Tuesday, December 7, 2021

Add News

पैंडोरा पेपर्स में रेमंड के चेयरमैन की ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में दो कंपनियां

ज़रूर पढ़े

पैंडोरा पेपर्स के खुलासे पर द इंडियन एक्सप्रेस लगातार खोजी रिपोर्ट प्रकाशित कर रहा है। इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी 14वीं रिपोर्ट में एक और बड़े नाम का खुलासा करते हुए कहा है कि रेमंड लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर गौतम हरि सिंघानिया ने ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में दो कंपनियां, एक का अधिग्रहण स्विस बैंक अकाउंट के लिए किया। इसके पहले की रिपोर्टों में डीसीएम ग्रुप के विवेक भारत राम और उनकी पत्नी सुकन्या भारत राम का नाम सामने आया था।

पैंडोरा पेपर्स के रिकॉर्ड की जांच में रेमंड लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर गौतम हरि सिंघानिया का नाम सामने आया है। सिंघानिया ने 2008 में ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स (BVI)में दो कंपनियों का अधिग्रहण किया था। एक कंपनी में सिंघानिया कंपनी के बेनिफिशियल ओनर हैं और दूसरे में शेयरहोल्डर।

रिपोर्ट के मुताबिक जुलाई 2008 में इनकॉरपोरेट डेरस वर्ल्डवाइड कॉर्पोरेशन का अधिग्रहण गौतम सिंघानिया ने उसी महीने किया था। ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में हेडक्वार्टर वाले सर्विस प्रोवाइडर ट्राइडेंट ट्रस्ट के डॉक्यूमेंट में सिंघानिया को कंपनी का बेनिफिशियल ओनर दिखाया गया है। इसमें उनका मुंबई का पता दिया गया है। ज्यूररिख में यूबीएस के साथ अकाउंट के लिए ये अधिग्रहण किया गया था।

डेरस वर्ल्डवाइड के लिए सर्विस प्रोवाइडर की तरह काम करने वाले ट्राइडेंट ट्रस्ट ने जुलाई 2008 में कंपनी के बोर्ड में तीन डायरेक्टर्स को नियुक्त किया था। ट्राइडेंट कॉरपोरेट सर्विसेज ने 10 जुलाई, 2008 को डेरस वर्ल्डवाइड के लिए 1,700 डॉलर का इनवॉइस रेज किया था। रिपोर्ट के मुताबिक जुलाई 2008 में इनकॉरपोरेट डेरस वर्ल्डवाइड कॉर्पोरेशन का अधिग्रहण गौतम सिंघानिया ने उसी महीने किया था। ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में हेडक्वार्टर वाले सर्विस प्रोवाइडर ट्राइडेंट ट्रस्ट के डॉक्यूमेंट में सिंघानिया को कंपनी का बेनिफिशियल ओनर दिखाया गया है। इसमें उनका मुंबई का पता दिया गया है। ज्यूररिख में यूबीएस के साथ अकाउंट के लिए ये अधिग्रहण किया गया था।

सिंघानिया से जुड़ी दूसरी कंपनी लिंडनविल होल्डिंग्स लिमिटेड थी। इसे एक और ग्लोबल कॉर्पोरेट सर्विस प्रोवाइडर, एल्कोगल के जरिए ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में 2 जनवरी, 2008 को इनकॉरपोरेट किया गया था। इस कंपनी में गौतम सिंघानिया उनके पिता विजयपत सिंघानिया और मां आशा सिंघानिया के साथ शेयरहोल्डर थे। हालांकि इस कंपनी को 2016 में लिक्विडेट कर दिया गया था।

रेमंड ग्रुप का मेजोरिटी बिजनेस टेक्सटाइल और अपैरल का है। शुक्रवार को इसका मार्केट कैपिटलाइजेशन 2,997 करोड़ रुपए था। मार्च 2021 को खत्म साल में कंपनी को 3,446 करोड़ रुपये की नेट सेल्स पर 303 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। पिछले साल कंपनी ने 6,482 करोड़ रुपए की नेट सेल्स पर 201.7 करोड़ रुपए का प्रॉफिट कमाया था।

