Saturday, October 16, 2021

Add News

नॉर्थ ईस्ट डायरी: त्रिपुरा में टीएमसी बन रही है बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती

ज़रूर पढ़े

ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने त्रिपुरा में भाजपा की बिप्लब देब सरकार के खिलाफ आक्रामक शुरुआत की है। इसने न केवल जमीनी बल्कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी राज्य की भाजपा सरकार पर आक्रामक हमले शुरू कर दिए हैं। मई में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा को पटखनी देने के बाद टीएमसी 2018 के विधानसभा चुनाव के पार्टी के घोषणापत्र में किए गए वादों को कथित रूप से पूरा न करने को लेकर अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ पूरी तरह से आग उगल रही है।
भारतीय माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट कू पर हाल के दिनों में पोस्ट की एक श्रृंखला में टीएमसी की त्रिपुरा इकाई ने सत्तारूढ़ बिप्लब देब सरकार पर 2018 की राज्य विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा द्वारा किए गए वादों की कथित गैर-पूर्ति को उजागर करने वाले पोस्ट के साथ हामले की शुरुआत की है।

पिछले हफ्ते कू ऐप पर एक पोस्ट में, टीएमसी ने कहा, “त्रिपुरा में डबल इंजन सरकार बुरी तरह विफल रही है। पूरा त्रिपुरा बदलाव की मांग कर रहा है और बिप्लब देब की यातनाओं से रिहाई की मांग कर रहा है।”
प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने विधानसभा चुनावों में “डबल इंजन ग्रोथ” को एक प्रमुख चुनावी मुद्दा बताया है। वे इस आश्वासन पर वोट मांगते हैं कि अगर भाजपा राज्य और केंद्र दोनों पर शासन करती है तो राज्य के लोगों को फायदा होगा।
बेरोजगारी के आंकड़ों का हवाला देते हुए टीएमसी त्रिपुरा ने एक अन्य कू पोस्ट में कहा, “राष्ट्रीय बेरोजगारी दर 8.32 प्रतिशत तक बढ़ रही है, भारत के लोग नरेंद्र मोदी का मुखौटा उतारना चाहते हैं! भाजपा का नौकरियों का खोखला वादा त्रिपुरा राज्य में 15.6 प्रतिशत की उच्च बेरोजगारी दर से बेनकाब हो गया है!”
एक अन्य कू पोस्ट में इसने कहा, “बिप्लब का रोजगार जुमला उजागर हो गया है। वादा: त्रिपुरा में हर घर में कम से कम एक नौकरी (स्रोत: बीजेपी त्रिपुरा विजन डॉक्यूमेंट 2018)। हकीकतः त्रिपुरा में बेरोजगारी 15.6 फीसदी है, जो राष्ट्रीय औसत 8.3 फीसदी से काफी ज्यादा है।”

टीएमसी ने भाजपा नीत त्रिपुरा सरकार पर झूठे वादों के साथ त्रिपुरा के लोगों को बेवकूफ बनाने का आरोप लगाया। “उन्होंने वर्षों से आम लोगों की भलाई की पूरी तरह से उपेक्षा की है! वादा: हर सब-डिवीजन में एक ब्लड बैंक की स्थापना (स्रोत: बीजेपी त्रिपुरा विजन डॉक्यूमेंट 2018). हकीकत: 23 उप-मंडलों में से केवल 10 में कार्यात्मक ब्लड बैंक इकाइयां हैं (स्रोत: त्रिपुरा राज्य रक्त आधान परिषद)।”
उच्च शिक्षा का उल्लेख करते हुए इसने कहा, “त्रिपुरा में कॉलेज शिक्षा की दयनीय स्थिति के लिए भाजपा त्रिपुरा सरकार पूरी तरह से जिम्मेदार है! यह शर्म की बात है कि शिक्षा मंत्री ने इस तरह के गंभीर मुद्दों को ठीक करने की जहमत नहीं उठाई। बिप्लब देब के शासन के तहत छात्रों को परेशानी हो रही है!”
इसने आगे कहा, “बिप्लब त्रिपुरा में कॉलेज की शिक्षा की उपेक्षा करते हैं। त्रिपुरा के कॉलेजों में शिक्षकों की भारी कमी है। 274 रिक्त पदों में से केवल 40 ही भरे गए हैं। वादा: तकनीकी संस्थानों और विज्ञान पार्कों का विकास और प्रचार-प्रसार करना। हकीकत: कॉलेजों में विज्ञान कार्यक्रम विकसित करने या राज्य में पॉलिटेक्निक संस्थान स्थापित करने की कोई योजना नहीं है।”

भाजपा सरकार पर पलटवार करते हुए उसने हैशटैग #इस बार त्रिपुरा के साथ कहा, “भाजपा सरकार कोशिश कर सकती है लेकिन वह हमें त्रिपुरा के लोगों के दिलों से नहीं हटा सकती हैं! हर गुजरते दिन के साथ ममता बनर्जी के लिए समर्थन बढ़ता ही जा रहा है। हम साथ जुड़ने वाले हर एक व्यक्ति का गर्मजोशी से स्वागत करते हैं।”
टीएमसी ने कोविड -19 से संबंधित मुद्दों पर भी भाजपा सरकार को रक्षात्मक रुख अपनाने पर विवश किया है। इसने आरोप लगाया कि भाजपा के नेतृत्व वाली त्रिपुरा सरकार ने त्रिपुरा के लोगों को “फर्जी वादों” के साथ “बेवकूफ” बनाया। “उन्होंने वर्षों से जनता की भलाई की पूरी तरह से उपेक्षा की है! यह बेहद निराशाजनक है कि पूरे महामारी के दौरान बिप्लब देब ने त्रिपुरा में लोगों के जीवन के साथ खिलवाड़ किया है! .. भाजपा की त्रिपुरा सरकार पूरी कोविड -19 स्थिति का प्रबंधन करने में विफल रही है।”

टीएमसी ने बिप्लब सरकार पर कोविड -19 मौतों के प्रति “असंवेदनशील” होने का आरोप लगाया। “जब 0 मौतें हुईं, तो 10 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की गई; 382 मौतों के बाद बिप्लब ने मुआवजा वापस ले लिया (सोर्स यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया)।”
बिप्लब देब पर सीधा हमला करते हुए टीएमसी ने आरोप लगाया कि महामारी के दौरान सीएम ने त्रिपुरा में लोगों के जीवन के साथ खिलवाड़ किया। टीएमसी ने आरोप लगाया, “त्रिपुरा में भाजपा सरकार पूरे कोविड -19 स्थिति का प्रबंधन करने में विफल रही है।”
टीएमसी देश में अपना विस्तार कर रही है। पश्चिम बंगाल में मजबूत पकड़ बनाने के बाद यह पूर्वोत्तर में, खासकर त्रिपुरा और असम में अपने आधार का विस्तार करने की कोशिश कर रही है।

असम के सिलचर से पूर्व लोकसभा सांसद और कांग्रेस की राष्ट्रीय महिला विंग की पूर्व प्रमुख सुष्मिता देव पिछले महीने टीएमसी में शामिल हुईं। उनके पिता संतोष मोहन देव सात बार लोकसभा सांसद रहे। उन्होंने त्रिपुरा पश्चिम से दो बार जीत हासिल की थी।
टीएमसी ने सुष्मिता देव को राज्यसभा के लिए नामित किया और वह चुनाव जीत गईं। अपने पिता की तरह सुष्मिता को भी असम और त्रिपुरा दोनों में जमीनी स्तर पर काफी समर्थन प्राप्त है। वह त्रिपुरा में सक्रिय हो गई हैं।
सुष्मिता देव का मानना है कि त्रिपुरा में टीएमसी को एक “तैयार मंच” मिलेगा क्योंकि सत्तारूढ़ भाजपा किए गए वादों पर खरी नहीं उतरी थी और वाम मोर्चा समय के साथ कमजोर हो गया था, जबकि कांग्रेस के पास पहाड़ी राज्य के सभी बूथों के लिए एक समिति भी नहीं थी। .

सुष्मिता देव के अलावा टीएमसी महासचिव और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी त्रिपुरा में सक्रिय हैं। पार्टी ने व्यापक सर्वेक्षण करने वाले राज्य में राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर के नेतृत्व वाली इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी को भी सक्रिय कर दिया है।
टीएमसी 2023 के त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में भाजपा को एक गंभीर चुनौती देने के लिए तैयार है।
(लेखक दिनकर कुमार अरुण भूमि के सलाहकार संपादक हैं। और आजकल गुवाहाटी में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

टेनी की बर्खास्तगी: छत्तीसगढ़ में ग्रामीणों ने केंद्रीय मंत्रियों का पुतला फूंका, यूपी में जगह-जगह नजरबंदी

कांकेर/वाराणसी। दशहरा के अवसर पर जहां पूरे देश में रावण का पुतला दहन कर विजय दशमी पर्व मनाया गया।...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.