Subscribe for notification

रुक्मिणी बोबडे की बहस से पॉस्को आरोपी गायत्री प्रजापति को मिली जमानत

दुष्कर्म के मामले में जेल में बंद सपा सरकार में खनन मंत्री रहे गायत्री प्रजापति की से उच्चतम न्यायालय की वकील रुक्मिणी बोबडे ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ के जस्टिस वेद प्रकाश वैश्य के समक्ष बहस कीं और इसके साथ ही एक साल से अधिक समय से लम्बित अंतरिम जमानत प्रार्थना पत्र का निस्तारण हो गया और पॉस्को में बंद गायत्री प्रजापति को दो माह की अंतरिम जमानत मंजूर हो गयी।

इस तरह से सपा सरकार में खनन मंत्री रहे गायत्री प्रजापति को शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने दो महीने की अंतरिम जमानत दी है। जस्टिस वेद प्रकाश वैश्य, (जमानत संख्या 5743/2019) ने आवेदक गायत्री प्रसाद प्रजापति की वकील रुक्मिणी बोबडे और सुशील कुमार सिंह, तथा राज्य सरकार के वकील  अपर एडवोकेट जनरल विनोद साही और उनके सहायक दिवाकर सिंह की दलीलें सुनकर अंतरिम आदेश पारित किया है। लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज में भर्ती गायत्री प्रसाद प्रजापति ने कोरोना वायरस संक्रमण का हवाला जमानत की याचिका में दायर की थी।

आवेदक गायत्री प्रजापति क्राइम नंबर 29/2017 में एक अंडर ट्रायल हैं और उनके विरुद्ध धारा 376 (डी), 354 ए (1), 504, 506, 509 के आईपीसी तथा पॉक्सो अधिनियम, 2012 की धारा 5 और 6 के तहत पुलिस स्टेशन गौतम पल्ली, जिला लखनऊ में अपराध पंजीकृत हैं।18 जुलाई, 2017 को लखनऊ में पॉक्सो की विशेष अदालत ने इस मामले में गायत्री समेत सभी सात अभियुक्तों पर आईपीसी की धारा 376डी, 354 ए(1), 509, 504 व 506 में आरोप तय किया था। साथ ही गायत्री, विकास, आशीष व अशोक के खिलाफ पॉक्सो एक्ट की धारा 5जी/6 के तहत भी आरोप तय किया था।

आदेश में कहा गया है कि आवेदक ने वर्तमान जमानत आवेदन को 19 अग्स्त, 2019 को दाखिल किया था और छह महीने की अवधि के लिए चिकित्सा आधार पर अंतरिम जमानत की मांग की थी। आवेदक की वकील रुक्मिणी बोबडे ने कहा कि आवेदक 15 मार्च, 2017 से न्यायिक हिरासत में है। वर्तमान मामले में गलत तरीके से फंसाया गया है। अभियोजक और उसकी बेटियों की ट्रायल कोर्ट में गवाही हो चुकी है और उन्होंने अभियोजन पक्ष का समर्थन नहीं किया है। रुक्मिणी बोबडे ने आवेदक को अंतरिम जमानत दिए जाने पर बल दिया और विस्तार से बताया कि आवेदक विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त है।

पूर्व मंत्री की ओर से लखनऊ बेंच में दी गई जमानत अर्जी में दलील दी थी कि वे जिस वार्ड में भर्ती हैं, वहां से कोरोना वार्ड की दूरी ज्यादा नहीं है। लिहाजा उनको कोरोना इंफेक्शन का खतरा है। ऐसे में उन्हें बाहर बेहतर इलाज करवाने के लिए जमानत दी जाए। हाईकोर्ट ने केजीएमयू से पूछा था कि क्या गायत्री को केजीएमयू में कोरोना इंफेक्शन होने का ख़तरा है? इस पर हाईकोर्ट में केजीएमयू की ओर से दी गई रिपोर्ट में कहा गया था कि अस्‍पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज होता है। इसलिए यहां भर्ती या आने जाने वाले किसी भी मरीज को कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक है।

गैंगरेप के आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति ने करीब नौ महीने से लखनऊ केजीएमयू के प्राइवेट रूम में रहकर इलाज के नाम पर मौज काटा था। डिस्चार्ज के बाद भी जेल जाने को कतई तैयार नहीं था। इस दौरान हंगामा शुरू हुआ था परिजनों ने बवाल काटा था। गायत्री व उनके समर्थकों ने करीब पांच घंटे तक ड्रामा किया था। इसके बाद वजीरगंज पुलिस गायत्री को जबरन उठाकर ले गई। रात में जेल पहुंचे गायत्री ने जेल में भी हंगामा किया। हालांकि जेल प्रशासन ने उसे बैरक में बंद करा दिया।

रेप मामले में पॉस्को आरोपी गायत्री प्रजापति को दो महीने की सशर्त जमानत मिली है। गायत्री प्रजापति लखनऊ जेल में बंद थे। गायत्री प्रजापति को देश छोड़कर कहीं भी बाहर जाने की अनुमति नहीं है। 5 लाख के पर्सनल बॉन्ड और दो जमानतदारों की शर्त के साथ गायत्री को जमानत दी है। गायत्री प्रजापति अखिलेश यादव सरकार में खनन मंत्री रहे हैं।

इससे पहले गायत्री प्रजापति की याचिका को दो बार खारिज कर दिया गया था।गैंगरेप के आरोप में सजा काट रहे प्रजापति पर खनन के घोटाले के भी कई आरोप लगे हैं, जिसकी सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच चल रही है। खनन घोटाले में प्रजापति पर कई शहरों में मुकदमे भी दर्ज हैं। उनके साथ इस जांच में कई वरिष्ठ अधिकारियों के भी नाम शामिल हैं।

लखनऊ के विधिक क्षत्रों में चर्चा है कि आवेदक की वकील रुक्मिणी बोबडे भारत के चीफ जस्टिस एस ए बोबडे की पुत्री हैं और उच्चतम न्यायालय में वकालत करती हैं। इसके साथ ही इनका एक परिचय और है। बताया जाता है कि इनके पति इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक जज के भतीजे हैं।

Sharad Arvind Bobde Age, Caste, Wife, Family, Biography …wikibio.in › Government OfficialsOct 18, 2019 – Sharad Arvind Bobde is the 47th Chief Justice of India (CJI). On 18 … His mother’s name is Mukta Arvind Bobde. His elder … They have a son, Shrinivas Bobde (Advocate), and two daughters, Savitri Bobde and Rukmini Bobde. …

(वरिष्ठ पत्रकार और कानूनी मामलों के जानकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

This post was last modified on September 8, 2020 9:45 am

Share