Subscribe for notification
Categories: राज्य

झारखंड के सिंहभूम में माओवादी बताकर हिरासत में लिये गये युवक को ग्रामीणों ने थाने से छुड़ाया

रांची। आदिवासी बहुल राज्यों में भाकपा (माओवादी) के खिलाफ सीआरपीएफ व राज्य पुलिस का संयुक्त अभियान चलता ही रहता है और इस दौरान आम आदिवासियों को माओवादी बताकर हिरासत में लेना और फिर माओवादी घटना में शामिल बताकर जेल भेजना भी आम बात है। कई बार तो पुलिस के अभियान में उनके घर जलाये गये हैं, महिलाओं के साथ छेड़छाड़ से लेकर सामूहिक बलात्कार तक किया गया है, यही नहीं बल्कि फर्जी मुठभेड़ दिखाकर आदिवासियों की हत्या भी कर दी गयी है। लेकिन जब ये जुल्म के खिलाफ तनकर खड़े हो जाते हैं, तब फिर पुलिस को पीछे हटना ही पड़ा है।

ठीक ऐसी ही घटना कल झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिला के सोनुवा थानान्तर्गत घटी। सीआरपीएफ और झारखंड पुलिस माओवादियों के खिलाफ अभियान चला रही थी और 30 जनवरी को सोनुवा साप्ताहिक हाट से लोंजो पंचायत के केडाबीर गांव के रहने वाले छोटे भूमिज अपने गांव लौट रहे थे। पुलिस ने माओवादी होने के शक के आधार पर उसे हिरासत में लेकर सोनुवा थाना लेते आई। इस बात की खबर जब केडाबीर गांव में पहुंची, तो वहां से सैकड़ों महिला-पुरुष 31 जनवरी को अपने परंपरागत हथियार तीर-धनुष से लैस होकर चल पड़े और सोनुवा थाना को घेरकर सोनुवा-गोईलकेरा मार्ग को जाम कर दिया। यह घेराव तब तक चलता रहा, जब तक कि हिरासत में लिए गए छोटे भूमिज को छोड़ नहीं दिया गया।

ग्रामीणों की इस छोटी सी जीत हमें यही सिखाती है कि हम तब तक लड़ते रहें, जब तक कि हमें जीत न मिल जाती हो।

(रुपेश कुमार सिंह स्वतंत्र पत्रकार हैं और आजकल झारखंड के रामगढ़ में रहते हैं।)

This post was last modified on February 1, 2020 1:03 pm

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

वादा था स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने का, खतरे में पड़ गयी एमएसपी

वादा फरामोशी यूं तो दुनिया भर की सभी सरकारों और राजनीतिक दलों का स्थायी भाव…

2 hours ago

विपक्ष की गैर मौजूदगी में लेबर कोड बिल लोकसभा से पास, किसानों के बाद अब मजदूरों के गले में फंदा

मोदी सरकार ने किसानों के बाद अब मजदूरों का गला घोंटने की तैयारी कर ली…

2 hours ago

गोदी मीडिया से नहीं सोशल प्लेटफार्म से परेशान है केंद्र सरकार

विगत दिनों सुदर्शन न्यूज़ चैनल पर ‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम…

5 hours ago

पवार भी निलंबित राज्य सभा सदस्यों के साथ बैठेंगे अनशन पर

नई दिल्ली। राज्य सभा के उपसभापति द्वारा कृषि विधेयक पर सदस्यों को नहीं बोलने देने…

5 hours ago

खेती छीन कर किसानों के हाथ में मजीरा पकड़ाने की तैयारी

अफ्रीका में जब ब्रिटिश पूंजीवादी लोग पहुंचे तो देखा कि लोग अपने मवेशियों व जमीन…

8 hours ago

पिछले 18 साल में मनी लॉन्ड्रिंग से 112 अरब रुपये का लेन-देन, अडानी की कम्पनी का भी नाम शामिल

64 करोड़ के किकबैक से सम्बन्धित बोफोर्स सौदे का भूत भारतीय राजनीति में उच्चस्तरीय भ्रष्टाचार…

8 hours ago