Wednesday, January 26, 2022

Add News

religion

काशी विश्वनाथ धाम कोरिडोर: धर्म क्षेत्र का कारपोरेटीकरण

प्रथमचरण 30 वर्ष पहले उदारीकरण निजीकरण और वैश्वीकरण की नीतियां भारत में लागू की गईं। जहां से भारत के विविध क्षेत्रों का निजीकरण यानी कॉरपोरेटाइजेशन शुरू हुआ। पहली प्राथमिकता थी कि इन नीतियों को आगे बढ़ाने के लिए अब तक...

आइए हम कन्वर्ट करें और खुद कन्वर्ट हो जाएं

मुझे एक सच कबूलना है। यह कि मैं कई बार परिवर्तित (कन्वर्ट) हुआ हूं। एक आस्था से दूसरी में,अंतहीन बार। और मैं तो बस इस अनुभव से प्यार करने लगा हूँ। कभी-कभी मैं एक रोचक पुस्तक को पढ़कर, किसी सम्मोहक...

हरिद्वार धर्मसंसद और जेनोसाइड वॉच की चेतावनी

हरिद्वार धर्म संसद में घृणावादी और भड़काऊ बयान देने वाले यति नरसिंहानंद को उत्तराखंड पुलिस से गिरफ्तार कर लिया है। पर यह गिरफ्तारी इस घृणासभा में भड़काऊ बयान देने के मामले में नहीं, बल्कि महिलाओं के प्रति अपमानजनक टिप्पणियों...

हिंदू कट्टरपंथी स्वामी विवेकानंद का करते हैं बेजा इस्तेमाल

भारतीय समाज में ऐसे कई समाज सुधारक हुए जिन्होंने समाज के ढ़ांचे को पूरी तरह बदल कर रख दिया। ऐसे ही समाज सुधारकों में से एक हैं विवेकानंद। विवेकानन्द बड़े स्‍वप्न‍दृष्‍टा थे। उन्‍होंने एक ऐसे समाज की कल्‍पना की...

विधानसभा चुनाव: इस बार ‘जातियुद्ध’ व ‘धर्मयुद्ध’ से बचेगा उप्र?

उत्तर प्रदेश में जब भी चुनाव आते हैं, वे लोकसभा के हों, विधानसभा के या फिर नगर निकायों और पंचायतों के ही क्यों न हों, उन्हें जातियों व धर्मों के युद्धों में बदलने की कोशिशें खासी तेज हो जाती...

संघ के संरक्षण में होते हैं धर्मांधता के सारे खेल

महात्मा गांधी को गाली देने वाले कालीचरण उर्फ अभिजीत सराग के विरुद्ध रायपुर (छत्तीसगढ़) पुलिस द्वारा देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और न्यायालय ने उसे दो दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। उधर पुणे...

कृषि कानूनों के फिर आने का बरकरार है खतरा

19 नवंबर को किसान आंदोलन के दबाव में तीन कृषि कानूनों को एक तरफा प्रधानमंत्री द्वारा घोषणा करके वापस लेने का ऐलान किया था। तो मैंने पहली टिप्पणी लिखते हुए कहा था कि, सावधानी हटी दुर्घटना घटी। उस टिप्पणी...

धर्म परिवर्तन से नहीं होगा जाति समस्या का खात्मा: भगवान दास

(भगवान दास अम्बेडकरवाद और अनुसूचित जातियों के मानवाधिकारों के मुद्दे पर सबसे प्रतिष्ठित विद्वानों में से एक थे। व्यापक रूप से यात्रा करने वाले, भगवान दास ने भारत में दलितों की स्थितियों पर विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्लेटफार्मों पर...

‘धर्म संसद’ ने एक बार फिर दिखाया- हिंदू धर्म कितना उदार!

हरिद्वार में संपन्न हुई तथाकथित धर्म संसद में जिस तरह से नरसंहार की बातें की गईँ, उससे एक बार फिर कई मिथ ध्वस्त हो गए हैं। वर्षों से और सुनियोजित तरीक़ों से ये मिथ गढ़े गए थे और इनके...

हरिद्वार में धर्म के नाम पर लंपटों और अपराधियों का हुआ था जमावड़ा

हरिद्वार में हुई तथाकथित धर्म-संसद के उस कार्यक्रम पर खूब चर्चा हो रही है जिसमें मुसलमानों के विरुद्ध हिंदू युवाओं का शस्त्र उठाने के लिए आह्वान किया गया। यानी कि हिंदू युवा पीढ़ी को दंगाई, आतंकवादी बनाने की बात...
- Advertisement -spot_img

Latest News

भारतीय गणतंत्र : कुछ खुले-अनखुले पन्ने

भारत को ब्रिटिश हुक्मरानी के आधिपत्य से 15 अगस्त 1947 को राजनीतिक स्वतन्त्रता प्राप्ति के 894 दिन बाद 26...
- Advertisement -spot_img