Thursday, December 2, 2021

Add News

writer

सीपी-कमेंट्री: अफ्रीकी लेखक को साहित्य और एक महिला समेत दो पत्रकारों को शांति का नोबेल पुरस्कार

नोबेल पुरस्कारों के 2021 के विजेताओं का चयन बहुत अप्रत्याशित माना जा रहा है। अधिकतर लोगों ने शायद सोचा भी नहीं होगा कि इस बार नोबेल शांति पुरस्कार लोकतंत्र और टिकाऊ शांति के लिए आवश्यक अभियक्ति की आजादी की...

पुस्तक समीक्षा: एक यायावर की यादों के साथ रोमांचकारी पाठकीय यात्रा

देश के वरिष्ठ पत्रकार और प्रतिबद्ध लेखक-विचारक उर्मिलेश के संस्मरणों की किताब ' ग़ाज़ीपुर में क्रिस्टोफर कॉडवेल' के प्रकाशन की घोषणा हो चुकी है। नवारूण प्रकाशन से आने वाली यह किताब जल्द ही पाठकों के हाथ में होगी। प्रकाशन...

संस्मरण: नहीं रहे हरियाणा के जनबुद्धिजीवी डीआर चौधरी

शिक्षाविद, चिंतक, लेखक और हरियाणा लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष रहे दिल्ली विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त प्रोफेसर और 'पींग' साप्ताहिक के संस्थापक संपादक दौलत राम चौधरी  हमारे बीच नहीं रहे। उनका बीती रात रोहतक में उनके निवास पर निधन हो...

ऐसा आसां नहीं है सागर सरहदी होना

अभी-अभी इलाहाबाद के रंगकर्मी प्रवीण से खबर मिली कि सागर सरहदी नहीं रहे। सागर साहब मुंबई में थे, वहीं आज सुबह किसी लम्हे में उन्होंने  आखिरी सांस ले ली। सागर साहब के बारे में  करने के लिए मेरे पास...

पुण्यतिथिः कथ्य और संवेदना के स्तर पर मंटो के करीब है शानी का लेखन

शानी के मानी यूं तो दुश्मन होता है और गोयाकि ये तखल्लुस का रिवाज ज्यादातर शायरों में होता है, लेकिन शानी न तो किसी के दुश्मन हो सकते थे और न ही वे शायर थे। हां, अलबत्ता उनके लेखन...

डॉ. मुल्कराज आनंदः भारत के चार्ल्स डिकेंस

डॉ. मुल्कराज आनंद, मुल्क की उन बाकमाल शख्सियतों में शामिल हैं, जिन्होंने विदेशियों को यह बतलाया कि एक हिंदुस्तानी भी उन्हीं की जुबान में उन जैसा उत्कृष्ट लेखन कर सकता है। अंग्रेजी जुबान उनके लिए कोई टैबू नहीं है।...

टाटा लिटरेचर फेस्टिवल में दुनिया के मशहूर लेखक नोम चोमस्की का भाषण अचानक स्थगित

सितंबर 2020, में मुंबई (टाटा) लिटरेचर फेस्टिवल में विश्व प्रसिद्ध लेखक और चिंतक नोम चोमस्की और पत्रकार विजय प्रसाद को नोम की नव प्रकाशित और चर्चित पुस्तक 'इंटरनेश्नलिज्म ऑर इक्सटिंक्शन’ (अन्तराष्ट्रीयवाद या विलोपन) पर परिचर्चा के लिए आमंत्रित किया...

लेखक, छात्र, राजनेता, मजिस्ट्रेट और जज सभी फ़ासीवाद के खिलाफ एकजुट हों: अरुंधति रॉय

नई दिल्ली। चर्चित लेखिका और सामाजिक कार्यकर्ता अरुंधति राय ने लेखकों, छात्रों, राजनेताओं, मजिस्ट्रेटों, जजों सभी से फ़ासीवाद के खिलाफ एकजुट हो जाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पूरा समाज सड़ चुका है। देश का हर अंग...

कश्मीरी पत्रकार आसिफ सुल्तान की रिहाई के लिए लेखकों, पत्रकारों और अकादमीशियनों ने पीएम को लिखा खत

(लोकतंत्र तो पूरे देश में नाजुक हालत में है लेकिन कश्मीर की घाटी में यह मृत प्राय हो चुका है। आम नागरिक की बात तो दूर पत्रकारों और समाज के प्रतिष्ठित हिस्से तक को न्यूनतम नागरिक अधिकार मयस्सर नहीं...

क्यों सोशल साइट्स पर श्रद्धांजलि देने को उतावले रहते हैं हिन्दी के लेखक और कवि?

क्या हिन्दी के लेखक व कवि सोशल साइट्स पर श्रद्धांजलि देने के लिए उतावले रहते हैं? बेशक हाँ! मेरे एक कवि मित्र ने मुझे बताया कि हिन्दी के कई लेखक व कवि बहुत सारे वृद्ध प्रसिद्ध व्यक्तियों के संस्मरण...
- Advertisement -spot_img

Latest News

भारतीय कृषि के खिलाफ साम्राज्यवादी साजिश को शिकस्त

भारतीय किसानों ने मोदी सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने के लिए  बाध्य कर दिया। ये किसानों की...
- Advertisement -spot_img