Sunday, March 3, 2024

islam

फिलिस्तीन इजराइल युद्ध-2: अरबी समाज के नवजागरण का सवाल

फिलिस्तीन के किसानों की जमीन पर इजराइल के लगातार बढ़ते कब्ज़े से 1945 के बाद ही तनाव बढ़ने लगा था। लगभग 450 से ज्यादा बस्तियों में बसे हुए फिलिस्तीनी लोग मूलत: कृषक थे। जिनका जीवन खेती- किसानी और पशुपालन...

अंतरराष्ट्रीय नागरिक समूहों ने थॉमसन-रॉयटर्स से ‘इस्लामोफोबिक’ ANI से रिश्ता तोड़ने की मांग की

संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और भारत में सक्रिय 35 से अधिक नागरिक अधिकार और अंतरधार्मिक संगठनों के एक व्यापक समूह ने थॉमसन-रॉयटर्स से आग्रह किया है कि वह भारत की समाचार एजेंसी एएनआई (एशियन न्यूज़ एजेंसी) से...

क्यों इस्लाम-ईसाई धर्म स्वीकार करने वाले दलित भी ‘दलित’ ही हैं

इस्लाम और ईसाई धर्म को मानने वाले दलितों के संवैधानिक अधिकारों के मसले पर बहुजन राजनीति के भीतर ‘साम्प्रदायिकता’ ने दबे पांव गहराई तक घुसपैठ की है। यह 2024 के चुनाव से पहले सतह पर नजर आ सकती है,...

यूसीसी: मुस्लिम महिलाओं के बलात्कारियों के साथ खड़े होकर उनके लिए न्याय की बात न करें प्रधानमंत्री जी!

अगर पहली नजर में देखें तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रगतिशील मुस्लिम महिलाएं और पुरुष एक तरह समान नागरिक संहिता पर  सोचते दिखेंगे। दोनों समान नागरिक संहिता (यूसीसी) के पक्ष में हैं जो भारतीय संविधान के निदेशक सिद्धांतों (अनुच्छेद...

फेक केरल स्टोरी बनाम रियल गुजरात स्टोरी 

फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ को लेकर जारी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। केरल उच्च न्यायालय में इसे प्रतिबंधित किये जाने की याचिका ख़ारिज हो जाने के बाद याचिकाकर्ताओं ने सर्वोच्च न्यायालय का रुख किया था, लेकिन...

हिजाब बैन पर आर्टिकल-145(3)के तहत क्या संविधान पीठ सुनवाई करेगी ?

हिजाब पर बैन के मामले में सुप्रीम कोर्ट के दो जजों जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस सुधांशु धूलिया की पीठ में एकराय नहीं बन सकी है। अब इसे नई पीठ  को सौंपने का फैसला चीफ जस्टिस यूयू ललित को...

कर्नाटक हाईकोर्ट को हिजाब इस्लाम में आवश्यक प्रैक्टिस है या नहीं है जैसी चीजों में नहीं जाना चाहिए था: जस्टिस धूलिया

हिजाब मामले में मंगलवार 20 सितंबर को आठवें दिन सुनवाई में जस्टिस सुधांशु धूलिया ने बहुत महत्वपूर्ण मौखिक टिप्पणी की। जस्टिस धूलिया ने कहा कि कर्नाटक हाईकोर्ट को हिजाब इस्लाम में आवश्यक प्रैक्टिस है या नहीं है जैसी चीजों...

सर्व धर्म समभाव की भावना भी अब नफ़रत के निशाने पर

मुग़ल-ए-आजम अक़बर और राष्ट्रपिता गांधी के 'सर्व धर्म समभाव' की विचारधारा को मजबूत करना भी अब कम ख़तरनाक नहीं है, विशेषकर आज के समय में जबकि हिंदुत्व की आक्रामक विचारधारा और हिंसा को सत्ता का खुला समर्थन व प्रश्रय...

भाजपा ने कहा वह सर्वधर्म समभाव और संविधान में विश्वास करती है ! 

भाजपा ने एक विज्ञप्ति जारी कर यह कहा है कि, " भारत की हजारों वर्षों की यात्रा में हर धर्म पुष्पित पल्लवित हुआ है। भारतीय जनता पार्टी सर्वपंथ समभाव को मानती है। किसी भी धर्म के पूजनीयों का अपमान भाजपा...

जन्मदिन पर विशेष: जिंदा रहते किंवदंती बन गए थे नजरुल इस्लाम

काजी नज़रुल इस्लाम (24 मई 1899 - 29 अगस्त 1976) बांग्ला के एक प्रसिद्ध कवि, लेखक, संगीतकार और बांग्लादेश के राष्ट्रीय कवि थे। नजरुल को बांग्ला साहित्य के सबसे महान कवियों में से एक माना जाता है। नजरुल के...

Latest News

आदर्श का औपचारिक बनकर रह जाना भावात्मक और बौद्धिक दुर्गति की कथा लिखता है

केंद्रीय चुनाव आयोग ने प्रेस वार्ता में राजनीतिक दलों एवं प्रचारकों से अनुरोध और अपील किया है कि आदर्श...