मध्य प्रदेश: सरे खेत पुलिस का नंगा नाच चलता रहा, दलित दंपति समेत बच्चे गिड़गिड़ाते रहे

कीटनाशक पीकर बेहोश पड़े पिता को हाथ में लेकर विलाप करते बच्चे की तस्वीर आपने देखी कि नहीं देखी। उस बच्चे के दारुण दुःख के लिए सिर्फ़ एमपी पुलिस या शिवराज सिंह सरकार ही जिम्मेदार नहीं है आप भी हैं। आखिर आपने ही तो उन्हें चुनकर सत्ता सौंपी है। अपना अधिकार मांगते 6 किसानों की हत्या के बावजूद। आपने ही तो पुलिस कस्टडी में होने वाली हत्याओं और फर्जी एनकाउंटर को त्वरित न्याय बताकर पुलिस का मनोबल बढ़ाया है।

मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा गुना में एक दलित किसान दंपति की बर्बरतापूर्ण पिटाई का वीडियो आपने देखा कि नहीं देखा। नहीं देखा तो देख लीजिए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। 

मामला क्या है

14 जुलाई मंगलवार को दोपहर 2:30 बजे गुना के कैंट इलाके के जगनपुर चक में एमपी पुलिस टीम एक दलित किसान दंपति के कब्जे से जमीन छुड़ाने के लिए गई थी। इस दौरान पुलिसवालों ने पति-पत्नी और उसके बच्चों तक लाठियों और लात घूसों से बर्बरतापूर्वक मारा-पीटा।

बताया जा रहा है कि साइंस कॉलेज के लिए दी गई जमीन से कब्जा हटाने गई थी विरोध करने पर दलित दंपति के साथ ये सलूक किया गया। दंपति अपने 7 बच्चों के साथ प्रशासनिक- पुलिस अफसरों के सामने हाथ जोड़ता रहा, उसका कहना था कि यह भूमि गप्पू पारदी ने उसे बटिया पर दी है। कर्ज लेकर वह बोवनी कर चुका है। अगर फसल उजड़ी तो बर्बाद हो जाएगा, लेकिन किसान की फरियाद किसी ने नहीं सुनी। पुलिसिया बर्बरता से आहत होकर एक दलित दंपति ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या का प्रयास किया था। 

बताया जा रहा है कि जमीन पर कई साल से पूर्व पार्षद गप्पू पारदी का कब्जा है। पारदी परिवार ने जमीन राजकुमार अहिरवार को बटिया पर दे दी है। किसान राजकुमार का कहना था कि उसने 2 लाख कर्ज लेकर धान की बोवनी किया है। इससे पहले का भी उस पर 2 लाख का कर्ज चढ़ा हुआ है। इसीलिए उसने जमीन छुड़ाने गई पुलिस और प्रशासनिक अमले से अपील की कि यह कब्जा बाद में हटवा लें। लेकिन प्रशासन ने उसकी एक न सुनी और बलपूर्वक कब्जा हटवाना शुरू कर दिया। 

पुलिस की बर्बरता से आहत दलित किसान राजकुमार बीवी समेत जहर पी लिया। माता-पिता के जमीन पर गिरते ही मासूम बच्चे पास बैठकर रोते रहे। कुछ देर बाद दोनों को उठाकर जिला अस्पताल भेजा गया। राजकुमार के छोटे भाई ने कब्जा हटाने का विरोध किया तो उस पर भी लाठियां भांजी गईं। 

शिवराज सिंह से इस्तीफे की मांग  

Related Post

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद गुना में पुलिस द्वारा किसान दंपति की पिटाई का वीडियो और तस्वीरें फेसबुक, ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। ‘#शिवराजसिंह इस्तीफा दो’ टॉप ट्रेंड करने लगा। 

नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो ट्वीट करते लिखा – मासूम बच्चों की पिटाई कहां का न्याय है। उन्होंने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए और लिखा-“पीड़ित युवक का जमीन संबंधी कोई शासकीय विवाद है तो भी उसे कानूनन हल किया जा सकता है। इस तरह क़ानून हाथ में लेकर उसकी, उसकी पत्नी की, परिजनों की और मासूम बच्चों तक की इतनी बेरहमी से पिटाई, यह कहां का न्याय है? क्या यह सब इसलिए कि वो एक दलित परिवार से है, गरीब किसान हैं?”

देर रात हटाए गए गुना के कलेक्टर और एसपी

मामला हाथ से निकलते देख कल देर रात मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुना के कलेक्टर और एसपी को हटाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही सरकार द्वारा उच्च स्तरीय जांच के आदेश भी दिए गए हैं।  

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

सुशील मानव

Recent Posts

तेज संक्रमण में अमेरिका से भारत आगे, आंध्र-कर्नाटक बने चिंता का सबब

भारत ने कोरोना के दैनिक संक्रमण में दुनिया में नंबर वन की पोजिशन बना ली…

1 hour ago

एसीसी सीमेंट प्लांट में स्लैग से दब कर मजदूर की मौत, शव गेट पर रखकर दिया धरना

झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिला के झींकपानी प्रखंड मुख्यालय स्थित एसीसी सीमेंट प्लांट में काम…

2 hours ago

पेरियार पर आईं पुस्तकें बदलेंगी हिंदी पट्टी का दलित चिंतन

साहित्य के शोधकर्ताओं के लिए यह एक शोध का विषय है कि ईवी रामासामी पेरियार…

2 hours ago

चिराग पासवान खुद को शंबूक के बजाय शबरी का क्यों कह रहे हैं वंशज?

2 अगस्त को एक के बाद एक ट्वीट करते हुए लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष…

3 hours ago

कोरोना, दक्षिणपंथी राजनीति और आपदा में अवसर का अर्थ

दुनिया में पहली बार भारत में कोरोना वायरस से जुड़े सबसे अधिक मामले दो अगस्त…

4 hours ago

9 अगस्त के देशव्यापी मजदूर-किसान आंदोलन को वामपंथी पार्टियों ने दिया समर्थन

रायपुर। छत्तीसगढ़ की पांच वामपंथी पार्टियों ने केंद्रीय ट्रेड यूनियनों, किसान संघर्ष समन्वय समिति और…

4 hours ago

This website uses cookies.