दरअसल पैंडोरा पेपर्स 14 ग्लोबल कॉर्पोरेट सर्विस फर्म्स की लीक हुई 11.9 मिलियन फाइल्स हैं जिन्होंने 29,000 ऑफ-द-शेल्फ कंपनीज और प्राइवेट ट्रस्ट को अपने क्लाइंट के लिए स्थापित किया था। पैंडोरा पेपर्स में इंडियन नेशनलिटी के कम से कम 380 लोग हैं। इन्हें टैक्स बचाने के लिए बनाया गया था। रिपोर्ट वॉशिंगटन के इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) ने जारी की है।

इस लीक में जिन भारतीयों का नाम सामने आया है, उनमें क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर सबसे बड़ा नाम हैं। सचिन के साथ उनकी पत्नी अंजली, ससुर आनंद मेहता, बिजनेसमैन अनिल अंबानी के साथ कुछ नेताओं के नाम भी शामिल हैं। इसके साथ ही एक्टर जैकी श्रॉफ, सतीश शर्मा, कॉर्पोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया का नाम भी सामने आया है।

पैंडोरा पेपर्स में डीसीएम समूह के भारत राम का नाम

इंडियन एक्सप्रेस के खुलासे के अनुसार पैंडोरा पेपर्स में डीसीएम समूह के प्रमुख लाला श्री राम के पोते विवेक भारत राम और उनकी पत्नी सुकन्या भारत राम, का नाम भी सामने आया है।ये दोनों एक अपतटीय फर्म में शेयरधारक थे, जो सात साल तक संचालित थी और एक समय में $ 1.95 मिलियन की शेयर पूंजी रखती थी।

ऑफशोर फर्म, सोसिना वेंचर्स लिमिटेड, फरवरी 2008 में ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह में ट्राइडेंट ट्रस्ट कंपनी द्वारा स्थापित किया गया था और कम से कम फरवरी 2015 तक अस्तित्व में था। रिकॉर्ड बताते हैं कि सोसीना वेंचर्स के शेयर मार्च 2008 और दिसंबर 2011 के बीच विवेक और सुकन्या को जारी किए गए थे।

ट्राइडेंट ट्रस्ट के कर्मचारियों के बीच ईमेल एक्सचेंजों में विवेक की पहचान मास्टर क्लाइंट के रूप में की जाती है। उनके पास सोसिना वेंचर्स के 6.01 लाख शेयर थे, जो 1 डॉलर के बराबर मूल्य पर जारी किए गए थे, जबकि सुकन्या के पास 60,000 शेयर थे।

एक अन्य बीवीआई-पंजीकृत कंपनी, हैरिस वर्ल्डवाइड लिमिटेड को मार्च 2008 में 1,000 शेयर जारी किए गए थे। रिकॉर्ड बताते हैं कि नवंबर 2008 में अपतटीय फर्म की अधिकृत शेयर पूंजी को 50,000 डॉलर से बढ़ाकर 1.95 मिलियन डॉलर कर दिया गया था। सभी निदेशकों के लिए सोसिना वेंचर्स के एक साइप्रस पता को सूचीबद्ध किया गया है। रिकॉर्ड दिखाते हैं कि विवेक भारत राम की सोसिना वेंचर्स लिमिटेड (बीवीआई) में हिस्सेदारी है। पैंडोरा पेपर्स में रिकॉर्ड सोसिना वेंचर्स की वर्तमान स्थिति नहीं दिखाते हैं, लेकिन बताते हैं कि सभी बोर्ड निदेशकों ने 15 फरवरी, 2015 को इस्तीफा दे दिया।

विवेक भारत राम डीसीएम सर्विसेज, डीसीएम अनुभव मार्केटिंग, श्रीराम इंफोमीडिया, श्रीराम ग्लोबल एंटरप्राइजेज, श्रीराम स्किल एंड एजुकेशन लिमिटेड और श्रीराम एडुकॉर्प लिमिटेड में निदेशक हैं। वह सितंबर 1992 से दिसंबर 2008 तक रैनबैक्सी प्रयोगशालाओं में निदेशक थे।
(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

संविधान की प्रस्तावना में समाजवादी और पंथनिरपेक्ष शब्द जोड़ने पर जस्टिस पंकज मित्तल को आपत्ति

पता नहीं संविधान को सर्वोपरि मानने वाले भारत के चीफ जस्टिस एनवी रमना ने यह नोटिस किया या नहीं...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -