Saturday, October 23, 2021

Add News

mines

पांच साल में 6500 लोग काम के दौरान मारे गये

पिछले पांच सालों में कारखानों, बंदरगाहों, खदानों और निर्माण स्थलों पर कम से 6500 कर्मचारियों की काम के दौरान मौत हुई है। यानि हर रोज 3.56 लोगों की मौत। ये जानकारी खुद केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने संसद को सूचित...

झारखंड: कोरोना के बाद डीरेल अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के हजारों हैं उपाय

हम लोग जब भारत की अर्थव्यवस्था और आत्मनिर्भरता पर शास्त्रीय अर्थशास्त्र और गाँधी के दृष्टिकोण से सोच रहे थे तब पहले झारखण्ड की आत्मनिर्भरता पर ध्यान केंद्रित किया। कई राजनैतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं से बात की। फिर वेबसाइट पर...

कोयला खदान निजीकरण: मोदी सरकार बनाम हेमंत सरकार

देश की सर्वोच्च सरकारी कंपनियों और धरोहरों के निजीकरण के बाद अब मध्य भारत की कोयला खदानें मोदी सरकार के निशाने पर हैं। मोदी सरकार ने नीलामी के लिए कोयला खदानों को सूचीबद्ध भी कर लिया है। इस सूची में ओड़ीशा, छत्तीसगढ़, मध्य...

मुनाफे की बलि बेदी पर चढ़ गयी धान की लहलहाती फसल

आखिरकार जिसका डर था वही हो रहा है। हजारीबाग के पकरी बरवाडीह कोयला खदान परियोजना के तहत एनटीपीसी के अधीन त्रिवेणी सैनिक माइनिंग प्राईवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा किए जा रहे कोयला खनन से चुरचू इलाके के किसान काफी परेशान हैं। कोयला खनन...

मोदी सरकार पर 2जी से भी बड़े चार लाख करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

वो लोग आज जरा सामने आएं जो कहते हैं कि मोदी सरकार में कोई घोटाला नहीं हुआ। 4 लाख करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। जी हां ‘पूरे 4 लाख करोड़ का घोटाला’ लेकिन बिका हुआ मीडिया इस खबर...
- Advertisement -spot_img

Latest News

बीएसएल प्रबंधन के खिलाफ बोकारो के विस्थापितों ने फिर शुरू किया मेन गेट पर अनिश्चितकालीन धरना

झारखंड के बोकारो में स्थित बोकारो इस्पात संयंत्र (बीएसएल) के मेन गेट पर विस्थापितों ने 20 अक्टूबर से पुन:...
- Advertisement -spot_img