Subscribe for notification

रायगढ़ में काम करने वाले दलित मानवाधिकार कार्यकर्ता डीपी चौहान भी हुए ह्वाट्सएप जासूसी कांड के शिकार

रायपुर। देश में पत्रकारों से लेकर अध्यापकों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं से लेकर नेताओं तक के जासूसी का काम बड़े स्तर पर संचालित किया गया है। उसके शिकार न केवल बड़े और मेट्रो शहरों में रहने वाले सामाजिक कार्यकर्ता और शख्सियतें हुई हैं बल्कि जमीन पर काम करने वाले तमाम लोगों को भी इजरायली स्पाईवेयर ने अपना शिकार बनाया है। छत्तीसगढ़ के रायगढ़ क्षेत्र में काम करने वाले दलित मानवाधिकार कार्यकर्ता और छत्तीसगढ़ पीयूसीएल के अध्यक्ष डिग्री प्रसाद चौहान उर्फ डीपी चौहान भी उन्हीं में से एक हैं। उन्होंने एक वीडियो संदेश में बताया है कि इससे संबंधित कुछ अलर्ट भी उनके पास आए थे। उसी समय उनको शक होने लगा था।

अब चीजें सामने आ जाने के बाद स्थिति बिल्कुल स्पष्ट हो गयी है। दरअसल इजरायली स्पाईवेयर ‘पेगासस’ के जरिये ह्वाट्सएप से जुड़े तमाम लोगों की जासूसी की जाती थी। दुनिया के पैमाने पर होने वाली इस जासूसी के भारत के भी कई सामाजिक और मानवाधिकार कार्यकर्ता शिकार बने। इनमें बेला भाटिया से लेकर सीमा आजाद और आनंद तेलतुंबडे से लेकर सिद्धांत सिब्बल तक शामिल हैं।

चौहान पिछले 15 वर्षों से दलितों और आदिवासियों के अधिकारों को लेकर काम कर रहे हैं। उन्होंने रायगढ़ जिले में विभिन्न कारपोरेट कंपनियों द्वारा खनन और उसके कारण विस्थापित होने वाले आदिवासियों के लिए जन आंदोलन किया। उनके भूमि संबंधी अधिकारों के लिए अदालत में भी कानूनी लड़ाई लड़ी। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के फर्जी एनकाउंटर के सवालों को भी उन्होंने लगातार उठाया है।

आपको बता दें कि भीमा कोरेगांव मामले में भी चौहान का नाम सामने आया था। उन्होंने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए इसे नागरिकों के निजी अधिकारों पर हमला करार दिया है।

(रायपुर से जनचौक संवाददाता तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट।)

This post was last modified on November 2, 2019 10:36 am

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

झारखंडः प्राकृतिक संपदा की अवैध लूट के खिलाफ गांव वालों ने किया जनता कफ्यू का एलान

झारखंड में पूर्वी सिंहभूमि जिला के आदिवासी बहुल गांव नाचोसाई के लोगों ने जनता कर्फ्यू…

19 mins ago

झारखंडः पिछली भाजपा सरकार की ‘नियोजन नीति’ हाई कोर्ट से अवैध घोषित, साढ़े तीन हजार शिक्षकों की नौकरियों पर संकट

झारखंड के हाईस्कूलों में नियुक्त 13 अनुसूचित जिलों के 3684 शिक्षकों का भविष्य झारखंड हाई…

1 hour ago

भारत में बेरोजगारी के दैत्य का आकार

1990 के दशक की शुरुआत से लेकर 2012 तक भारतीय सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में…

2 hours ago

अद्भुत है ‘टाइम’ में जीते-जी मनमाफ़िक छवि का सृजन!

भगवा कुलभूषण अब बहुत ख़ुश हैं, पुलकित हैं, आह्लादित हैं, भाव-विभोर हैं क्योंकि टाइम मैगज़ीन…

3 hours ago

सीएफएसएल को नहीं मिला सुशांत राजपूत की हत्या होने का कोई सुराग

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी अब सुलझती नजर आ रही है। सुशांत…

3 hours ago

फिर सामने आया राफेल का जिन्न, सीएजी ने कहा- कंपनी ने नहीं पूरी की तकनीकी संबंधी शर्तें

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की रिपोर्ट से राफेल सौदे विवाद का जिन्न एक बार…

3 hours ago