां पर बहुत ऐसे लोग हैं जो झारखण्डबंगाल से लाये गए हैंये बच्चा छोटा दिखा मुझे तो मैंने पूछा तो पता चला कि ये हिन्दू हैऔर यहां पर सारेलेबर मुसलमान हैंजब इसके बारे में पता चला कि ये 17 साल का है तो हमने काम से हटा दिया और घर फोन लगाने को कहाइसके गार्जियन को बुलाइये और ले जाइये।

ये सा… दलाल ना जाने कहां से उठा उठा के लेबर ले आते हैंकल आइये आपको उस दलाल से मिलाते हैं

तभी मैं सुपरवाइजर से कहा कि मैं बच्चे से बात करता हूँउसने मुझे बात करने दी। मैं धीरेधीरे पूछ रहा था कि यहाँ क्या किया जा रहा हैकैसे लाया गया?

तभी एक आदमी आता हैजो एकदम मिट्टी से सना हुआ लगभगजींसशर्ट पहना हुआ ऐसे जैसे महीनों से नहीं नहाया धोया हैउसने पूछा “क्या हुआआप इसके गार्जियन हैं क्याये लड़का पढ़ने लिखने वाला कहाँ से  गयाहम लोग खटने कमाने वाले हैं।

मैंने पूछा आप कौन हैंतब उसने बताया कि, “ये बच्चा हमको बर्धमान (पश्चिम बंगालमें मिला जहां से ठेकेदार और दलाल हम लोग को यहां लाया हैबोला कि काम मिलेगा दिल्ली में। लेकिन क्या बताएं भैया यहाँ बहुत खतरनाक स्थिति हैसा… ये लोग हम लोगों को यहां जानवर जैसा रखता हैखाने को ढंग से नहीं देताकहता है गेट से बाहर कोई नहीं जाएगासोने का कोई ठीक ठिकाना नहीं हैपैसा भी नहीं देता हैइसलिए हम मुश्किल में पड़े हैं। सोच रहे हैं कि पुलिस को बुला कर इन लोगों को टाइट करेंगे

मैंने और बात जानने कि कोशिश की और कहा कि “भैया इन लोगों ने काम दिया है तो क्या करियेगा”, फिर उसने कहा, “यहाँ पर सबको फंसा के लाया है और जबरदस्ती काम करा रहा हैबंगाल का दलाल अलग हैफिर यहां का अलगउसके बाद ठेकेदार अलगहम लोग किसको कहेंयहाँ परमॉल बना रहा हैं और हम लोग को फ्री फ़ोकट में खटवा (बहुत काम करवानारहा हैनहीं करने पर मारने की धमकी देता है

नाम पूछने पर अपना नाम उसने राजू बताया और बताया कि वो भी बंगाल से हैवहाँ के और बाकी लोगों से पूछने पर पता चला कि ज्यादातर बंगाल से थे कोई मुर्शिदाबादतो कोई सीमांचल क्षेत्र से था 

ये लगभग 20 मिनट का समय मैंने वहाँ गुजारा थालेकिन उतने ही समय में ऐसी ऐसी जानकारी मिल रही थी कि मैं अन्दर ही अन्दर डरा हुआ थाउस दौरान लगातार फ़ोन पर अपने दोस्त के साथ।

मैं सुरक्षित छोड़ कर बाहर आयातभी मुझे लगा कि एक आदमी जो दलाल के गिरोह का है वो मुझे फॉलो कर रहा है तो मैं अक्षरधाम अपार्टमेंट की ओर बढ़ गया और कॉल करके मनोज को बताया कि आप जल्दी आइये। मनोज ने कहा कि वो खूंटी जाकर फिर रांची से आयेंगे अगले दिनलेकिन मैंनेवहाँ के हालात और बातचीत के आधार पर कहा कि आप कोलकाता से सीधा दिल्ली आइये क्योंकि एक ने कहा था कि  “मुझे पहले दुसरे साइट पर रखा था यहाँ पर कल लाया है इस आधार पर मैंने जोर दिया कि तुरंत फ्लाइट बुक करके आइये और मैं शाम के 6.30 बजे उसी दिन की रात के 10 बजे का फ्लाइट बुक किया।

अगली सुबह मैंमनोज और अरविन्द (मेरे साथ रहता हैतीनों उस लोकेशन पर पहुंचे सोचा कि पुलिस को इन्फॉर्म करूं लेकिन फिर लगा कि पहले हमने जब इन्फॉर्म किया था तब औपचारिकता की बात आई थी कि झारखण्ड पुलिस का कोई साथ होना चाहिएवगैरहवगैरह। फिर हमने निर्णय लियाकि मैं और मनोज अन्दर जाएंगे और अरविन्द बाहर हमारे साथ फोन पर संपर्क में रहेगाकिसी ख़राब परिस्थिति में मदद लेगापुलिस को फोन करेगा।

हम अन्दर गये सुपरवाइजर से मिलेवो फिर अन्दर जहाँ वो रहते थे लेकर गयेलगभग 10 लोग वहां दिखे और चर्चा शुरू हुई कि इस बच्चे का गार्जियन  गया हैसुपरवाइजर ने एक दलाल को बुलाया और उसे जम कर गाली दी “यही मुंशी है जो बच्चा को उठा लाया हैये पता नहीं कहां से लेबरको लाता है पता नहीं चलता (दलाल की ओर हाथ दिखाते हुएकहां से उठा लाते हो बच्चों कोतुम लोग सा… काम बंद करवा दोगे………. और ना जाने ढेर सारी कितनी गालियाँ दी

दलाल शारीरिक रूप से विकलांग था, चल नहीं पाता था। देखने में थोड़ा काला, मुंह में गुटखा दबाए हुए था। उसने सुपरवाइजर को बोला उसके भाई ने लाया है उसे। उन लोगों ने बच्चे का आधार कार्ड मांगा।

तभी एक और 25 साल का लड़के को दिखा कर सुपरवाइजर ने कहा कि “ये भी एक लड़का है जो फंसा हुआ है और जाना चाहता है”, पूछने पर पता चला कि वो मुर्शिदाबाद (पश्चिम बंगालका है। मैंने मौके की नजाकत को समझते हुए कहा कि “भाई आप देख लीजियेजो आपको लाया है उससेबात कर लीजिये

दलाल अपनी बंगाली वाली हिंदी में हमें कह रहा था आपका बच्चा है तो ले जाइयेइसका कागजपत्तर दिखा करअन्दर ही अन्दर मुझे गुस्सा  रहा था लेकिन उनके बीच हम दो ही लोग थे बस। जो किसी बच्चे को बिना कागज पत्तर केबिना किसी से पूछे खरीद कर लाया हैवो हमसे कह रहा किऐसे करो वैसे करो।

हमने सबके फोटो लिए उस दौरानहमने दलाल का नंबर लेने कि कोशिश की लेकिन वह नंबर नहीं दिया। तभी एक और दलाल का फोन आया जिसने बच्चे को बर्धमान से उठाया थाउसने मनोज से बात की।

तभी एक लगभग 50-55 वर्ष के व्यक्ति से पूछा कि कहाँ से है वोउसने बताया कि वो मालदा (बंगालसे है।

उसी वक्त मुर्शिदाबाद वाला लड़का मेरे पास आया और वो भी कहने लगा कि “भैया हमको भी ले चलियेहमको नहीं रहना है यहाँकाम करवा के कुछ पैसा नहीं देताहमको ले चलिए

तभी दलाल कहता है कि “आप लोग अगर नहीं आते तो बच्चे को जाने नहीं देते” बगल से सुपरवाइजर ने दलाल को डांटना शुरू किया “सा… तुम कल बताया था कि कल पुलिस आई थी? ”

दलाल कहता है “कहाँ पुलिस आई थी?

सुपरवाइजरझूठ मत बोलनालंच के टाइम आई थी कि नहींतुमने किसी को बताया कि ये चोरी का बच्चा हैइस बच्चे पर पुलिस में कमप्लेन किया हुआ हैसाहब ने कहा कि पुलिस क्यों आई थी

सुपरवाइजर ने फिर हमें कहा कि : “ऐसा करो कि तुम ठेकेदार का नंबर लोवो तुम्हें बंगाल के दलाल का डिटेल देगा और वो दलाल बच्चे का लोकल आदमी जो उठा के बहला फुसला कर लाया था उसका नंबर देगा

तभी एक ने कहा कि : ये अपने आप नहीं आतेकिसी दलाल के द्वारा लाये जाते हैं।

तभी दूसरे व्यक्ति ने कहा किये दोस्त के चक्कर में  गयावहाँ के दलाल ने उसको कुछ रुपया भी दिया होगावहाँ तो उसको बताया नहीं होगा कि कहाँ ले जाया जा रहा है।

तभी एक तीसरे व्यक्ति ने कहा कि “खैर हुआ कि आप लोग ढूंढ लिए नहीं तो बच्चे को कोई मार के फेंक भी देता

सुपर वाइजर कहता है “ये बच्चा जाना चाह रहा है तुम लोग जाने नहीं दे रहेअगर सुसाइड कर लेगा तो क्या करोगे? ”

तभी दलाल मजदूरों से कहता है कि “गार्जियन  गया है हम भेज देगा तुम लोग जाओकुछ पैसा देके हम भेज देगा ” सुपरवाइजर डांटते हुए कहता है कि “तुम लोग पहले क्यों नहीं इसके घर में संपर्क किए?”, तभी दलाल टोकते हुए कहता है कि “अभी संपर्क तो हुआ ना

इस बीच उन लोगों ने हमें और बच्चे को खाने के लिए पूछा लेकिन हमने मन कर दिया।

उसी समय मुर्शिदाबाद जाने वाला लड़का भी आया जिसका नाम रफीकुल थाहमने उससे पूछा कि पैसे हैं जाने के लिएउसने अपना पर्स देखा और 50 रूपये दिखायाफिर सुपर वाइजर ने दलाल से कहा कि “ये लड़का तो 3 दिन काम किया हैइसका 3 दिन का हाजिरी का पैसा दोघर चलाजायेगा

तभी रफीकुल अपने सामान का बैग लेने गयाउसे दलाल के गैंग का दोस्त पकड़ के एक तमाचा जड़ दिया और कहा कि अगर गए तो मार दूंगालेकिन हम लोग के रहने के कारण रफीकुल हमारे पास आकर गिड़गिड़ाने लगा कि भैया ले चलिए हमको। नहीं तो ये लोग मार देंगे।

जब बात आई पैसे देने की विष्णु और रफीकुल को तो वो दलाल का गैंग का लड़का कहने लगा कि “मैंने इन दोनों को 5 हजार और 6 हजार में खरीद कर लाया है वो कौन देगा?” और अपने बीच में झगड़ने लगाहमें डर लग रहा था लेकिन सुपरवाइजर ने डांट कर शांत कियाहमने कहा कि रफीकुलको कुछ पैसे दे दो ताकि ये अपने घर चला जाएगा बाकी विष्णु का हम देख लेंगे। दोनों ने 3-3 दिन काम किया थापूरे के पूरे  12-12 घंटे रोजसुबह के 8 बजे से रात के 9 बजे तक।

उसके एवज में उन्होंने बताया कि “खाने में दिन रात सिर्फ चावल और आलू सोयाबीन की सब्जी खिलाते थे जानवरों की तरहएक दिन सिर्फ दाल दिया थाकुछ बोलने पर मारता था और धमकी देता था कि मार के फेंक देंगेइसलिए हम डर से कुछ नहीं बोलते थे।

फोटोसबसे दाहिने (आसमानी रंग के शर्ट में मुख्य दलाल)

बाएं में हाथ उठाये हुए – सुपरवाइजर जिसने काफी मदद कीलेकिन उनके आड़े हाथ सब कुछ हो रहा।

दलाल ने 200 रुपया दिया रफीकुल कोऔर बगल में दलाल का दोस्त लड़का गुस्से में घूर रहा था। वहां से हम लोग निकलेगेट पर एक हट्टा कट्टा आदमी डेली रजिस्टर पर सिग्नेचर करवाया और कहा कि आप लोग सिग्नेचर कर दिए हैं। अब पुलिस आएगी या आप लोग कम्प्लेन करेंगे तो हमारीजिम्मेवारी नहीं होगी और  ही हमें कुछ होगा। पीछे से एक व्यक्ति और साथ में  रहा था और कुछ दूर तक आया भी बाद में पता चला कि वो दलाल के गिरोह का था और पहले सबको धमकाया भी थावह एक बच्चा दिखा जिसकी उम्र 17-18 रही होगीउससे बात करने के लिए मैंने उससे बीड़ीमाँगा और पूछा कहाँ से हो तुमउसने कहा – यूपी से हैं।

सीधा हम लोग मेट्रो स्टेशन गए ताकि और कुछ ना होउसके बाद रफीकुल और विष्णु ने अपनी आप बीती सुनाई।

बिष्णु के शब्दों में:

खूंटी के रूम में खाना बनाया थादोपहर 2 बजे दुकान से सामान लेने गया तभी बंध गाँव का एक दोस्त अविनाश जो 2 दिन पहले वो ही मिल के दोस्ती किया थावो बोला चलो कोलकाता घूमनेजल्दी लौट जायेंगे  स्कूटी से हमको चक्रधरपुर स्टेशन लेके चला गया बीच रास्ते में हम मना किये तोधमकी दिया कि मार देंगेचुप चाप चलो 

स्कूटी वहीं पर मंदिर के पास रखा और ट्रेन का टिकट लिया कि नहीं हमको नहीं पता और सीधे हावड़ा ले के चला गया , सुबह हावड़ा पहुंचे और बाहर जाके एक आदमी का फोन मांग के घर फोन किये कि घूमने आये हैं।

हम स्टेशन में बैठे थेऔर बोले कि हमको टाटा (जमशेदपुरचक्रधरपुर बगल में ही हैतभी अविनाश बोला कि हम फोन चार्ज करके  रहे हैं फिर चलेंगेऔर चला गया कुछ देर में एक  आदमी आया और बोला कि टाटा जाना है ना चलो ले चलेंगेतुम्हारे दोस्त को कुछ काम है वो हमको बोला है लेजाने के लिए। हम डर गये थे कि वो कहाँ चला गयाइसके आदमी के साथ जाने के लिए मना किये लेकिन जबर्दस्ती करके ले गया और पुलिस से पकड़वा देंगे बोल कर के हमको डरा दिया।

हम उसके साथ चल दिए एक ट्रेन में बैठ के। हमको नहीं पता कौन ट्रेन थीहमको प्यास लगी थीमांगने पर एक जूस दिया जो बहुत मीठा थाप्यास के कारण पी गये उसके बाद नींद आने लगी और हम सो गयेअचानक एक स्टेशन पर उतरे नींद में ही और स्टेशन के बगल में एक घर के कमरे में बंदकर दिया जहाँ पर 12-15 लोग थे कुछ लोग भागना चाह रहे थेकुछ कह रहे थे कि काम पर जा रहे हैंवहाँ पर कुछ खाना दिया और रात के 11-12 बजे के करीब सबको साथ में लेकर स्टेशन जाने लगा।

हम बोले कि नहीं जायेंगे कहीं। हमको टाटा जाना हैलेकिन एक जो हमको लाया था वो चाकू दिखाकर धमका दिया कि ज्यादा बदमाशी करोगे तो मार देंगेचुपचाप चलो टाटा लेके जा रहे हैं सबको। ट्रेन पर बैठे हम लोगपानी की जगह पर हमको बार बार जूस दे रहा था जिससे हमको नींद  रहीथीहम सो गये। उठने के बाद हम पता नहीं कहाँ  गये थेरात का समय था तो सो गये। सुबह उठे तो देखे कि एक बड़ा मैदान है जहाँ पर काम चल रहा हैहमको भी काम करने के लिए कह रहा हैकाम भारी थाईंट –गिट्टी– राड उठाने के लिए कह रहामना करने पर मारता था और कहता था कितुमसे काम करवाने के लिए तुमको लाया गया है काम करो।

फिर मेरे बैग में एक फोन था उससे फोन किये मनोज भैया को और बताये बातलेकिन जैसे ही दलाल देखा वो फोन पटक दिया और धमका दियाफिर सुपर वाइजर देखा और बात किया तो बात करवाया।

खाने ठीक से नहीं देता थाभारी काम करवायासोने के समय कुछ ढंग का ओढ़ने का भी नहीं था

रफीकुल से हमने जब बात की तो उसने बताया:

हम बर्धमान में थे काम ढूंढने आये थे तभी एक काला आदमी आया और बोला काम चाहिएमैंने हाँ बोल दियातभी वो मुझे एक रूम में ले गया और दूसरे आदमी से मिलाया और बोला कि ये 6000 लिया है इसको ले जाओ।

मैंने मना किया कि मुझे कुछ पैसे नहीं मिले हैं लेकिन उन लोगों ने कमरे में बंद कर दिया जहाँ पर ये छोटू विष्णु आधा नींद में थाफिर हम लोगों को स्टेशन लेकर गयाहम मना कर रहे थे कि हमको 6000 रुपया नहीं दियालेकिन हमको भी मारने की धमकी दिया और बोला कि काम देंगे चिंता मतकरो।

वो काला और नाटा आदमी जो हम सबको ट्रेन में बैठाया वो बनारस में उतर गया और किसी दूसरे आदमी के हवाले कर दिया। दूसरा आदमी जो साइट पर दिखा जो विकलांग था वही बनारस से साथ में था। दिल्ली में एक साइट पर ले आया लेकिन एक दिन बाद यहां पर ले आयादोनों जगह बड़ामॉल /बिल्डिंग बनने वाला है।

