Friday, April 19, 2024

नफ़रत से लैस भीड़ करतारपुर कॉरिडोर देखकर हतप्रभ होगी

जिस भारत और पाकिस्तान के बंटवारे के लिए लाखों लोगों को मार दिया गया। बचे हुए कुछ लोग उन क़िस्सों को लेकर वहशी बने रहे और नफ़रत बोते रहे। आज उसी भारत पाकिस्तान की सीमा पर एक छोटा सा गलियारा शुरू हुआ है। 4.7 किमी का गलियारा। उस सीमा को काटते हुए एक ऐसा रास्ता बनाता है जो राष्ट्र-राज्य की ज़मीन पर नहीं इंसानियत की ख़ूबसूरत कल्पनाओं से गुज़रता है। उम्मीद का गलियारा है। जहां लाखों लाशें गिरी हैं, वहां गलियारा बना है। वो भी उस दौर में जब दोनों मुल्क एक-दूसरे को देखना पसंद नहीं करते। मोहब्बत को एक बात समझ आ गई। उसने मैदान छोड़ गलियारा बना लिया।

नफ़रत से लैस भीड़ आज उस करतारपुर कॉरिडोर को देखकर हतप्रभ होगी। ये उसकी समझ से बाहर की चीज़ है। हमारे सिख भाई दरबार साहिब के दर्शन के लिए जा रहे हैं, मगर उन सभी की आत्मा को शांति भी मिलेगी जो नफ़रत की आंधी में मार दिए गए। अगर आज कुछ इतिहास में याद रखने लायक़ हुआ है तो करतारपुर कोरिडोर हुआ है। वाहे गुरु की विनम्रता और साहस सबको मिले। आज अगर सचमुच ईश्वरीय शक्ति ने अपना असर दिखाया है तो यहां दिखाया है।

आज इस गलियारे के दोनों छोर पर दो भाइयों को समझ नहीं आ रहा कि एक दूसरे का शुक्रिया कैसे अदा करें। इतिहास ऐसे छोटे क़द के लोगों से महान नहीं बनता। जब वे चूक जाते हैं तो लोग चुपचाप करतारपुर कोरिडोर बनवा लेते हैं। भारत और पाकिस्तान अपने अपने अहं की जहालत से बाहर आएं और दुनिया के इस हिस्से को सबके लिए बेहतर बनाएं।

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

लोकतंत्र का संकट राज्य व्यवस्था और लोकतंत्र का मर्दवादी रुझान

आम चुनावों की शुरुआत हो चुकी है, और सुप्रीम कोर्ट में मतगणना से सम्बंधित विधियों की सुनवाई जारी है, जबकि 'परिवारवाद' राजनीतिक चर्चाओं में छाया हुआ है। परिवार और समाज में महिलाओं की स्थिति, व्यवस्था और लोकतंत्र पर पितृसत्ता के प्रभाव, और देश में मदर्दवादी रुझानों की समीक्षा की गई है। लेखक का आह्वान है कि सभ्यता का सही मूल्यांकन करने के लिए संवेदनशीलता से समस्याओं को हल करना जरूरी है।

साम्राज्यवाद के ख़िलाफ़ जंग का एक मैदान है साहित्य

साम्राज्यवाद और विस्थापन पर भोपाल में आयोजित कार्यक्रम में विनीत तिवारी ने साम्राज्यवाद के संकट और इसके पूंजीवाद में बदलाव के उदाहरण दिए। उन्होंने इसे वैश्विक स्तर पर शोषण का मुख्य हथियार बताया और इसके विरुद्ध विश्वभर के संघर्षों की चर्चा की। युवा और वरिष्ठ कवियों ने मेहमूद दरवेश की कविताओं का पाठ किया। वक्ता ने साम्राज्यवाद विरोधी एवं प्रगतिशील साहित्य की महत्ता पर जोर दिया।

Related Articles

लोकतंत्र का संकट राज्य व्यवस्था और लोकतंत्र का मर्दवादी रुझान

आम चुनावों की शुरुआत हो चुकी है, और सुप्रीम कोर्ट में मतगणना से सम्बंधित विधियों की सुनवाई जारी है, जबकि 'परिवारवाद' राजनीतिक चर्चाओं में छाया हुआ है। परिवार और समाज में महिलाओं की स्थिति, व्यवस्था और लोकतंत्र पर पितृसत्ता के प्रभाव, और देश में मदर्दवादी रुझानों की समीक्षा की गई है। लेखक का आह्वान है कि सभ्यता का सही मूल्यांकन करने के लिए संवेदनशीलता से समस्याओं को हल करना जरूरी है।

साम्राज्यवाद के ख़िलाफ़ जंग का एक मैदान है साहित्य

साम्राज्यवाद और विस्थापन पर भोपाल में आयोजित कार्यक्रम में विनीत तिवारी ने साम्राज्यवाद के संकट और इसके पूंजीवाद में बदलाव के उदाहरण दिए। उन्होंने इसे वैश्विक स्तर पर शोषण का मुख्य हथियार बताया और इसके विरुद्ध विश्वभर के संघर्षों की चर्चा की। युवा और वरिष्ठ कवियों ने मेहमूद दरवेश की कविताओं का पाठ किया। वक्ता ने साम्राज्यवाद विरोधी एवं प्रगतिशील साहित्य की महत्ता पर जोर दिया।