Subscribe for notification

मोदी के बयान को सीएम उद्धव ठाकरे ने किया झूठा साबित, नवी मुंबई का डिटेंशन सेंटर रद्द

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक अहम फैसला लेते हुए भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के डिटेंशन सेंटर बनाने का फैसला रद्द कर दिया है। राज्य का यह पहला डिटेंशन सेंटर नवी मुंबई के नेरुल में अवैध प्रवासियों के लिए बनाया गया था। उद्धव का यह फैसला पीएम नरेंद्र मोदी के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने डिटेंशन सेंटर को अफवाह बताया था।

इस वक्त पूरे देश में सीएए और एनआरसी को लेकर उबाल है। सभी धर्म, वर्ग और उम्र के लोग सड़कों पर हैं। पुलिस बर्बर तरीके से इसे दबाने की भी कोशिश कर रही है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दिल्ली के राम लीला मैदान में एक सभा को संबोधित करते हुए डिटेंशन सेंटर की बात को ही सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने भारत में डिटेंशन सेंटर बनाए जाने और डिटेंशन सेंटर बनाने को केंद्र द्वारा विभिन्न राज्यों को भेजे गए दिशा-निर्देशों को नकारते हुए कहा कि भारत में कहीं भी डिटेंशन सेंटर नहीं हैं।

मोदी ने सभा में कहा, “जो हिंदुस्तान की मिट्टी के मुसलमान हैं, जिनके पुरखे मां भारती की संतान हैं… उन पर नागरिकता कानून और एनआरसी, दोनों का कोई लेना देना नहीं है। कोई देश के मुसलमानों को न डिटेंशन सेंटर भेजा जा रहा है, न हिंदुस्तान में कोई डिटेंशन सेंटर है, यह सफेद झूठ है। ये बद इरादे वाला खेल, ये नापाक खेल है।”

महाराष्ट्र में नवीं मुंबई के नेरूल इलाके में देवेंद्र फडणवीस की भाजपा सरकार ने इसी इमारत को डिटेंशन सेंटर बनाने के लिए चुना था। फोटो साभारः मुंबई मिरर

2019 के आम चुनाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने साफ कहा था कि देश भर में एनआरसी को लागू किया जाएगा। भाजपा के चुनाव घोषणा पत्र में भी यह बात शामिल है, लेकिन अब पीएम मोदी एक अलग ही बात कह रहे हैं। सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के मुताबिक हर जिले में एक डिटेंशन सेंटर होगा। इसमें एक प्रमुख आव्रजन चेक पोस्ट होगा।

यह बात सभी को पता है कि पीएम ने झूठ का सहारा लिया है। असम में डिटेंशन सेंटर कायम है और कुछ नए सेंटर बनाने का काम भी चल रहा है। मुंबई में भी मोदी सरकार के दिशा-निर्देश पर पूर्व भाजपा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस डिटेंशन सेंटर बनाने की कवायद में थे। अब नए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे उनके फैसले को रद्द कर दिया है। सेना भवन में पार्टी नेताओं से बात करते हुए, ठाकरे ने कहा कि वह अपनी निगरानी में किसी भी डिटेंशन सेंटर को राज्य में नहीं आने देंगे।

बता दें कि फणड़वीस सरकार ने नवी मुंबई के नेरुल में एक इमारत को डिटेंशन सेंटर के तौर पर चुना था। वर्तमान में यह इमारत खाली पड़ी है।  यहां पहले नवी मुंबई पुलिस का महिला कल्याण केंद्र था। गृह विभाग ने नवी मुंबई के नियोजन प्राधिकरण सिडको को पत्र लिखकर डिटेंशन सेंटर के लिए तीन एकड़ का भूखंड मांगा था। इसके बाद इस इमारत की पहचान की गई थी।

इससे पहले सरकार में शामिल एनसीपी के मुखिया शरद पवार ने प्रदेश में एनआरसी लागू न करने का एलान भी कुछ दिन पहले किया है। गैर-बीजेपी राज्यों में केरल, पंजाब, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, राजस्थान और आंध्र प्रदेश ने पहले ही एनआरसी को असंवैधानिक करार देते हुए लागू करने से इनकार कर दिया है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि 22 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट द्वारा मामले की सुनवाई के बाद उनकी सरकार अपना रुख तय करेगी।

सुभाष चंद्र बोस के पोते ने सीएए को लेकर पार्टी पर उठाए सवाल
नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पोते चंद्र कुमार बोस ने अपनी पार्टी पर सीएए को लेकर अहम सवाल उठाए हैं। खास बात यह है कि वह राज्य बीजेपी में उपाध्यक्ष हैं। कोलकाता में भाजपा की एक रैली के बाद उन्होंने सवाल किया कि सीएए में मुस्लिमों को शामिल क्यों नहीं किया गया है?

चंद्र कुमार बोस ने ट्विट कर कहा, “यदि सीएए 2019 किसी धर्म से जुड़ा नहीं है तो क्यों हम हिंदू, सिख, बौद्ध, ईसाइयों, पारसियों और जैन लोगों पर ही जोर दे रहे हैं। क्यों मुस्लिमों को शामिल नहीं किया जाता? हमें पारदर्शी बनना चाहिए। यदि मुस्लिमो के साथ उनके गृह देश में उत्पीड़न नहीं होगा तो वे नहीं आएंगे, इसलिए उन्हें शामिल करने में कोई नुकसान नहीं हैं।”

This post was last modified on December 24, 2019 4:32 pm

Share
Published by
Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi