सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को लिखा एक और खत; राशन के दायरे, मात्रा और अवधि को बढ़ाने की मांग की

Estimated read time 1 min read

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर ज़रूरतमंदों को अगले छह महीने तक 10 किग्रा राशन मुहैया कराने की माँग की है। गांधी ने अपने पत्र में कहा है कि इसमें ऐसे लोगों को भी शामिल किया जाना चाहिए जिनके पास राशन कार्ड नहीं है।

सोनिया ने पत्र में राशन कार्डधारियों को तीन महीने (अप्रैल-जून) तक 5 किलो राशन मुफ्त मुहैया कराने के लिए पीएम मोदी को धन्यवाद दिया है। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि संकट जितना गहरा है उसके लिहाज़ से इसे तीन महीना और बढ़ाए जाने की ज़रूरत है। उन्होंने पत्र में कहा है कि लाक डाउन का लोगों के जीवन पर बेहद विपरीत प्रभाव पड़ा है। लिहाजा उसको देखते हुए वह कुछ सुझाव देना चाहती हैं।

इसके तहत उन्होंने कहा है कि तीन महीने तक मुफ़्त में दिए जाने वाले पाँच किलो अनाज की मात्रा को बढ़ाकर न केवल 10 किलो किए जाने की ज़रूरत है बल्कि उन्होंने इसकी मियाद को तीन महीने से बढ़ाकर छह महीने करने की माँग की है। लिहाज़ा उन्होंने इसे सितंबर 2020 तक दिए जाने की ज़रूरत बतायी है। उन्होंने कहा है कि लोगों की आर्थिक हालत को देखते हुए इसे मुफ़्त में दिए जाने की ज़रूरत है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि सितंबर तक 10 किलो अनाज की सुविधा ऐसे लोगों को भी मुहैया की जा सकती है जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं। इस सिलसिले में उन्होंने प्रवासी मज़दूरों का हवाला दिया है। उन्होंने कहा है इनमें से ज़्यादातर के पास राशन कार्ड शायद न हों।

लेकिन लाकडाउन की सबसे ज़्यादा मार इन पर ही पड़ने जा रही है। इसके साथ ही उनका कहना था कि बहुत सारे ऐसे लोग जो राशन कार्ड के दायरे में आते हैं लेकिन किन्ही कारणों से उन्हें नहीं दिया जा सका। उनको भी इसमें शामिल किए जाने की ज़रूरत है।

उन्होंने पत्र में कहा है कि मौजूदा संकट ने बहुत सारे खाद्य सुरक्षा युक्त परिवारों को भी असुरक्षित कर दिया है या फिर उन्हें ग़रीबी के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है। इसी कड़ी में उन्होंने 2011 की जनगणना के बाद बढ़ी आबादी को भी ध्यान में रखने की उनसे गुज़ारिश की है।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours