Saturday, January 22, 2022

Add News

क्या ‘महिला बजरंग दल’ में बदल चुका है राष्ट्रीय महिला आयोग?

ज़रूर पढ़े

उत्तर प्रदेश में गैंगरेप और दलित महिला उत्पीड़न की तो जैसे बाढ़ सी आ गई है, लेकिन इधर किसी मुद्दे पर राष्ट्रीय महिला आयोग को संज्ञान लेते नहीं देखा गया। वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा हाल ही में ‘सेकुलर’ होने को लेकर ताने मारने वाले महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करने गईं।

राष्ट्रीय महिला आयोग के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस बाबत एक ट्वीट करके बताया गया, ‘महाराष्ट्र में महिला सुरक्षा के मुद्दे जैसे कि कोविड में महिला मरीजों के साथ छेड़खानी और बलात्कार, वन स्टॉप सेंटर की निष्क्रियता और राज्य में बढ़ते लव जेहाद के मामलों के चलते राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा मिलने गईं।’

इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग का एक ही काम रहा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हर ट्वीट को रिट्वीट करना। गैर भाजपा शासित राज्यों की महिलाओं के मामले राष्ट्रीय महिला आयोग तो जोर-शोर से उठा रही है, लेकिन भाजपा शासित राज्यों में महिलाओं पर हो रहे उत्पड़ीन के मामले में महिला आयोग को सांप सूंघ जाता है।

#RekhaSharmaResign ट्विटर पर ट्रेंड किया
आरएसएस के ‘लव जेहाद’ के शिगूफे पर काम कर रहीं राष्ट्रीय महिला आयोग अध्यक्ष रेखा शर्मा के खिलाफ़ कल बुधवार की रात #RekhaSharmaResign ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। लोग उनके पुराने ट्वीट्स के स्क्रीन शॉट शेयर करके उनके इस्तीफे की मांग करने लगे।

फिल्म एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर ने लव जेहाद वाले एनसीडब्लयू के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा, “इस देश की धरती पर कोई महिला सुरक्षित हो ही कैसे सकती है जबकि पक्षपातपूर्ण एजेंडा चलाने वाली महिला इस कमीशन की मुखिया हैं। ये बहुत ही घिनौना और दुखद है। रेखा शर्मा इस्तीफा दो।” 

एक लड़की ने लिखा, ‘एक ऐसी महिला जो कि महिलाओं के खिलाफ़ हैं उसे राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष के पद पर नहीं होना चाहिए।’

पत्रकार आरफ़ा खानम शेरवानी ने लिखा, ‘भारत विश्व का इकलौता ऐसा देश है जिसने एक महिला विरोधी व्यक्ति को महिला आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किया है। बिल्कुल वैसे ही जैसे एक अल्पसंख्यक विरोधी व्यक्ति अल्पसंख्यक मंत्रालय का मुखिया है। ये समझना कतई मुश्किल नहीं है। क्या मुश्किल है।’

पत्रकार रोहिणी सिंह ने लिखा, ‘एक महिला संस्थान के नेतृत्व करने वाली व्यक्ति कितना भयंकर है। रेखा शर्मा बेहद घिनौनी हैं। खुद को नोटिस भेजो और इस्तीफा दे दो।’

घोर सामंती महिला हैं एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष रेखा शर्मा
राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा का 14 जनवरी 2014 का एक ट्वीट है, जिसमें वो तत्कालीन आम आदमी पार्टी नेता कुमार विश्वास द्वारा प्रियंका गांधी वाड्रा को अपनी बहन बताने का मजाक उड़ाते हुए कहती हैं, ‘पता करो क्या पता तुम्हारे पिता भी एक ही हों। हमें पता चला है कि कुछ गड़बड़ है।’

15 मई 2014 को उनका एक ट्वीट है, जिसमें वो महात्मा गांधी के राष्ट्रपति होने पर सवाल उठाते हुए कहती हैं, ‘महात्मा गांधी अपने बेटों के लिए अच्छे पिता नहीं साबित हुए फिर हम उन्हें राष्ट्रपिता कैसे कह सकते हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया ने रिपोर्ट किया है कि उनके बेटे ने अपनी खुद की बेटी का रेप किया था।’

इसी तरह 4 सितंबर 2014 को एक ट्वीट में वो पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की एक फोटो को जैसा कि तमाम संघी करते हैं गलत तथ्य के साथ ट्वीट करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी से पूछा है कि तुम्हारे परनाना इन डांसर के साथ क्या कर रहे हैं जबकि भारत ने अभी अपने से सांस लेना भी नहीं शुरू किया था।’

इतना ही नहीं रेखा शर्मा ने कई सांप्रदायिक पोस्ट भी किए हैं। उनका एक ट्वीट जी सलाम चैनल को लेकर है, जिसमें उसे इस्लामिक चैनल इसलिए बताया गया है, क्योंकि उसके एक कार्यक्रम में सिर्फ मुस्लिम औरतों से जुड़े मुद्दे उठाए जाते हैं।

इसी तरह के उनके कई और बेतुके, महिला विरोधी घिनौने ट्वीट हैं। हालांकि उन्होंने अपने व्यक्तिगत ट्विटर एकाउंट को प्रोटेक्शन लॉक कर दिया है। इससे पहले बवाल बढ़ता देख रेखा शर्मा ने कहा था, “मैंने इस मुद्दे पर ट्विटर से शिकायत की है कि मेरे अकाउंट में संदिग्ध गतिविधि देखी गई है। इसकी जांच की जा रही है। मैं ट्रोल्स को जवाब देना पसंद नहीं करूंगी।”

आम आदमी पार्टी ने रेखा शर्मा को पद से हटाने की मांग की
आम आदमी पार्टी की महिला नेता आतिशी ने इस मुद्दे पर कहा है, “हमारे देश में जन्म लेने से पहले बच्चियों पर अत्याचार शुरू हो जाता है। अगर किसी भी महिला के साथ अत्याचार होता है तो वह कहां जाएगी। बीजेपी का स्लोगन था ‘बेटी बचाओ’ लेकिन वो नारा नहीं चेतवानी थी बेटी बचाओ बीजेपी नेताओं से। आयोग महिलाओं की आखिरी उम्‍मीद है, लेकिन महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा महिलाओं के खिलाफ इतने भद्दे ट्वीट करती हैं तो महिलाएं अपनी शिकायत लेकर कहां जाएं।”

आतिशी ने कहा कि रेखा शर्मा ने जवाहर लाल नेहरू के फेक फोटो को लेकर ट्वीट किया। सोनिया गांधी के लिए ट्वीट किया। इन ट्वीट्स के सामने आने के बाद उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया और एकाउंट प्रोटेक्ट कर दिया, लेकिन इससे मानसिकता नहीं बदल जाती। आम आदमी पार्टी मांग करती है कि तत्काल महिला विरोधी मानसिकता रखने वाली रेखा शर्मा को उनके पद से हटाया जाए।”

लव जेहाद आरएसएस की दिमागी खुराफात
नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के बाद से लगातार आरएसएस और उसके सहयोगी संगठन ‘लव जेहाद’ के शिगूफे को लेकर आगे बढ़े हैं। बंगाल से मजदूरी करने राजसमंद आए अफ़राजुल नामक मजदूर की गैंते से शंभूलाल रैगर नामक व्यक्ति ने भगवा आतंकी ने साल 2017 में वीडियो बनाते हुए हत्या कर दी थी। हत्या करते हुए उसने वीडियो में कहा था कि मैं एक इस्लामिक जेहादी को उसके अंजाम तक पहुंचा रहा हूं। फिर केरल में हादिया की शादी को लेकर आरएसएस ने काफी हो हल्ला मचाया था, लेकिन केरल हाईकोर्ट के फैसले और उस फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की ट्प्पणी के बाद ये मामला खत्म हो गया था।

4 फऱवरी 2020 को संसद में केरल हाईकोर्ट के फैसले के सदर्भ में एक लिखित सवाल पूछा गया था कि क्या सरकार को जानकारी है कि केरल हाई कोर्ट ने कहा है कि लव जेहाद किसी चीज़ को कहा ही नहीं जाता है। इस सवाल के जवाब में सरकार की ओर से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने कहा था, “लव जिहाद शब्द को मौजूदा क़ानूनों के तहत परिभाषित नहीं किया गया है। लव जिहाद’ का कोई मामला किसी केंद्रीय एजेंसी ने रिपोर्ट नहीं किया है। संविधान ने सभी को किसी भी धर्म को अपनाने और उसका प्रचार करने की आज़ादी दी है।”

9 अगस्त 2018 को रेखा शर्मा बनाई गईं अध्यक्ष
54 वर्षीय हरियाणा की रेखा शर्मा को 9 अगस्त 2018 में एनसीडब्ल्यू का अध्यक्ष बनाया गया था। उससे पहले वो राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) की सदस्य थीं और वह गत सितंबर 2017 में ललिता कुमारमंगलम के पद छोड़ने के बाद से आयोग की अध्यक्ष का अतिरिक्त प्रभार संभाल रही थीं। रेखा शर्मा को राष्ट्रीय महिला आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किए जाते समय भी विवाद हुआ था, क्योंकि ठीक उसी समय रेखा शर्मा ने गिरिजाघरों में कन्फेशन की प्रथा को समाप्त कर दिए जाने की वकालत की थी।

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

आरक्षण योग्यता के विपरीत नहीं : सुप्रीम कोर्ट ने नीट में 27 प्रतिशत ओबीसी कोटा बरकरार रखा

पीठ ने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाएं समय के साथ कुछ वर्गों को अर्जित आर्थिक सामाजिक लाभ को नहीं दर्शाती...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -