Wednesday, June 29, 2022

संदीप पांडेय

चुनाव आयोग को सौ प्रतिशत वीवीपैट पर्चियां गिननी चाहिए

हालांकि योगी आदियनाथ दोबारा मुख्यमंत्री बन गए हैं लेकिन 2022 के उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव के परिणाम संदेहास्पद हैं। चुनाव अभियान के दौरान उ.प्र. में एक बदलाव की लहर दिखाई पड़ रही थी। लोग भाजपा सरकार की...

युद्ध अपने आप में होता है मानव विरोधी

रूस-यूक्रेन युद्ध के दो पक्ष सुनने को मिल रहे हैं। एक तो रूस को आक्रांता मान कर तुरंत उससे युद्ध रोकने को कह रहा है। दूसरा अमेरिका की विदेश नीति को इस युद्ध का कारण मानता है। 1991 में...

उत्तर प्रदेश बदलाव की राह पर 

उत्तर प्रदेश का चुनाव अपने आखिरी पड़ाव पर है। पहले तो यह लग रहा था कि सिर्फ पश्चिमी उ.प्र. में ही जहां किसान आंदोलन का असर है, समाजवादी पार्टी व राष्ट्रीय लोक दल का गठबंधन भारतीय जनता पार्टी पर...

गौशाला की व्यवस्था न कर पाने पर सरकार खोले गायों का बाजार

28 दिसम्बर को हरदोई जिले के पांच गावों-चमका, ग्राम सभा सिकंदरपुर, फतेहपुर व बंजरा, ग्राम सभा घेरवा, जीवन खेड़ा, ग्राम सभा भरावन व दूलानगर, ग्राम सभा दूलानगर के ग्रामीण उप जिलाधिकारी को एक दिन पूर्व सूचना देकर अपने गांवों...

विकास ही सबसे अच्छा गर्भ-निरोधक है

विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन के अनुसार, क्षय रोग (टीबी) का सबसे बड़ा खतरा कु-पोषण है। ज़ाहिर सी बात है कि यदि टीबी उन्मूलन के सपने को साकार करना है तो कु-पोषण को नज़रंदाज़ नहीं...

स्वर्ग को नर्क बनाने की कोशिश

धरती पर स्वर्ग की क्या कल्पना हो सकती है? जहां लोग आपस में मिलकर रहते हों। कोई किसी से झगड़ा न करता हो। कोई अपराध न होता हो। आर्थिक विषमता ज्यादा न हो। लोगों को शराब या नशे की...

क्या कर रहे हैं करोना काल में भाजपा नेता

जब लखनऊ के कुछ अस्पतालों ने आक्सीजन की कमी की सूचना अपनी दीवारों पर चिपकाई तो उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री ने 24 अप्रैल 2021 को चेतावनी दी कि जो लोग अस्पतालों में आक्सीजन की कमी की अफवाह फैलाएंगे...

गंगा आंदोलन का किसान आंदोलन से सीधा रिश्ता

जिस तरह किसान आंदोलन में अब तक तीन सौ से ऊपर किसानों और हमें नहीं भूलना चाहिए कि तीन घोड़ों ने भी शहादत दी है ठीक उसी तरह गंगा को बचाने को लेकर अभी तक चार साधुओं का बलिदान...

मोदी ने कर दी है किसानों के चंपारण दौर में जाने की व्यवस्था

पूरे देश ने देखा है कि किस तरह से केन्द्र सरकार ने संसद से बिना बहस या मतदान के तीन कृषि सम्बंधित विधेयक जल्दीबाजी में पारित करवाए। यह अब मोदी सरकार का संसद से निर्णय करवाने का एक तरीका...

फैसल खान मामलाः सद्भाव जिसका मिशन हो वो कैसे बिगाड़ सकता है अमन

48 वर्षीय फैसल खान ने अपनी सारी जिंदगी सांप्रदायिक सद्भावना के काम के लिए लगा दी है। लोगों के बीच में शांति और सौहार्द बना रहे, इसके लिए न जाने उन्होंने कितनी यात्राएं की हैं, सिर्फ भारत के अंदर...

About Me

22 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

छत्तीसगढ़: भूमि अधिकार आंदोलन के तहत आयोजित हुआ राज्य स्तरीय सम्मेलन 

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के पास्टोरल सेंटर में भूमि अधिकार आंदोलन का राज्य सम्मेलन आयोजित हुआ। 28 जून...