Tuesday, December 7, 2021

Add News

बर्बाद होते किन्नौर को बचाने के लिए नौजवान चला रहे हैं उपचुनाव में नोटा का अभियान

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

हिमाचल प्रदेश में मंडी के सांसद राम स्वरूप वर्मा की संदिग्ध परिस्थितियों में दिल्ली के अंदर हुई मौत के बाद खाली हुई सीट पर 30 अक्तूबर को चुनाव होने जा रहे हैं। चुनाव में कांग्रेस पार्टी पूर्व मुख्यमंत्री और राजा वीरभद्र की मौत के बाद उनको श्रद्धांजलि के नाम पर वोट मांग रही है। उन्होंने वीरभद्र की पत्नी ’राजमाता’ प्रतिभा सिंह को चुनाव में उतारा है वहीं बीजेपी ने ’कारगिल हीरो’खुशाल ठाकुर को चुनाव मैदान में खड़ा किया है और सेना के नाम पर वोट मांग रही है। पूरे चुनाव में आम जनता के मुद्दे गायब हैं। खासकर जनजातीय जिले लाहुल स्पीति और किन्नौर की जनता के मुद्दे सिरे से इस चुनाव में नदारद हैं।

हिमाचल प्रदेश के दूरदराज के जनजातीय बहुल जिले किन्नौर के नौजवान कई महीनों से जल विद्युत परियोजनाओं के खिलाफ ‘नो मीन्स नो’ अभियान चला रहे हैं। जल विद्युत परियोजनाओं ने किन्नौर के पर्यावरण और आर्थिक जन जीवन को बुरी तरह से बर्बाद कर दिया है। इस सब के खिलाफ वहां के नौजवानों में सालों से जमा हुआ आक्रोश नोटा को वोट करने के रूप में निकल कर सामने आ रहा है।

एक दैनिक में प्रकाशित खबर के अनुसार हालांकि उपचुनाव के बहिष्कार की आवाज तेज होती जा रही है, लेकिन अब स्थानीय देवता “पठारो” ने 26 अक्तूबर को अपनी मंजूरी दे दी है। ग्रामीणों द्वारा सामूहिक रूप से मतदान का बहिष्कार किया जाएगा। रारंग पंचायत में लगभग 1,000 पंजीकृत मतदाता हैं।

रारंग, खाब, थोपन और खादरा के ग्रामीण जलविद्युत-परियोजना के आने का विरोध कर रहे हैं। वे मांग कर रहे हैं कि इसे खत्म किया जाना चाहिए क्योंकि यह रारंग पंचायत के लिए पर्यावरण के लिए हानिकारक होगा। यह परियोजना सतलुज जल विद्युत निगम लिमिटेड को आवंटित की गई है, हालांकि काम शुरू होना अभी बाकी है। रारंग संघर्ष समिति के सचिव चेरिंग ग्योचा ने कहा कि उपचुनाव का बहिष्कार करने के निर्णय के लिए सहमति, अब रारंग पंचायत से कोई भी अपना वोट नहीं डालेगा क्योंकि लोगों को तत्कालीन देवता में गहरा विश्वास है।

चेरिंग ने चेतावनी दी कि अगर सरकार ने लोगों पर जंगी थोपन परियोजना को थोपने और चालू करने की कोशिश की, तो आंदोलन होगा। हिमालय बचाओ आंदोलन से जुड़े और हिमालय के महासचिव भगत सिंह ने चेतावनी दी, “परियोजना को चालू करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के साथ समझौता तुरंत रद्द किया जाना चाहिए अन्यथा सरकार को ग्रामीणों के आक्रोश का सामना करना पड़ेगा।

” बौद्ध सांस्कृतिक संघ के किशोर कुमार ने कहा, “ग्रामीणों ने कई विरोध-प्रदर्शन किए और पिछले 12 वर्षों में केंद्र के साथ-साथ राज्य सरकार को कई आवेदन भेजे, जब से परियोजना की कल्पना की गई थी, किसी भी एजेंसी ने हमें हमारी शिकायतों को दूर करने के लिए धैर्यपूर्वक सुनवाई करने की जहमत नहीं उठाई,” रारंग संघर्ष समिति के अध्यक्ष ने कहा कि यह लोगों पर निर्भर करता है कि वे मताधिकार के अधिकार का प्रयोग करना चाहते हैं या नहीं। उनके देवता की स्वीकृति के अनुसार, कोई भी अपना वोट नहीं डालेगा

19 अक्तूबर को 1000 मेगावाट की जल विद्युत परियोजना से प्रभावित पंचायत के प्रतिनिधियों ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी मांगों को नजरंदाज करने का आरोप लगाते हुए लोगों से नोटा को वोट करने की अपील की है। इस अभियान में किन्नौर के पढ़े लिखे नौजवान बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं और सोशल मीडिया पर अभियान चला रहे हैं। उनका कहना है कि अभी तक राजनीतिक, प्रशासनिक व सतलुज विद्युत निगम के रवैये को देखते हुए ये निर्णय लेना पड़ा है। हमें साफ तौर पर प्रोजेक्ट निरस्त होने का ऑफिशियल नोटिफिकेशन चाहिए अन्यथा हम अपने संवैधानिक अधिकारों का प्रयोग करते हुए अपना विरोध जारी रखेंगे। अब बात हमारे अस्तित्व और हमारी पहचान की है, और इस पर हमें उम्मीद है कि आम जनता भी पार्टीबाजी से ऊपर उठ कर किन्नौर के लिए सोचेगी।

23 अक्तूबर को रूपश्री यूथ क्लब जंगी ने नोटा को वोट करने की घोषणा की वहीं खादरा क्लब व महिला मंडल ने इस मंडी लोक सभा उप चुनाव में नोटा को वोट देने का फैसला लिया। इस तरह बहुत सारे युवक मंडल और महिला मंडलों ने नोटा को वोट देने का फैसला किया है।

इसकी आहट 26 अगस्त को विद्युत परियोजनाओं के खिलाफ किन्नौर में हुई आह्वान रैली से हो गई थी। रैली में भरी संख्या में लोगों ने भाग लेकर अपना विरोध प्रकट किया था।

ज्ञात रहे कि सतलुज घाटी जल विद्युत परियोजनाओं के कारण तबाही के किनारे खड़ी है। इस नदी में सबसे नीचे भाखड़ा बांध जिसका आकार 168 वर्ग किलोमीटर और भंडारण क्षमता 9.340 घन कि.मी. है। इसके बाद कोल डैम जो सुन्नी तक 42 किलोमीटर तक फैला हुआ है, जिसकी कुल भंडारण क्षमता 90 मिलियन क्यूबिक मीटर है। नाथपा झाखड़ी परियोजना जो कि 27.394 कि.मी. लंबी है।

हिडनकोस्ट ऑफ हाईड्रो पावर नामक रिपोर्ट का दावा है कि हिमाचल की कुल जल विद्युत क्षमता 27,436 मेगावाट है और अकेली सतलज नदी की क्षमता 13,322 मेगावाट है। इसी कारण सतलज नदी पर ही ज्यादातर जल विद्युत परियोजनाएं स्थापित की जा रही हैं। अब तक हिमाचल में 27 जल विद्युत परियोजनाएं स्थापित हैं और 8 निर्माणाधीन हैं। किन्नौर पूरे देश में जल विद्युत उर्जा का गढ़ बना हुआ है जहां पर 1500 मेगावाट और 1000 मेगावाट के दो बड़ी परियोजनाओं सहित 10 रनिंग ऑफ द् रिवर परियोजनाएं जारी हैं और 30 स्थापित की जानी हैं। ये एक डरावनी तस्वीर पेश करते हैं। इस सब के चलते किनौर के युवाओं का नोटा को चुनने के लिए मजबूर हुए हैं।

(लेखिका रितिका ठाकुर हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय रिसर्च स्कॉलर हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

प्रयागराज: एमएनएनआईटी की एमटेक की छात्रा की संदिग्ध मौत, पूरे मामले पर लीपापोती का प्रयास

प्रयागराज शहर के शिवकुटी स्थित मोतीलाल नेहरू राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्‍थान (एमएनएनआईटी) में एमटेक फाइनल की छात्रा जया पांडेय की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -