Monday, October 18, 2021

Add News

Treason

राजद्रोह कानून की संवैधानिक वैधता को एक बार फिर परखेगा सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय, राजद्रोह कानून की संवैधानिक वैधता को फिर परखने के लिए तैयार हो गया है। वर्ष 1962 के केदारनाथ सिंह बनाम बिहार सरकार मामले में उच्चतम न्यायालय ने इस कानून को वैध ठहराया था, लेकिन तब और अब...

अदालतों ने बजाई आजादी की घंटी

जब-जब हमारी उम्मीद टूटने लगी है, तब तब एक संकेत जरूर उभरा है कि व्यक्ति स्वातंत्र्य की सुरक्षा कोई गुम हुआ अभियान नहीं है। जब भारत पर विदेशियों का शासन था, तब भारत में यह विचार बहुत देर से...

ट्वीट मामले में थरूर, राजदीप समेत सात लोगों की गिरफ़्तारी पर सुप्रीम रोक

उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को सांसद शशि थरूर, पत्रकार राजदीप सरदेसाई, विनोद जोस, मृणाल पांडे, जफर आगा, अनंत नाथ और परेश नाथ की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी और कहा कि अगले आदेश तक इन लोगों को गिरफ़्तार नहीं...

देशद्रोह के मुकदमे के विरोध में उतरी पत्रकार बिरादरी, कहा- आपातकाल में भी नहीं हुआ ऐसा

प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, एडिटर गिल्ड ऑफ इंडिया, इंडियन वूमेंस प्रेस कार्प्स (IPWC) डेलही यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट (DUJ) और इंडियन जर्नलिस्ट यूनियन (IJU) ने मौजूदा किसान आंदोलन में रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों के खिलाफ़ देशद्रोह की धारा में केस...

केरल की वाम सरकार ने अध्यादेश किया रद्द, क्या मोदी सरकार जनविरोधी कानूनों को करेगी खत्म!

भारी जन विरोध का सम्मान करते हुए केरल के राज्यपाल ने केरल की वाममोर्चा सरकार की सिफारिश पर केरल पुलिस अधिनियम, 2011 की विवादास्पद धारा 118-ए को सम्मिलित करने वाले पहले वाले अध्यादेश को वापस ले लिया है। केरल...

कन्हैया पर राजद्रोह मामलाः सरकने लगा है केजरीवाल के चेहरे से धर्म निरपेक्षता का नकाब

दिल्ली विधानसभा के चुनाव खत्म हो चुके हैं। केजरीवाल की प्रचंड जीत के बाद उनके चेहरे से धर्मनिरपेक्षता का नकाब अब धीरे-धीरे सरक रहा है। कल तलक कन्हैया कुमार को निर्दोष मानने वाली दिल्ली सरकार ने अब कन्हैया कुमार...

कन्हैया कुमार पर राजद्रोह के मुक़दमे की अनुमति और राजद्रोह का कानून

दिल्ली सरकार ने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के पूर्व अध्यक्ष और कम्युनिस्ट पार्टी के नेता कन्हैया कुमार के विरुद्ध दर्ज सेडिशन के मुक़दमे धारा 124A के अंतर्गत मुक़दमा चलाने की अनुमति 28 फ़रवरी को दे दी। इस पर कन्हैया कुमार...

इकाई में क्यों सिमटी दिल्ली की यह लड़ाई!

दिल्ली विधान सभा चुनाव में जो हुआ वह अप्रत्याशित है। इसकी उम्मीद तो नहीं थी। भाजपा ने ढाई सौ सांसद, आधा दर्जन मुख्यमंत्री, दर्जन भर केंद्रीय मंत्री ही नहीं उतारे बल्कि विश्व स्तर के नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सावरकर जैसी दया की भीख किसी दूसरे ने नहीं मांगी

क्या सावरकर की जीवन यात्रा को दो भागों में मूल्यांकित करना ठीक है? क्या उनके जीवन का गौरवशाली और...
- Advertisement -spot_img

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.