Monday, December 5, 2022

बिलकिस बानो मामले में 11 दोषियों को केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद मिली रिहाई से उठे सवाल- ‘क्या ये क्रूर मानसिकता के अमानवीय गिद्ध हैं’

Follow us:

ज़रूर पढ़े

गुजरात सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में गुजरात सरकार की इस स्वीकारोक्ति कि बिलकिस बानो मामले में 11 दोषियों को उनकी 14 साल की सजा पूरी होने पर रिहा करने का फैसला केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद किया गया,से गृहमंत्री अमित शाह की राजनीतिक और विधिक क्षेत्रों तथा सिविल सोसायटी में तीखी आलोचना हो रही है। इसके लपेटे में प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी आ गये हैं जिन्हें सुप्रीमकोर्ट ने जुलाई 22 में क्लीन चिट दी थी। लगातार सवाल उठ रहे हैं कि क्या वास्तव में भाजपा सरकार के कर्णधार क्रूर मानसिकता के अमानवीय गिद्ध हैं।   

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मंगलवार को बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार मामले के दोषियों की रिहाई पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग की। ट्वीट्स की एक श्रृंखला में, सिद्धारमैया ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा। यह कहते हुए कि दोषियों की रिहाई भाजपा नेताओं की क्रूर मानसिकता को उजागर करती है और उन्होंने इन अमानवीय गिद्धों को क्षमादान देकर पूरे देश को शर्मसार कर दिया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने शाह से देश से माफी मांगने की मांग की।

सिद्धारमैया ने कहा है कि अपने राजनीतिक एजेंडे के लिए संवेदनशील मुद्दे का इस्तेमाल करना चाहता है। उन अमानवीय बलात्कारियों और हत्यारों की रिहाई गुजरात चुनाव से पहले मतदाताओं का ध्रुवीकरण करना है। भाजपा के लिए इस देश की महिलाओं की चिंताओं से ज्यादा महत्वपूर्ण चुनाव हैं।

“पूरे देश ने @narendramodi और उनकी मां के खूबसूरत बंधन को देखा है। लेकिन @narendramodi उस माँ का दर्द क्यों नहीं देख पाए जिसने अपने नवजात और अजन्मे बच्चे को खो दिया? भारत @BJP4India सरकार के क्षमादान के इस अमानवीय निर्णय को भारत कभी माफ नहीं करेगा, ”उन्होंने एक अन्य ट्वीट में जोड़ा।

सिद्धारमैया ने आगे सवाल किया, “सभी महिला सांसद कहां हैं”।

“@BJP4India की महिला सांसद कहाँ हैं? @nsitharaman? @शोभाबीजेपी? यदि वे महिलाओं के हितों के लिए भी खड़े नहीं हो सकते हैं, तो वे अपने पदों पर बने रहने के योग्य नहीं हैं। क्या वे यह जानकर चैन की नींद सो सकते हैं कि बलात्कारियों को उनकी पार्टी ने राजनीतिक कारणों से रिहा किया है?” उन्होंने सवाल किया।

@HMOIndia का बिलकिस बानो मामले के दोषियों को रिहा करने का आदेश, @BJP4India के नेताओं की क्रूर मानसिकता को उजागर करता है। उन्होंने इन अमानवीय गिद्धों को क्षमादान देकर पूरे देश को शर्मसार कर दिया है। @AmitShah को इस्तीफा देना चाहिए और पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। #बिलकिसबानो

– सिद्धारमैया (@siddaramaiah) 18 अक्टूबर, 2022

सरकार ने यह भी कहा है कि निर्णय दिनांक 09.07.1992 “शीर्ष अदालत द्वारा निर्देशित” नीति के अनुसार लिया गया था न कि ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के उत्सव के हिस्से के रूप में कैदियों को छूट के देने के सर्कुलर के तहत। शीर्ष अदालत को सरकार ने बताया कि सरकार ने छूट देने के लिए सात अधिकारियों की राय पर विचार किया।

15 अगस्त को, सभी 11 दोषियों को, जिन्हें 2002 के गोधरा बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी, गुजरात सरकार द्वारा अपनी छूट नीति के तहत उनकी रिहाई की अनुमति देने के बाद गोधरा उप-जेल से रिहा हो गए।

