Thursday, January 20, 2022

Add News

अतिथि शिक्षक संघ ने आयोग में शिक़ायत करके नियुक्ति प्रक्रिया में पारदर्शिता की मांग की

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय के एनसीवेब और एसओएल यानी कि नॉन कॉलेजिएट वुमन एजुकेशन बोर्ड और स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग में अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति मनमाने ढंग से की जाती है। 

अतिथि शिक्षक संघ ने आरोप लगाया है कि इस नियुक्ति प्रक्रिया में 2019 के तहत एनसी वेब में पहले आओ, पहले पाओ की नीति को अपनाया जिस पर कई सवाल भी खड़े हुए थे। इन दोनों संस्थानों की नियुक्ति प्रक्रिया हमेशा से संदेह में रही है। 

1-नियुक्ति प्रक्रिया में क्या-क्या किया जाता है? 

2-कौन शामिल होता है? 

3-और मुख्य बात कितने पदों पर नियुक्तियां होती हैं?

4-विषयवार पद संख्या क्या है? 

उपरोक्त सवालों को बताये बिना इन पदों पर संवैधानिक आरक्षण संभव ही नहीं है यह कहना है अतिथि शिक्षक संघ का।  

अतिथि शिक्षक संघ ने इन दोनों संस्थानों में अलग-अलग आरटीआई द्वारा इस बात को जानने की कोशिश की तथा इस मुद्दे को अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग के संज्ञान में भी लाया। दोनों संस्थानों द्वारा आरटीआई के उत्तर में गोल मोल कर के दिए गए जवाब संस्थानों की नीयत को साफ करते हैं। 

इसी सिलसिले में मंगलवार 7 सितंबर, 2021 को अतिथि शिक्षक संघ के अध्यक्ष ने दोनों संस्थानों की आरटीआई, आयोग में जमा किया गया व पत्र सौंपकर अपनी मांग सामने रखा कि नियुक्ति प्रक्रिया में पारदर्शिता हो, कुल पदों की संख्या, उन पर लागू होने वाले आरक्षण को बताया जाए इन सब बातों को अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग, यूजीसी व दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति के सामने रखा। आयोग के सामने दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति ने आश्वासन दिया कि वह इस पर काम करेंगे। अतिथि शिक्षक संघ की ओर से इसमें अध्यक्ष आरती रानी प्रजापति व सचिव रवि शामिल हुए।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

ब्रिटिश पुलिस से कश्मीर में भारतीय अधिकारियों की भूमिका की जांच की मांग

लंदन। लंदन की एक कानूनी फर्म ने मंगलवार को ब्रिटिश पुलिस के सामने एक आवेदन दायर कर भारत के...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -