Subscribe for notification
Categories: राज्य

4 साल से चौराहे पर दुकान चला रहे शख्स को ईनामी नक्सली बताकर झारखंड पुलिस ने भेजा जेल

13 जुलाई को गिरिडीह के एसपी अमित रेणु ने पत्रकारों को बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर पीरटांड़ थाना क्षेत्र के कई उग्रवादी कांडों में शामिल एक लाख का ईनामी नक्सली तूफान मांझी उर्फ राजकुमार किस्कू उर्फ किशोर चंद किस्कू उर्फ अनिल किस्कू को एसडीपीओ नीरज सिंह के नेतृत्व में छापामारी दल गठन कर डुमरी-गिरिडीह के मुख्य पथ पर स्थित मांझीडीह चौक पर गिरफ्तार किया गया।

एसपी ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से यह सूचना मिल रही थी कि कई कांडों का नामजद नक्सली तूफान अपने घर से लेकर मांझीडीह के आस पास देखा जा रहा है। जिस पर धनबाद व गिरिडीह जिला के कई थानों में नक्सल घटनाओं से संबंधित मुकदमा दर्ज है, जिसमें गिरिडीह जिले के पीरटांड़ थाना कांड संख्या-33/01, 58/01, 05/02, 01/08, 45/08, 32/10 यानी कुल छः मुकदमे व धनबाद जिले के तोपचंची थाना कांड संख्या 174/01 व टुंडी थाना कांड संख्या 66/09 में ये नामजद अभियुक्त हैं।

पत्नी हेम्ब्रम और दोनों बेटे।

गिरिडीह एसपी के दावे के इतर ‘गिरफ्तार ईनामी नक्सली’ के कागजात एक दूसरी ही कहनी बयां कर रहे हैं। उनके पास आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र और राशन कार्ड मौजूद है और इन सभी कागजात पर उनका नाम राजकुमार किस्कू है। 2016 में उसे प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सरकार से घर बनाने के लिए पैसे भी मिले हैं, हालांकि यह पैसा उनकी पत्नी प्रमिला हेम्ब्रम के बैंक अकांउट में आया था, लेकिन उसमें भी पति का नाम राजकुमार किस्कू ही दर्ज है। राजकुमार किस्कू गिरिडीह जिले के पीरटांड़ थानान्तर्गत झरहा के रहने वाले हैं।

राजकुमार किस्कू की पत्नी प्रमिला हेंब्रम बताती हैं कि ‘मेरे पति हमेशा से गांव में ही रह रहे हैं। पहले पत्ता का छोटा सा बिजनेस करते थे, लेकिन 4-5 साल पूर्व से ही हम दोनों पति-पत्नी मांझीडीह चौक पर पीरटांड जिला परिषद् सदस्य सबीना हांसदा के दुकान को किराये पर लेकर एक छोटा सा होटल चला रहे थे। जिसमें चाय, पकौड़े, समोसा व कभी-कभार मुर्गा भी बनाकर बेचते थे। हमारी दुकान डुमरी-गिरिडीह मुख्य पथ पर है और कई बार पीरटांड़ थाने के पुलिस जवान भी हमारे दुकान में चाय-पकौड़े खाये हैं। हरेक चुनाव में मेरे दुकान के बगल में स्थित विद्यालय में अर्द्धसैनिक बलों के कैंप लगते हैं और वे लोग भी हमारे दुकान पर बैठते थे।’

वह कहती हैं कि ‘हर दिन की तरह 12 जुलाई को हम दोनों पति-पत्नी दुकान पर ही थे, दिन के 12 बजे के लगभग पुलिस की गाड़ी आयी और एक अफसर ने मेरे पति से आधार कार्ड मांगा। उन्होंने आधार कार्ड लेकर देखने के बाद मेरे पति को कहा कि थाना चलो कुछ पूछताछ करनी है और मेरे पति को लेकर पीरटांड़ थाना चले गये। मैं भी पीछे-पीछे थाना आयी।

पुलिस ने मुझे बताया कि पूछताछ कर शाम में छोड़ दूंगा। 12 जुलाई की रात-भर मैं पति के घर आने का इंतजार करती रही लेकिन वे नहीं आये। 13 जुलाई की सुबह मैं फिर थाना पहुंची, तो पुलिस आफिसर ने मुझे इनके भाइयों को बुलाने को कहा। मैं इनके सभी भाइयों को थाने ले गयी। उन लोगों से भी पुलिस ने पूछताछ की और बोला की शाम तक छोड़ देंगे। लेकिन 14 जुलाई को अखबार में छपा कि मेरे पति को ईनामी नक्सली बताकर जेल भेज दिया गया है। मेरे दो छोटे-छोटे बच्चे हैं और अब अकेले दुकान चलाना मुश्किल है, इसलिए तब से ही दुकान भी बंद है।’

राजकुमार की बंद पड़ी दुकान।

वे सवाल करती हैं कि ‘अगर मेरे पति ईनामी नक्सली होते, तो मुख्य सड़क पर 4-5 साल से दुकान क्यों चलाते?

प्रमिला हेंब्रम अपने पति की गिरफ्तारी 12 जुलाई को बता रही हैं, जबकि गिरिडीह एसपी ने 13 जुलाई को गिरफ्तार करने की बात कही थी। आखिर गिरफ्तारी की तिथि में हेर-फर क्यों? प्रमिला हेम्ब्रम की बात से सहमति जताते हुए पीरटांड के जिला परिषद् अध्यक्ष के पति रविलाल किस्कू ने भी कहा कि मेरे ही दुकान में किराये पर पिछले 4-5 साल से राजकुमार किस्कू व इनकी पत्नी दुकान चला रही हैं।

प्रेस कांफ्रेंस करते गिरिडीह के एसपी।

राजकुमार किस्कू की गिरफ्तारी के मामले पर उनके पिता बाबूलाल किस्कू बताते हैं कि ‘मेरे सात बेटे थे, एक बेटे की मृत्यु हाल-फिलहाल ही हुई है। राजकुमार के अलावा और तीन नाम किशोर चंद किस्कू, अनिल किस्कू और तूफान मांझी पुलिस बता रही है, यह सच नहीं है। हां, राजकुमार के बड़े भाई का नाम किशोर लाल किस्कू जरूर है, जो कि आज से 15-16 साल पहले ही विक्षिप्त अवस्था में घर से गायब हो गया था, जिसका अब तक पता नहीं चला है। उससे एक बेटी भी है, जो उस समय मात्र 2 साल की थी, अब उसकी शादी भी हो गई है। अगर पुलिस राजकुमार को किशोर समझ कर गिरफ्तार की है, तो यह हमारे ऊपर बहुत बड़ा अन्याय है।’

बाबूलाल किस्कू कहते हैं कि अगर मेरा बेटा इतना बड़ा नक्सली था और उसके ऊपर इतने मुकदमे थे, तो फिर आज तक हमारे घर में पुलिस या न्यायालय का एक भी नोटिस क्यों नहीं आया? जबकि राजकुमार का राशन कार्ड, आधर कार्ड, मतदाता पहचान पत्र जैसे सभी वैध कागजात हैं, वह हर चुनाव में वोटिंग करता रहा है, वह खुलेआम मुख्य पथ पर दुकान चला रहा है, तो फिर पूछताछ के नाम पर एक दिन थाना में रखने के बाद गिरफ्तारी दिखाकर जेल भेज देना कहां का न्याय है?’

गिरिडीह एसपी और राजकुमार किस्कू के परिजनों के पास मौजूद सभी साक्ष्यों को देखने से तो यही लगता है के पुलिस की कहानी में काफी झोल है और पुलिस की कहानी पर सवाल ही सवाल है।

राजकुमार के पिता।

झारखंड में पिछली भाजपा सरकार के भी कार्यकाल में कई फर्जी मुठभेड़ और फर्जी गिरफ्तारियां चर्चा का विषय बनी थीं, जिसमें कई मामले में अभी जांच चल भी रही है। झारखंड में दिसंबर 2019 में सत्ता परिवर्तन तो हो गया, लेकिन यहां के आदिवासियों-मूलवासियों पर नक्सली के नाम पर पुलिसिया जुल्म यथावत जारी है।

(रूपेश कुमार सिंह स्वतंत्र पत्रकार हैं और आजकल रामगढ़ में रहते हैं।)

This post was last modified on July 15, 2020 3:30 pm

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

कल हरियाणा के किसान करेंगे चक्का जाम

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के तीन कृषि बिलों के विरोध में हरियाणा और पंजाब के…

5 hours ago

प्रधानमंत्री बताएं लोकसभा में पारित किस बिल में किसानों को एमएसपी पर खरीद की गारंटी दी गई है?

नई दिल्ली। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के वर्किंग ग्रुप के सदस्य एवं पूर्व…

6 hours ago

पाटलिपुत्र का रण: जनता के मूड को भांप पाना मुश्किल

प्रगति के भ्रम और विकास के सच में झूलता बिहार 2020 के अंतिम दौर में एक बार फिर…

7 hours ago

जनता के ‘मन की बात’ से घबराये मोदी की सोशल मीडिया को उससे दूर करने की क़वायद

करीब दस दिन पहले पत्रकार मित्र आरज़ू आलम से फोन पर बात हुई। पहले कोविड-19…

9 hours ago

फिल्म-आलोचक मैथिली राव का कंगना को पत्र, कहा- ‘एनटायर इंडियन सिनेमा’ न सही हिंदी सिनेमा के इतिहास का थोड़ा ज्ञान ज़रूर रखो

(जानी-मानी फिल्म-आलोचक और लेखिका Maithili Rao के कंगना रनौत को अग्रेज़ी में लिखे पत्र (उनके…

11 hours ago

पुस्तक समीक्षा: झूठ की ज़ुबान पर बैठे दमनकारी तंत्र की अंतर्कथा

“मैं यहां महज़ कहानी पढ़ने नहीं आया था। इस शहर ने एक बेहतरीन कलाकार और…

12 hours ago