सोमवार को, राज्य सरकार द्वारा प्रस्तुत हलफनामे से पता चला कि निचली अदालत के न्यायाधीश, जिन्होंने 11 लोगों को दोषी ठहराया था, और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की आपत्तियों के बावजूद अगस्त में इन बलात्कारियों को रिहा कर दिया गया, जिसने मुंबई में मामले की जांच और मुकदमा चलाया था। 2004 उच्चतम न्यायालय ने मुकदमे को गुजरात से बाहर स्थानांतरित करने का आदेश दिया। हालांकि, जेल सलाहकार समिति सहित गुजरात सरकार के गृह मंत्रालय और संबंधित अधिकारियों द्वारा 11 दोषियों की रिहाई के लिए रास्ता साफ करने के बाद, 10 अगस्त को रिहाई आदेश जारी किया गया था। हलफनामे के अनुसार, छूट दी गई थी क्योंकि उन्होंने 14 साल की जेल पूरी कर ली थी और उनका “व्यवहार अच्छा पाया गया था”।

सुप्रीम कोर्ट 29 नवंबर को बिलकिस बानो मामले के दोषियों की समय पूर्व रिहाई को चुनौती देने वाली जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को टिप्पणी की कि बिलकिस बानो मामले में 11 दोषियों की समय से पहले रिहाई को चुनौती देने वाली जनहित याचिका के विरोध में गुजरात सरकार द्वारा दायर जवाबी हलफनामा “बहुत भारी” है। जस्टिस अजय रस्तोगी ने पूछा, “निर्णयों की एक सीरीज़ कहा गया है, तथ्यात्मक परिदृश्य कहां है, दिमाग का उपयोग कहां है? ” सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जवाब दिया कि निर्णयों का उल्लेख केवल आसान संदर्भ के लिए किया गया था और इसे टाला जा सकता था।

जस्टिस रस्तोगी और जस्टिस सीटी रविकुमार की पीठ भी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) की सदस्य सुभाषिनी अली, पत्रकार रेवती लौल, प्रो रूप रेखा वर्मा , टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा , डॉ मीरान चड्ढा बोरवणकर (पूर्व आईपीएस), मधु बधूरी (पूर्व आईएफएस), एक्टिविस्ट जगदीप छोकर द्वारा दायर जनहित याचिकाओं पर विचार कर रही थी।

याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस अजय रस्तोगी ने कहा कि इस मामले में रात को भारी भरकम हलफनामा दाखिल हुआ। हमने सुबह इसे अखबारों में पढ़ा। जस्टिस रस्तोगी इतने पर ही नहीं रुके। उन्होंने हलफनामे पर सवाल उठाते हुए कहा कि जवाब में इतने फैसलों का हवाला क्यों दिया? तथ्यात्मक पहलू कहां हैं? विवेक आदि का प्रयोग कहां है?जस्टिस रस्तोगी ने कहा कि इतने ज्यादा फैसलों का जिक्र करने की जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि हमारे इसे पढ़ने से पहले हमने इसे मीडिया में पढ़ा।

गुजरात सरकार की तरफ से पेश सॉलिसिटर जनरल एसजी तुषार मेहता ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि अजनबी आपराधिक मामलों में अदालत नहीं जा सकते। याचिकाकर्ताओं का मामले से कोई लेना-देना नहीं है। इसलिए, यह तर्क सभी याचिकाकर्ताओं पर लागू होता है। कोर्ट ने 29 नवंबर को अगली सुनवाई की तारीख तय की है।

सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने राज्य और दोषियों के जवाबी हलफनामे का जवाब देने के लिए समय मांगा। अनुरोध को स्वीकार करते हुए पीठ ने सुनवाई 29 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दी।

यह अपराध, 2002 के गुजरात दंगों के दौरान हुआ था, जो बिलकिस बानो के सामूहिक बलात्कार और एक सांप्रदायिक हमले में उसकी तीन साल की बेटी सहित उनके परिवार के 14 सदस्यों की हत्या से संबंधित है। बिलकिस अपराध के बाद एकमात्र सर्वाइवर थीं। जांच सीबीआई को सौंप दी गई और सुप्रीम कोर्ट ने मुकदमे को गुजरात से महाराष्ट्र स्थानांतरित कर दिया। 2008 में, मुंबई की एक सत्र अदालत ने सामूहिक बलात्कार और हत्या के लिए 11 लोगों को दोषी ठहराया और उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई। बॉम्बे हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने सजा को बरकरार रखा था।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

‘हिस्टीरिया’: जीवन से बतियाती कहानियां!

बचपन में मैंने कुएं में गिरी बाल्टियों को 'झग्गड़' से निकालते देखा है। इसे कुछ कुशल लोग ही निकाल...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -