Thursday, October 28, 2021

Add News

नफ़रत से लैस भीड़ करतारपुर कॉरिडोर देखकर हतप्रभ होगी

ज़रूर पढ़े

जिस भारत और पाकिस्तान के बंटवारे के लिए लाखों लोगों को मार दिया गया। बचे हुए कुछ लोग उन क़िस्सों को लेकर वहशी बने रहे और नफ़रत बोते रहे। आज उसी भारत पाकिस्तान की सीमा पर एक छोटा सा गलियारा शुरू हुआ है। 4.7 किमी का गलियारा। उस सीमा को काटते हुए एक ऐसा रास्ता बनाता है जो राष्ट्र-राज्य की ज़मीन पर नहीं इंसानियत की ख़ूबसूरत कल्पनाओं से गुज़रता है। उम्मीद का गलियारा है। जहां लाखों लाशें गिरी हैं, वहां गलियारा बना है। वो भी उस दौर में जब दोनों मुल्क एक-दूसरे को देखना पसंद नहीं करते। मोहब्बत को एक बात समझ आ गई। उसने मैदान छोड़ गलियारा बना लिया।

नफ़रत से लैस भीड़ आज उस करतारपुर कॉरिडोर को देखकर हतप्रभ होगी। ये उसकी समझ से बाहर की चीज़ है। हमारे सिख भाई दरबार साहिब के दर्शन के लिए जा रहे हैं, मगर उन सभी की आत्मा को शांति भी मिलेगी जो नफ़रत की आंधी में मार दिए गए। अगर आज कुछ इतिहास में याद रखने लायक़ हुआ है तो करतारपुर कोरिडोर हुआ है। वाहे गुरु की विनम्रता और साहस सबको मिले। आज अगर सचमुच ईश्वरीय शक्ति ने अपना असर दिखाया है तो यहां दिखाया है।

आज इस गलियारे के दोनों छोर पर दो भाइयों को समझ नहीं आ रहा कि एक दूसरे का शुक्रिया कैसे अदा करें। इतिहास ऐसे छोटे क़द के लोगों से महान नहीं बनता। जब वे चूक जाते हैं तो लोग चुपचाप करतारपुर कोरिडोर बनवा लेते हैं। भारत और पाकिस्तान अपने अपने अहं की जहालत से बाहर आएं और दुनिया के इस हिस्से को सबके लिए बेहतर बनाएं।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ भवन पर यूपी मांगे रोजगार अभियान के तहत रोजगार अधिकार सम्मेलन संपन्न!

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश छात्र युवा रोजगार अधिकार मोर्चा द्वारा चलाए जा रहे यूपी मांगे रोजगार अभियान के तहत आज...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -