Tuesday, January 18, 2022

Add News

बीजेपी का एजेंट है दीप सिद्धू : किसान नेता चढ़ूनी

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

आखिर जिस बात की कल शाम से ही आशंका जाहिर की जा रही थी किसान नेताओं ने भी उसकी पुष्टि कर दी है। किसान आंदोलन के महत्वपूर्ण नेता और उसके अगुआ कतार में शामिल गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने एक बयान में सीधे-सीधे दीप सिद्धू को बीजेपी का एजेंट बताया है। उन्होंने कहा है कि किसानों का लाल किला जाने का कोई कार्यक्रम नहीं था। लेकिन कुछ लोग दीप सिद्धू के बहकावे में आकर वहां चले गए और उहोंने कल की घटना को अंजाम दिया। उन्होंने साफ-साफ कहा कि यह मूलत: किसान आंदोलन है और इसका धर्म से कुछ लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि इसको धार्मिक रंग देना बिल्कुल निंदनीय है। उन्होंने इस पूरी घटना के पीछे प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया। उनका कहना था कि अगर सरकार किसानों द्वारा मांगे गए रूट को दे देती तो इस तरह की कोई घटना नहीं होती। क्योंकि उससे किसानों को भड़काने का दीप सिद्धू जैसे नेताओं को कोई मौका नहीं मिलता।

उन्होंने दीप सिंह सिद्धू को सरकार का दलाल करार दिया। उन्होंने कहा कि वह पहले से भी किसानों को भड़काता रहा है। और इस बात का कोई मौका नहीं छोड़ता कि उन्हें किसान नेताओं के खिलाफ कैसे खड़ा किया जाए। उन्होंने कहा कि वह बहुत पहले से ही गड़बड़ की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों को भी पता नहीं था कि वो शख्स उन्हें लाल किले पर ले जाएगा।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसी भी तरह के बहकावे में नहीं आना है। किसी तरह की गलतफहमी में भी आने की जरूरत नहीं है। उन्होंने प्रशासन द्वारा गोली चलाए जाने की भी निंदा की। उन्होंने अंत में कहा कि दीप सिंह जैसे लोगों से बचने की जरूरत है।

इसके पहले पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के साथ आयी दीप सिंह सिद्धू की तस्वीरों ने यह बता दिया है कि दोनों के बीच कितने घनिष्ठ रिश्ते रहे हैं। सन्नी देओल ने पिछले दिनों सिद्धू से कोई रिश्ता न रखने का ऐलान किया था। जो यह साबित करता है कि उनके साथ सिद्धू के रिश्ते थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक देओल के चुनाव में सिद्धू ने उनके चुनाव एजेंट के तौर पर काम किया था।

किसान नेता जोगिंदर सिंह उग्रहां ने भी लाल किले के मसले पर बयान जारी किया है।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पुस्तक समीक्षा: सर सैयद को समझने की नई दृष्टि देती है ‘सर सैयद अहमद खान: रीजन, रिलीजन एंड नेशन’

19वीं सदी के सुधारकों में, सर सैयद अहमद खान (1817-1898) कई कारणों से असाधारण हैं। फिर भी, अब तक,...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -