Monday, August 15, 2022

electronic

व्यवसायिक हित स्वतंत्र पत्रकारिता पर हावी, लोकतंत्र से समझौता:चीफ जस्टिस

चीफ जस्टिस एनवी रमना ने मीडिया पर व्यापारिक घरानों के वर्चस्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब एक मीडिया हाउस के अन्य व्यवसायिक हित होते हैं, तो वह बाहरी दबावों के प्रति संवेदनशील हो जाता है। अक्सर, व्यवसायिक हित स्वतंत्र पत्रकारिता...

ई-वेस्ट स्पेशल: शहरों में मुसीबत का पहाड़ बनता जा रहा है इलेक्ट्रॉनिक कचरा

पिछले दो दशक में जिस प्रकार से इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं के उपयोग में क्रन्तिकारी बढ़ोत्तरी हुई है। इसी प्रकार से इलेक्ट्रॉनिक कचरों में भी वृद्धि हुई है। वर्ष 2005 में देश में 1.46 लाख मीट्रिक टन e-waste निकला था। जो...

मुंडका अग्निकांड के खिलाफ दिल्ली सचिवालय पर विरोध-प्रदर्शन

दिल्ली। 17 मई को मुंडका में फैक्टरी अग्निकांड में 27 से अधिक मजदूरों की मौत के खिलाफ शहर में मजदूरों मेहनतकशों के बीच काम करने वाले मजदूर संगठनों, जनपक्षधर संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने संयुक्त रुप से विरोध प्रदर्शन...

सत्ता के सामने नतमस्तक भारतीय मीडिया

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का काम यह होना चाहिए था कि वह लोगों को जागरूक करे किन्तु टीआरपी के चलते समाचार चैनल इन दिनों किसी भी खबर को सनसनी बनाकर पेश करने से नहीं चूक रहे। यह चिंताजनक स्थिति है। अगर...

झारखंड में डीएसपी ने की पत्रकार की पिटाई

विगत 10 अप्रैल को झारखंड के चतरा जिला समाहरणालय स्थित डीएसपी कार्यालय में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ईटीवी भारत के पत्रकार अरबाज की उस वक्त पिटाई कर दी गई जब वे लगभग तीन बजे अपने एक सहयोगी के साथ एक केस...

सोशल मीडिया से घबरायी मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से की रेगुलेशन की मांग

क्या नरेंद्र मोदी सरकार नहीं चाहती कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर उच्चतम न्यायालय नकेल लगाये ? क्या सरकार गोदी मीडिया और उसके एंकरों अर्णब गोस्वामी, अमीष देवगन, सुधीर चौधरी, अंजना ओम कश्यप, दीपक चौरसिया, सरदाना और रजत शर्मा आदि द्वारा ऐन केन...

झारखंड में ‘प्रभात खबर’ और ‘हिंदुस्तान’ ने पत्रकारिता को बेच खाया है!

क्या झारखंड में 'प्रभात खबर' और 'हिन्दुस्तान' अखबार सीआरपीएफ से डरते हैं? सवाल थोड़ा अटपटा जरूर है, लेकिन जब आप इस खबर को पढ़ेंगे, तब आपको इस सवाल का जवाब भी मिल जाएगा। दरअसल झारखंड ही नहीं पूरे देश में...
- Advertisement -spot_img

Latest News

जश्न और जुलूसों के नाम थी आज़ादी की वह सुबह

देश की आज़ादी लाखों-लाख लोगों की कु़र्बानियों का नतीज़ा है। जिसमें लेखक, कलाकारों और संस्कृतिकर्मियों ने भी अपनी बड़ी...
- Advertisement -spot_img