Tuesday, October 19, 2021

Add News

speech

धार्मिक कट्टरताओं का अंत चाहते थे विवेकानंद

वाराणसी। देश के अन्दर सबसे सक्रिय गैंग अगर कोई है तो वो है टीवी चैनल गैंग जो समाज में  मानसिक विभाजन पैदा कर नफरतों को परवान चढ़ा रहा है। आधा सच नहीं बल्कि पूरा झूठ का कारोबार ही इनका...

नफरत और हिंसा का इस्तेमाल जनता की एकता तोड़ने के लिए: सुभाषिनी

पूर्व सांसद तथा अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की उपाध्यक्षा सुभाषिनी अली ने नफ़रत फैलाने की योजनाबद्ध मुहिम के पीछे छुपी साजिश को बेनकाब करते हुए उसकी असली राजनीति को उजागर किया।  उन्होंने कई अनुभव गिनाते हुए कहा कि...

महज चुनाव में वोट देने भर से नहीं, आंदोलनों से जिंदा रहता है लोकतंत्र

प्रधानमंत्री ने आंदोलन करने वाले किसान नेताओं को आंदोलनजीवी कहा है। उनका मानना है कि आंदोलन करना कुछ लोगों का धंधा है। यह बयान उनकी नासमझी दर्शाता है। असल में इंसानी समाज आंदोलन से ही आगे बढ़ा है। रोम...

ऐसा लगा कि प्रधानमंत्री का नहीं बल्कि संबित पात्रा का भाषण हो रहा है!

एक राजनेता के तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'ख्याति’ भले ही मजमा जुटाऊ एक कामयाब भाषणबाज के तौर पर हो, लेकिन उन पर यह 'आरोप’ कतई नहीं लग सकता है कि वे एक शालीन और गंभीर वक्ता हैं!...

कामरा के खिलाफ अवमानना केस: फ्रीडम ऑफ स्पीच का मतलब सुप्रीम कोर्ट की गरिमा को ठेस पहुंचाना नहीं

भारत के एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने यह कहते हुए कि लोगों को आजकल लगता है कि वो मुखर और अंधाधुंध तरीके से उच्चतम न्यायालय  और जजों की निंदा कर सकते हैं और ऐसा करके उन्हें लगता है कि...

जीत के बाद जो बाइडेन ने कहा- घाव भरने का समय आ गया है, विभाजन नहीं एकता होगा मूल मंत्र

नई दिल्ली। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि घावों को भरने और अमेरिका की आत्मा को फिर से बहाल करने का समय आ गया है। उन्होंने एकता पर जोर देते हुए कहा कि "मैं एक...

मथुरा जेल से रिहाई के बाद डॉ. कफील ने कहा- मैं झुकूंगा नहीं! यूपी से बाहर राजस्थान में बिताएंगे कुछ दिन

नई दिल्ली। 'मैं झुकूंगा नहीं’ मथुरा जेल से निकलने के बाद डॉ. कफील खान के पहले वाक्य थे। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद कल देर रात वह जेल से रिहा कर दिए गए। उन्हें यूपी सरकार ने राष्ट्रीय...

लाल किले के प्राचीर से अधूरे सच, सफेद झूठ और आत्म प्रशंसा से भरा भाषण

अधूरा सच, सफेद झूठ, परनिंदा, नए-नए शिगूफे, धार्मिक और सांप्रदायिक प्रतीकों का इस्तेमाल और आत्म प्रशंसा! यही पांच प्रमुख तत्व होते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण में। मौका चाहे देश में हो या विदेश में, संसद में हो...

डॉ. कफील पर रासुका के तहत तीन महीने के लिए डिटेंशन बढ़ाया गया

एक ओर उच्चतम न्यायालय ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से 15 दिनों के भीतर डॉ. कफील खान की याचिका पर फैसला करने को कहा है, वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) 1980 के तहत डॉ. कफील...

अल्पसंख्यकों के साथ होगा निष्पक्ष और न्यायपूर्ण व्यवहार: 15 अगस्त, 1947 को मध्य रात्रि की असेंबली बैठक में डॉ. राजेंद्र प्रसाद

(15 अगस्त, 1947 की उस चर्चित मध्य रात्रि की बैठक में पंडित जवाहर लाल नेहरू की 'नियति से मुलाकात’ के भाषण का हमेशा जिक्र होता है। वह सचमुच में सदी का भाषण था। और उसके बाद से हर भारतीय...
- Advertisement -spot_img

Latest News

झारखंड में भी बेहद असरदार रहा देशव्यापी रेल रोको आंदोलन

18 अक्टूबर 2021 को संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा पूर्व घोषित देशव्यापी रेल रोको कार्यक्रम के तहत रांची में किसान...
- Advertisement -spot_img

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.