Tuesday, October 19, 2021

Add News

data

भारत में मानव अपशिष्ट निष्पादन एक गंभीर समस्या

अगर हम शहरी स्वच्छता की बात करें तो इस मामले में प्रमुख चुनौती है समस्या की विराटता की अनदेखी। शहरी स्वच्छता की चुनौतियां कई तरह की हैं और इसकी उपेक्षा करना स्वच्छता के मोर्चे पर भारत का प्रदर्शन पीछे...

गुजरात के सुरेंद्र नगर जिले में कोरोना से मरे 7257, सरकार ने बताया 127!

गुजरात का सुरेंद्र नगर ज़िला साल्ट माइनिंग के लिए जाना जाने वाला ज़िला है। जो देश की 25 प्रतिशत नमक की ज़रूरत की पूर्ति करता है। कपास, रेडी, मूंग फली की खेती के कारण सुरेंद्र नगर में एग्रो प्रोडक्ट...

जनता के ‘मन की बात’ से घबराये मोदी की सोशल मीडिया को उससे दूर करने की क़वायद

करीब दस दिन पहले पत्रकार मित्र आरज़ू आलम से फोन पर बात हुई। पहले कोविड-19 और फिर टाई-फाईड से जूझ रहे आरज़ू से उनके स्वास्थ्य को लेकर शुरू हुई औपचारिक बातचीत कैसे राजनीतिक बातचीत में बदल गई पता ही...

और भी बहुत काम हैं! प्रवासी मजदूरों की मौतों का आंकड़ा जुटाने के लिए थोड़े ही है सरकार

कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच आज मानसून सत्र के पहले दिन लोकसभा में सरकार से प्रश्न पूछा गया कि- “क्या सरकार के पास अपने गृहराज्यों में लौटने वाले प्रवासी मजदूरों का कोई आंकड़ा है? विपक्ष ने सवाल में यह...

चीन कर रहा था भारत के पूरे सत्ता प्रतिष्ठान पर निगरानी; पीएम और राष्ट्रपति से लेकर 10 हजार लोग शामिल

नई दिल्ली। जब भारत सरकार तमाम तरह के डिजिटल उपायों के जरिये अपने नागरिकों पर निगरानी की व्यवस्था कर रही थी उसी समय चीन भारत के सर्वोच्च पदों पर बैठे लोगों के साथ इसी काम को अंजाम दे रहा...

राष्ट्र के नाम संबोधन: दर्शन और उपदेश देकर चले गए प्रधानमंत्री जी

दिल-दिमाग लाख मना करे, लेकिन प्रधानमंत्री का राष्ट्र के नाम संबोधन सुनना ही पड़ता है, आखिर वे देश के मालिक जो ठहरे। कहने को भारत में लोकतंत्र है, संसद, कैबिनेट, नौकरशाही, न्याय पालिका और तमाम तथाकथित स्वायत्त लोकतांत्रिक संस्थाएं...

कोविड के भ्रामक आंकड़े, भारतीय मध्य-वर्ग और पत्रकारिता

दुनिया में जब लॉकडाउन की शुरुआत हुई तो नागरिकों के दमन की ख़बरें सबसे ज्यादा केन्या व अन्य अफ्रीकी देशों से आईं। उस समय ऐसा लगा था कि भारत का हाल बुरा अवश्य है लेकिन उन गरीब देशों की तुलना...

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डेटा डिक्टेटरशिप

अगर आप आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से चिंतित नहीं हैं तो आपको चिंतित होना चाहिए। इन दिनों डेटा डिक्टेटरशिप को लेकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बराबर चर्चा में है। जब किसी तकनीकी पर सरकार और बड़े कॉरपोरेट एक साथ आ...

कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई में आँकड़ों की भी है अपनी अहमियत

कोरोना काल के आंकड़े हमारे अस्तित्व और विकास के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण होने वाले हैं। इस बात पर दुनिया भर के वैज्ञानिक और समाजशास्त्रियों का ध्यान तेजी से गया है। वे इसे इकट्ठा करने और इसके विश्लेषण पर जोर...

आंकड़ों की राजनीति और लॉकडाउन से होने वाली मौतें

यूरोमोमो (EuroMOMO) नामक संस्था ने 24 यूरोपीय देशों में 16 मार्च, 2020 से 19 अप्रैल , 2020 के बीच हुई ‘अतिरिक्त मौतों’ के आँकड़े जारी किए हैं। उन्होंने इसकी तुलना वर्ष 2009 से 2019 के बीच इसी अवधि में...
- Advertisement -spot_img

Latest News

लोग कोरोना से मर रहे थे और मोदी सरकार के मंत्री संपत्ति ख़रीद रहे थे

कोरोनाकाल के पहले चरण की शुरुआत अप्रैल 2020 से शुरु होती है। जबकि कोरोना के दूसरे चरण अप्रैल 2021...
- Advertisement -spot_img

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.