मध्य प्रदेश: संयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में जिलों में किसान संसद लगाने का फैसला

Estimated read time 1 min read

संयुक्त किसान मोर्चे से जुड़े अनेक किसान संगठनों की आज हुई बैठक में दिल्ली में चल रही किसान संसद की तर्ज पर प्रदेश भर में किसान संसद आयोजित करने का निर्णय लिया गया। प्रमुख केंद्रों में राष्ट्रीय नेतृत्व की भागीदारी के साथ तथा जिलों में सभी किसान संगठनों तथा किसान आंदोलन समर्थकों की शिरकत के साथ होने वाली इन किसान संसद में तीनों कृषि कानूनों, प्रस्तावित बिजली क़ानून को खारिज करने तथा एमएसपी का क़ानून बनाने के प्रस्ताव पारित किये जाएंगे। किसान संसद के ये आयोजन पंचायतों तथा ग्राम सभाओं तक जाएंगे। 

संयुक्त किसान मोर्चे के 09 अगस्त के भारत बचाओ आंदोलन के दिन प्रदेश भर में ट्रेड यूनियन्स तथा अन्य जन संगठनों के साथ मिलकर हर जिले में विरोध कार्यवाही करने तथा बड़ी भागीदारी कराने के आह्वान को सफल बनाने का फैसला भी हुआ। 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर सभी किसान संगठनों द्वारा ध्वजारोहण किया जाएगा।

बैठक ने मध्यप्रदेश में किसान आंदोलन को तेज करने, उसे व्यापक बनाने के लिए सारे जिलों में उन जिलों के किसान संगठनों के साथ समन्वय बनाने के बारे में भी राय बनाई गयी। 

इस बैठक ने चेतावनी दी है कि अब मध्य प्रदेश के किसान भी आंदोलन को अगले चरण में ले जाएंगे तथा प्रदेश भर के टोल-प्लाजाओं को खोलने और भाजपा सांसदों, विधायकों के समक्ष प्रदर्शन करने की कार्यवाहियां शुरू करेंगे।

किसान संगठनों ने पूरे प्रदेश में जारी खाद बीज की कालाबाजारी और जबरिया बिजली बिल वसूली पर रोष व्यक्त किया। फसल बीमा योजना के लाभ से किसानों को वंचित करने के नए-नए बदलावों की भी निंदा की। बैठक का संचालन ऑल इंडिया किसान सभा के संयुक्त सचिव कामरेड बादल सरोज ने किया।

ऑनलाइन बैठक में किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष डॉ. सुनीलम, छिंदवाड़ा से किसान संघर्ष समिति की उपाध्यक्ष एड. आराधना भार्गव, अखिल भारतीय किसान सभा के जसविंदर सिंह, रीवा से रोको -टोको -टोको क्रांतिकारी संगठन के संयोजक उमेश तिवारी, भारतीय किसान यूनियन के अनिल यादव, महेंद्र तोमर, क्रांतिकारी किसान संगठन भोपाल से विजय कुमार, भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ति यूनियन सागर के संदीप ठाकुर, संयुक्त किसान मोर्चा रीवा के संयोजक एड. शिव सिंह, किसंस संयोजक इंद्रजीतसिंह, जबलपुर से बरगी बांध विस्थापित संघ के राजकुमार सिन्हा, इंदौर से अखिल भारतीय किसान खेत मजदूर संगठन के सोनू शर्मा, राजगढ़ से महेंद्र सिंह राय, अखिल भारतीय किसान सभा (अजय भवन) के प्रहलाद दास बैरागी, ग्वालियर से किसान संघर्ष समिति के ग्वालियर-चंबल क्षेत्र संयोजक विश्वजीत रतौनिया, रोहन यादव, सिवनी से किसान संघर्ष समिति के संयोजक राजेश पटेल, किसंस के प्रदेश सचिव राजकुमार सनोडिया, सागर से किसंस के जिलाध्यक्ष अभीनय श्रीवास, राजीव कोष्टि, सीधी से किसंस के संयोजक निसार आलम अंसारी, सिलवानी से किसंस के प्रदेश सचिव श्रीराम सेन, मुलताई से किसंस के महामंत्री भागवत परिहार, अलीराजपुर से किसंस के जिलाध्यक्ष नवनीत मंडलोई, अभिषेक डाबर, विदिशा से राजेश तामेश्वरी, भानु प्रताप, अमित पांडे, स्वयं सूर्यवंशी, मुकेश कलाम, पंकज गौर, मुकेश दुबे, प्रशांत सिंह, अशोक सिंह, रविशंकर आदि शामिल रहे। 

संयुक्त किसान मोर्चा, मध्यप्रदेश द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours