Estimated read time 1 min read
बीच बहस

नुरेम्बर्ग के अब्र-ए-सियाह: 2024 आम चुनाव आज़ादी के बाद के सबसे महत्वपूर्ण चुनाव साबित होने वाले हैं!

भारतीय गणराज्य के सफ़र में कुछ राष्ट्रीय चुनाव मील के पत्थर साबित हुए हैं। आज़ाद भारत के 1951-52 के पहले चुनावों ने व्यापक तौर पर [more…]

Estimated read time 1 min read
पहला पन्ना 

अधूरा सच-सफेद झूठ और परनिंदा की चाशनी में लिपटा था पीएम मोदी का पूरा भाषण

अधूरा सच-सफेद झूठ, परनिंदा, नए-नए शिगूफे, धार्मिक व सांप्रदायिक प्रतीकों का इस्तेमाल और आत्मप्रशंसा! यही पांच प्रमुख तत्व होते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हर [more…]

Estimated read time 0 min read
संस्कृति-समाज

आजादी के पहले का भारत समझना है तो प्रेमचंद, आजादी के बाद का भारत समझना है तो परसाई को पढ़ें

इंदौर। आजादी के पहले का हिंदुस्तान समझने के लिए प्रेमचंद को पढ़ना जरूरी है। अंग्रेजों और उनसे पहले मुगलों ने भी भारत को समझने के [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

जस्टिस फॉर जज-2: जस्टिस कुरियन जोसेफ के आरोपों पर जस्टिस गोगोई ने कोई सफाई नहीं दी

अपने निजी जीवन और पेशेवर कारणों से विवादों में रह चुके पूर्व चीफ जस्टिस  रंजन गोगोई अपने संस्मरण ‘जस्टिस फॉर जज’ को लेकर एक बार [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

मेरा रंग फ़ाउंडेशन के वार्षिकोत्सव में महिलाओं की आर्थिक आत्मनिर्भरता पर चर्चा

0 comments

मेरा रंग फ़ाउंडेशन के पांचवें वार्षिकोत्सव में महिला उद्यमिता पर बातचीत हुई। ‘सफलता की उड़ान’ शीर्षक से आयोजित पैनल डिस्कशन में अलग-अलग क्षेत्रों से आई [more…]

Estimated read time 1 min read
पहला पन्ना 

प्रधानमंत्री का स्वतन्त्रता दिवस उद्बोधन: वे बोले तो बहुत किंतु कहा कुछ नहीं

यह पहली बार हुआ है कि देश के प्रधानमंत्री के स्वतंत्रता दिवस उद्बोधन को किसी गंभीर चर्चा के योग्य नहीं समझा गया। यहाँ तक कि [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

सत्ता के सामने नतमस्तक भारतीय मीडिया

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का काम यह होना चाहिए था कि वह लोगों को जागरूक करे किन्तु टीआरपी के चलते समाचार चैनल इन दिनों किसी भी खबर [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

अदालतों ने बजाई आजादी की घंटी

जब-जब हमारी उम्मीद टूटने लगी है, तब तब एक संकेत जरूर उभरा है कि व्यक्ति स्वातंत्र्य की सुरक्षा कोई गुम हुआ अभियान नहीं है। जब [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस माहेश्वरी का मत

सभ्यता के इतिहास के पैमानों पर भारत का किसान संघर्ष

भारत का किसान लगता है जैसे अपनी कुंभकर्णी नींद से जाग गया है। अपने इतने विशाल संख्या-बल के बावजूद संसदीय जनतंत्र में जिसकी आवाज का [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

संविधान दिवस पर विशेष: डॉ. आंबेडकर को ही भारतीय संविधान का निर्माता क्यों कहा जाता है?

26 नवंबर 1949 को डॉ. भीमाराव आंबेडकर ने भारतीय संविधान को राष्ट्र को समर्पित किया था। संविधान सभा के निर्मात्री समिति के अध्यक्ष डॉ. आंबेडकर [more…]