छोटू (विष्णुपूरी ट्रेन में दिन और रात नींद में थापता नहीं इसको क्या खिला पिला दिया था इन लोगों ने।

भैया क्या बताएंआप लोग आये तो जान बच गयीमेरा बच्चा हैये लोग यहाँ पर सारा लेबर को ऐसे ही मार पीटडरा धमका कर के रखता हैऐसा खाना खिलाता है कि पशु भी ना खाए

अन्दर में एक बेचारा पागल आदमी को भी ये लोग कहाँ से उठा लाया है पता नहींउससे भी पीट पीट कर काम करवाता है।

गेट से किसी लेबर को बाहर जाने नहीं देता हैये लोग चावलआलूसोयाबीन की सब्जी खिलाता है बस और रोज 100 रुपया खाना का काट लेता हैऔर फ्री फ़ोकट में काम करवा के 2-3 महीना के 2-4 हजार देकर भेज देता है। अगर कोई पहले जाना चाहता है तो टिकट का बहाना करके लेटकरता है और खटवाता है।

ये लोग हमेशा नये नये आदमी को ठग ठग के लाते हैंपता नहीं हम कैसे  गयेदिन में सब पता चल गया इन सब के बारे में।

अगर हम झारखण्ड को लेते हैं तो देखते हैं कि आये दिन चाइल्ड/ह्यूमन/गर्ल ट्रैफिकिंग होता रहता है। अगर सही तौर से हम देखें तो ज्यादातर केस रिपोर्ट ही नहीं होते। और जो रिपोर्ट होते हैं वोकाफी कम होते हैं। 2015 के NCRB की रिपोर्ट को देखें तो पता चलता है कि भारत के ह्यूमन ट्रैफिकिंग में कुल 1021 केस दर्ज हुए थे जिसमें झारखण्ड में 126 केस दर्ज हुए थे। यह देश मेंतीसरे नंबर पर था।¹

झारखण्ड में कई ऐसे मातापिताअभिभावक हैं जो अभी भी अपने बच्चों और परिवार के लोगों की राह देख रहे हैं।

ऐसी रिपोर्ट्स को जब हम पढ़ते हैं तो पता चलता है कि झारखण्ड ह्यूमन ट्रैफिकिंग से सबसे ज्यादा प्रभावित हैऐसा होने का कारण आप कई शोध में पाएंगे कि अपार खनिज सम्पदा होने के बावजूदझारखण्ड की वित्तीय हालत काफी कमजोर है। झारखण्ड के जनजातीय जिलों में ट्रैफिकिंग कीसमस्या काफी खतरनाक है।

विष्णु के रेस्क्यू के दौरान एक दलाल ने बताया कि “हमारे पास झारखण्ड के आदिवासी क्षेत्रों से सबसे ज्यादा मजदूर होते हैं

जैसे विष्णु की कहानी सरकार के दस्तावेज में दर्ज नहीं हुईऐसे ही झारखण्ड सहित भारत के हजारों केस दर्ज नहीं होते क्योंकि जो ट्रैफिक हो जाते हैं वो या तो जनजातीय समुदाय से होते हैंया एकदम गरीबया फिर marginalised minority से होते हैं और हमारी व्यवस्था इनको सुनती कहाँ है।हाल में रिलीज़ हुई फिल्म “जय भीम” में इसी को फिल्माया गया है। झारखण्ड में ऐसी हजारों कथाएं दफ़न हैं।

जिस साइट पर मैं गया था वहाँ पर ज्यादातर मुस्लिम लोग थे जिन्हें जबर्दस्ती रखा गया थाइससे ये पता चलता है कि भारत में अल्पसंख्यकोंदलितोंआदिवासियों की स्थिति बद से बदतर है।

(लेखक शिशु रंजन जामिया मिल्लिया इस्लामियानई दिल्ली से बी.एडकर रहे हैं और विद्यार्थी राजनीति में लगातार सक्रिय हैंविद्यार्थी संगठन AIRSO के ऑल इंडिया महासचिव हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

तीन साल बाद जेल से रिहा हुईं एक्टिविस्ट सुधा भारद्वाज

भीमा कोरेगांव-एल्गार परिषद जाति हिंसा मामले में तीन साल और तीन महीने पहले गिरफ्तार की गईं वकील और ऐक्टिविस्ट...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -