Monday, November 29, 2021

Add News

Dalit

स्व-श्रेष्ठता के दंभ में हर किसी को खारिज करने के खतरे

अभी हाल की बात है, एक दिन मैंने अपने फेसबुक पेज पर दक्षिणपंथी खेमे के एक वरिष्ठ संपादक की असमय मौत पर दुख प्रकट करते हुए संक्षिप्त श्रद्धांजलि-लेख लिखा। इस पर कुछ ‘वामपंथी’ और ‘समाजवादी’ किस्म के बुद्धिजीवी खासे...

पहचान की राजनीति को तोड़ते हुए नये फलक पर जनता के बीच एकता बना रहा है किसान आंदोलन

विगत 30 और 35 वर्षों का भारतीय लोकतंत्रिक इतिहास मूलत, पहचान की राजनीति और प्रतीकात्मकता के दायरे में ही घूमता रहा है। ‘गर्व से कहो हम हिंदू हैं’ के कर्कश शोर के बीच, इसके समानांतर पिछड़े दलित होने की...

भाजपा-जदयू का शासन दलित उत्पीड़न व हिरासत में हत्याओं का शासन: माले

पटना। भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने कहा है कि बिहार में भाजपा-जदयू का शासन दलित उत्पीड़न व हिरासत में पुलिस द्वारा की जा रही हत्याओं के शासन में बदल गया है। जहानाबाद में कुछ दिन पहले हिरासत में पुलिस...

सिलेंडर नहीं, सरकार ने हाथी दे दिया जिसे पालना है मुश्किल!

ग्रामीण इलाकों की दलित बहुजन महिलाओं का अस्तित्व ईंधन का पर्याय रहा है। आज 21वीं सदी के तीसरे दशक में भी उस स्थिति में बहुत बदलाव नज़र नहीं आता है। आज भी सुबह से शाम तक ग्रामीण इलाके की...

बहुजन आंदोलन की प्रतिनिधि इतिहासकार थीं गेल ओमवेट

गेल ओमवेट भारत के, विशेषकर आधुनिक भारत के बहुजन आंदोलन की एक प्रतिनिधि इतिहासकार थीं। मेरा आधुनिक बहुजन आंदोलन से अर्थ ज्योतिराव फुले ( 11 अप्रैल 1827-28 नवंबर 1890) से लेकर डॉ. आंबेडकर ( 14 अप्रैल 1891-6 दिसंबर 1956)...

महाराष्ट्र: काला जादू के शक़ में 7 दलितों की मॉब लिंचिंग, 5 की हालत गंभीर

महाराष्ट्र की जिस ज़मीन पर अंधविश्वास और जादू टोना जैसी धार्मिक बुराईयों से आम जन को बचाने के लिये नरेंद्र दाभोलकर ने अपनी जान दे दी उसी महाराष्ट्र में काला जादू के शक़ में 7 दलितों की मॉब लिंचिंग...

सवर्ण आयोग: अतीत के वर्चस्व की कायमी का नया शिगूफा

सोशल मीडिया पर हिमाचल प्रदेश में 2 अगस्त को सवर्ण आयोग गठित करने के लिए एक रैली के आयोजन की खबर को खूब साझा किया जा रहा था तो हम तक भी यह खबर पहुंची। अभी खबर पढ़ कर...

हमारे समय का डरावना यथार्थ पेश करती है फिल्म ‘200: हल्ला हो’

दलितों के शोषण और उसके प्रतिकार पर बनी ‘200: हल्ला हो’ झकझोरने वाली फ़िल्म है।  2004 में नागपुर में दलित महिलाओं के एक समूह ने बलात्कार और यौन शोषण के एक आरोपी अक्कू यादव की भरी अदालत में हत्या...

भारतीय सिनेमा और दलित पहचान : भारत जैसे जातिग्रस्त समाज के लिए ज़रूरी है `पेरारियात्तवर`

(ऐतिहासिक तौर पर भारतीय सिनेमा ने जहाँ फ़िल्मों के निर्माण में दलितों के श्रम का शोषण किया है वहीं उनकी कहानियों को मिटाया और हड़पा है। यह सब अकस्मात न था। परदे पर जब उनकी कहानियाँ दिखलाई जातीं तो...

हॉकी खिलाड़ी वंदना के हरिद्वार स्थित घर पर आपत्तिजनक जातिवादी टिप्पणी करने वालों में एक गिरफ्तार

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक में सेमीफाइनल मैच में भारतीय महिला हॉकी टीम के अर्जेंटीना के हाथों परास्त होने के बाद टीम की सदस्य वंदना कटारिया के ख़िलाफ़ जातिवादी टिप्पणी करने का मामला सामने आया है। इतना ही नहीं जातीय...
- Advertisement -spot_img

Latest News

भारत-माता का संदर्भ और नागरिक, देश तथा समाज का प्रसंग

'भारत माता की जय' भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान सबसे अधिक लगाया जाने वाला नारा था। भारत माता का...
- Advertisement -spot_img