Monday, January 24, 2022

Add News

महंगी विदेशी घड़ियों के फेर में क्यों फंसते हैं हार्दिक और क्रुणाल पंड्या?

ज़रूर पढ़े

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या और उनके क्रिकेटर भाई क्रुणाल पंड्या ही विदेशों से घड़ी लाने के घोटाले में क्यों फंस जाते हैं? हार्दिक पंड्या एक बार फिर से विवादों में हैं। यूएई में खेले गए टी-20 विश्व कप में टीम इंडिया के सदस्य रहे पंड्या के पास से भारत वापस आते समय मुंबई एयरपोर्ट पर कस्टम अधिकारियों ने लगभग 5 करोड़ की कीमत वाली दो घड़ियों को सीज किया है। हालांकि पंड्या ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर सफाई देते हुए इन घड़ियों की कीमत 1.5 करोड़ बताई है। इससे पहले नवम्‍बर 2020 में हार्दिक के बड़े भाई क्रुणाल पंड्या के पास से भी लग्‍जरी घड़ियां मिली थीं । उन्‍हें तब डायरेक्‍टरेट ऑफ रेवेन्‍यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) के अधिकारियों ने रोक लिया था। जिसके बाद इस मामले को कस्‍टम विभाग को सौंप दिया गया था ।

यह पहली बार नहीं है जब हार्दिक पंड्या सुर्खियों में रहे हैं। इससे पहले भी कई बार उनका नाम विवादों में उछला है।साल 2019 में हार्दिक पंड्या टेलीविजन शो ‘कॉफी विद करण’ के टॉक शो पर पहुंचे थे। इस शो पर उनके साथ क्रिकेटर केएल राहुल भी थे। इस दौरान हार्दिक ने महिलाओं को लेकर कुछ ऐसी टिप्पणी की थी जिससे बवाल हो गया था। हार्दिक के बयान के बाद काफी हंगामा हुआ और उन्हें सोशल मीडिया पर माफी भी मांगनी पड़ी थी। इतना ही नहीं बीसीसीआई ने उन पर कार्रवाई करते हुए दो मैचों का बैन भी लगाया था। हार्दिक के अलावा केएल राहुल पर भी दो मैचों का प्रतिबंध लगा था। इसके साथ ही इन दोनों पर 20-20 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था।

हाल ही में यूएई में समाप्त हुए टी-20 विश्वकप में हार्दिक पंड्या का प्रदर्शन काफी खस्ता हाल रहा। वह टीम के लिए कुल तीन मैचों में मैदान पर उतरे थे जिसमें उन्होंने सिर्फ 34.50 की औसत 69 रन बनाए। वहीं टूर्नामेंट में उन्होंने सिर्फ चार ओवर की गेंदबाजी की थी, जिसमें उनको कोई विकेट नहीं मिला था। सिर्फ टी-20 विश्व कप ही नहीं आईपीएल के दूसरे चरण में भी हार्दिक अपनी चमक नहीं बिखेर पाए थे। मुंबई इंडियंस के लिए खेलने वाले हार्दिक बल्लेबाजी में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए थे जबकि चोट के कारण वह गेंदबाजी से दूर रहे।

हार्दिक से पहले पिछले साल क्रुणाल पंड्या को भी मुंबई एयरपोर्ट पर कस्टम ने रोका था। इस दौरान उनके से पास अघोषित गोल्ड और कुछ महंगी घड़ियां जब्त की गई थीं। क्रुणाल अधिकारियों के पूछताछ का सही जवाब नहीं दे सके थे। इसके बाद उनके सामान को जब्त कर लिया गया था। इसके बाद क्रुणाल को सामान की वैल्यू की करीब 38% कस्टम ड्यूटी चुकानी पड़ी थी।

एक साल से अधिक समय तक विदेश में रहने वाले व्यक्ति 50 हजार रुपए तक का सोना भारत में ड्यूटी फ्री लेकर आ सकते हैं। वहीं, महिलाओं के लिए ये छूट एक लाख रुपए तक है। महिलाएं एक लाख रुपए तक की कीमत का सोना ड्यूटी फ्री लेकर भारत आ सकती हैं। वहीं ड्यूटी फ्री की शर्तें सिर्फ सोने के आभूषणों पर लागू हैं। सोने के सिक्कों और बिस्किट्स पर ड्यूटी देनी पड़ती है।

पिछले साल घरेलू सीजन में क्रुणाल पंड्या का दीपक हुडा के साथ झगड़े ने खूब सुर्खियां बटोरी थी। बड़ौदा के लिए खेलने वाले क्रुणाल पर हुड्डा ने आरोप लगाया था की उनके साथ टीम की कप्तानी कर रहे क्रुणाल ने ‘गाली गलौच’ की है और उन्हें धमकाया है।इसके बाद राज्य क्रिकेट संघ ने जांच की और अनुशासनहीनता का आरोप लगाते हुए हुड्डा को निलंबित कर दिया। क्रिकेट संघ ने कहा कि उन्होंने बायो बबल के नियम का उल्लंघन किया है। क्योंकि वह मैनेजमेंट को बिना बताए होटल रूम छोड़ कर चले गए थे।

भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या मुंबई एयरपोर्ट पहुंचे। एयरपोर्ट पर हार्दिक पंड्या की कस्‍टम विभाग ने जांच की, इस दौरान उनके पास से 5 करोड़ रुपए की दो घड़ियां मिली हैं। जब हार्दिक पंड्या से इन घड़ियों के बारे में पूछा गया तो वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए।हार्दिक पंड्या के पास इन घड़ियों से जुड़ा कोई बिल भी नहीं था।इसके बाद हार्दिक से कस्‍टम विभाग ने घड़ियां ले लीं। इनको अपने कब्‍जे में ले लिया है। इस मामले में विभागीय जांच भी शुरू कर दी है।

आईपीएल 2020 में मुंबई इंडियंस के साथ खिताब जीतकर लौटे हार्दिक पंड्या के बड़े भाई क्रुणाल पंड्या को मुंबई एयरपोर्ट पर रोका गया था । क्रुणाल पंड्या के पास महंगी और लक्जरी घड़ियां मिली थीं। ऐसे में मामला कस्टम विभाग को सौंप दिया गया था।क्रुणाल पंड्या के पास कस्टम को लाखों की चार लक्जरी घड़ियां मिलीं और उन्हें पंड्या ने सीमा शुल्क के लिए डिक्लेयर नहीं किया था और इसके लिए कोई शुल्क भी नहीं दिया था। क्रुणाल पंड्या के पास से घड़ियों को जब्त कर लिया गया और कस्टम को वैल्यूएशन के लिए सौंप दिया गया।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कब बनेगा यूपी की बदहाली चुनाव का मुद्दा?

सोचता हूं कि इसे क्या नाम दूं। नेताओं के नाम एक खुला पत्र या रिपोर्ट। बहरहाल आप ही तय...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -