Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

तानाशाही के खिलाफ बुलंद आवाज का नाम है अमर सिंह चमकीला

1 comment

‘अमर सिंह चमकीला’ साधारण बायोपिक फ़िल्म होते हुए भी असाधारण फ़िल्म है। इम्तियाज अली सोसाइटी के दबाए जाने वाले डिस्कोर्स को पॉपुलर तरीके से परोसने [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

‘मुक्तेश्वर टू मुंबई’ तैयार हुई समोसा एंड सन्स

उत्तराखंड राज्य में रहकर मुंबई फिल्म इंडस्ट्री के लिए यह फ़िल्म बनाना ‘समोसा एंड सन्स’ के मेकरों के लिए आसान नहीं रहा था। इसके बारे [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

‘घोड़े को जलेबी खिलाने जा रिया हूं’ फिल्म में यथार्थ का प्रभावशाली चित्रण

0 comments

अनामिका हक्सर की फिल्म ‘घोड़े को जलेबी खिलाने जा रिया हूं’ बहुत गहरा प्रभाव छोड़ती है। यह फिल्म कई मायने में सफल कही जाएगी। फिल्म [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

रणदीप हुड्डा की फिल्म और सत्ता के भूखे लोग

पिछले एक दशक से इस देश की सांस्कृतिक, धार्मिक, और ऐतिहासिक अवधारणाओं को बदलने का लगातार प्रयास हो रहा हैं। जिस तरह से सिर्फ दो [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

बाबागिरी को बेनकाब करता अकेला बंदा

‘ये दिलाये फतह, लॉ है इसका धंधा, ये है रब का बंदा’। जब ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ शुरू होती है और मनोज बाजपेयी को [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

फिल्म ‘द केरला स्टोरी’ बनी दुष्प्रचार का हथियार

केरल का नाम सुनते ही हमारे मन में उभरता है एक ऐसा राज्य जहां शांति और सद्भाव का राज है, जहां निरक्षता का निर्मूलन हो [more…]

Estimated read time 5 min read
संस्कृति-समाज

रणवीर सिंह के निधन पर विशेष: अस्त हो गया आधुनिक रंगमंच का एक चमकता नक्षत्र

आधुनिक रंगमंच के गहन अध्येता, अभिनेता-निर्देशक, नाट्य आलोचक और नाटककार रणवीर सिंह दुनिया के इस विशाल रंगमंच पर अपनी भूमिका निभाकर, हमेशा के लिए नेपथ्य में [more…]

Estimated read time 2 min read
संस्कृति-समाज

जन्मदिन पर विशेष:अमरोहा के हसनपुर में खेली-कूदी हैं सायरा

सायरा बानो उस वक्त कोई बड़ी हस्ती नहीं थीं जब उन्होंने बॉलीवुड के ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार को अपने सपनों का राजकुमार माना था। 23 अगस्त [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

देवी काली और विविधवर्णी हिन्दू धर्म 

एक टीवी बहस में पैगम्बर मुहम्मद के बारे में नूपुर शर्मा की एक टिप्पणी को ईशनिंदा माना गया। इसके बाद खाड़ी के कुछ देशों व [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

प्रेम धवन, जिनके गाने आज भी लोगों को देश प्रेम के रंग में डुबो देते हैं

प्रेम धवन की शिनाख़्त एक वतनपरस्त गीतकार की रही है। जिन्होंने अपने गीतों से देशवासियों में वतनपरस्ती का जज़्बा जगाया। एकता और भाईचारे का पैग़ाम [more…]