ज़रूरी ख़बर

यूपी में एक और हैवानी घटना, ट्यूशन पढ़ने जा रही नाबालिग का अपहरण के बाद गैंगरेप फिर जहर देकर हत्या

नई दिल्ली। यूपी में गैंगरेप की एक और भयानक घटना सामने आयी है। जिसमें एक नाबालिग बच्ची को अपहरण करके दरिंदों ने पहले बलात्कार किया और फिर उसे जहर देकर मार डाला। घटना मेरठ की है। बच्ची की उम्र 15 साल थी और वह कक्षा 10 की छात्रा थी। मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है और बाकी की पुलिस तलाश कर रही है।

पीड़िता के भाई की ओर से लिखे गए एफआईआर में बताया गया है कि बच्ची ट्यूशन पढ़ने जा रही थी तभी रास्ते में उसके ही गांव के एक शख्स ने उसे रोक लिया और फिर तीन दूसरे लोगों के साथ उसका जबरन अपहरण कर लिया। और फिर सभी ने उसके साथ बारी-बारी से बलात्कार किया।

भाई ने बताया कि “जब वह नियत समय पर घर नहीं पहुंची तो हम स्ट्यूशन सेंटर पर गए लेकिन वहां हमें बताया गया कि वह नहीं आयी थी। उसके बाद हम लोगों ने उसकी तलाश तेज कर दी लेकिन उसका कोई फायदा नहीं हुआ। जब वह देर शाम घर पहुंची तो वह खून से लथपथ थी और उसके कपड़े फटे हुए थे। वह मुश्किल से बोल पा रही थी। हम लोग उसे अस्पताल ले गए जहां उसकी मौत हो गयी।”

मेरठ के एसपी केशव कुमार ने बताया कि “हम लोगों को गुरुवार को दोपहर में यह सूचना मिली कि मेरठ ग्रामीण के एक गांव में एक नाबालिग बच्ची की मौत हो गयी है। वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे और हमने परिवार से बात की। प्रथम दृष्ट्या ऐसा लगता है कि लड़की ने जहर खाकर जान दी है। खुदकुशी से संबंधित एक पत्र हासिल किया गया है जिसमें उसने मुख्य आरोपी का नाम लिखा है…..गैंगरेप और हत्या का एक एफआईआर दर्ज किया गया है और दो लोगों की गिरफ्तारी की गयी है।”

हालांकि लड़की का परिवार कहता है कि उसको आरोपियों ने ही जहर दिया था। लड़की के चाचा ने बताया कि “पुलिस कह रही है कि वहां एक सुसाइड नोट मौजूद था लेकिन सच्चाई यह है कि उसकी हत्या की गयी है। ये वही लोग थे जिन्होंने उसे जहर दिया।”

इसके जवाब में एसपी कुमार ने बताया कि “सुसाइड लेटर और उसका हस्तलेखन वास्तविक है लेकिन हम आगे की जांच के लिए उसे फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी भेज रहे हैं। परिवार के आरोपों के अनुसार एफआईआर दर्ज कर ली गयी है।”

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और एसपी चीफ अखिलेश यादव ने घटना को लेकर सूबे की सरकार पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “मेरठ में एक छात्रा के अपहरण, गैंगरेप और फिर जहर देकर मारने की खबर बेहद दुखद है और समाज के लिए भय पैदा करने वाली है।”

योगी आदित्यनाथ पर व्यंग्यात्मक लहजे में बोलते हुए अखिलेश ने कहा कि “अगर स्टार प्रचारक प्रचार से समय हासिल कर लिए हों तो उन्हें इस तरफ भी ध्यान देना चाहिए।”

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने घटना से संबंधित खबर की कटिंग शेयर करते हुए अपनी एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि “चार साल होने को आया है। यूपी के अखबार हर रोज ऐसी घटनाओं से भरे रहते हैं। यूपी सरकार महिला सुरक्षा के मुद्दे पर पूरी तरह फेल साबित हुई है।”

This post was last modified on April 3, 2021 9:26 am

Share
Published by