Thursday, January 27, 2022

Add News

environment

ऑक्सीजन की कमी से मरे नागरिकों को पेड़ लगाने की नसीहत

अप्रैल-मई 2021 कोरोना की दूसरी लहर में देश के नागरिकों को ऑक्सीजन की कमी से लोगों को तड़पा तड़पाकर मारने वाली सरकार के पर्यावरण मंत्री रहे प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि हम जितने पेड़ लगाएं उतना ही बेहतर है।...

चाल-खाल के जरिये पर्यावरण संरक्षण की कोशिश

जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर बीते दो हफ़्तों स्कॉटलैंड के ग्लासगो में चला अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन COP26 अब ख़त्म हो गया है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सम्मेलन में पहुंच कर भारत की तरफ़ से इस चुनौती से निपटने के...

विश्व विख्यात फूलों की घाटी की घटती जा रही है नैसर्गिक छटा

देहरादून। बेतुके वन्य जीवन संरक्षण उपायों, विवेकहीन पर्यटन विकास एवं पारिस्थितिकी तंत्र के बारे में जानकारी के नितांत अभाव के कारण विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है और अगर अभी भी इस तरह...

क्या राहत की सांस ले सकते हैं हम?

भारत 2070 तक शून्य-उत्सर्जन(नेट-जीरो) प्राप्त कर लेगा। ग्लासगो में विश्व जलवायु सम्मेलन की शुरुआत में ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस संकल्प की घोषणा की। साथ ही 2030 तक 500 गीगावाट गैर-जीवाश्म-ईंधन से ऊर्जा का उत्पादन, कुल ऊर्जा खपत...

ग्लासगो जलवायु परिवर्तन सम्मेलन: भारत ने उत्सर्जन में कटौती की घोषणा की

जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने के लिए भारत ने अपने लक्ष्यों की घोषणा कर दी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत 2030 तक संभावित कार्बन उत्सर्जन में एक खरब टन की कटौती करेगा। ग्लासगो में विश्व जलवायु...

बड़ी अपेक्षाएं हैं ग्लासगोव जलवायु सम्मेलन से

बड़ी अपेक्षाओं के साथ ब्रिटेन (स्कॉटलैंड) के ग्लासगो शहर में जलवायु परिवर्तन पर वैश्विक सम्मेलन सीओपी 26 शुरू हो गया है। यह सम्मेलन पहले के कई सम्मेलनों से इस मामले में अलग है कि इसमें किसी राजनीतिक मसले पर...

बचाने से ज्यादा पर्यावरण को उजाड़ने का काम करती हैं सरकारें

अक्सर हमारे देश में पर्यावरण बचाने और प्रदूषण से मुक्ति के लिए वृहद वृक्षारोपण का नाटक करने में,नदियों को प्रदूषणमुक्त करने में अरबों-खरबों रुपयों का वारा-न्यारा कर दिया जाता है। जबकि वास्तविकता यह है कि उसमें होता कुछ नहीं...

पर्यावरण को बचाने के लिए मंडी लोकसभा उप चुनाव में लोगों ने किया नोटा का इस्तेमाल

किन्नौर की शांत वादियों में इस बार भगत सिंह के नारे की गूंज नौजवानों के मुंह से सुनाई दी। मंडी लोक सभा के लिए शनिवार को हुए उप चुनाव से पहले किन्नौर के नौजवानों ने अपने पर्यावरण, जल-जंगल-जमीन को...

जंगलों और पारिस्थितिकी के लिए खतरे की घंटी है वन संरक्षण कानून 1980 में प्रस्तावित संशोधन

हाल ही में पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा वन संरक्षण अधिनियम 1980 में प्रस्तावित संशोधनों को लेकर प्रकाशित मसौदा दस्तावेज पर हिमाचल प्रदेश के विभिन्न पर्यावरणवादियों और सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने अपनी आपत्तियां जाहिर की हैं।...

ख़ास रिपोर्ट: एक साल में तीन-तीन आपदाओं से लकवाग्रस्त हो गया है उत्तराखंड

16 अक्टूबर को उत्तराखंड में अच्छी धूप खिली हुई थी और मौसम बेहद सुहावना था। इस साल मानसून लंबा चला था और राज्य में सूरज ने काफी लंबे अर्से से आँख-मिचौली खेलने के बाद अब खुलकर अपने दर्शन दिए...
- Advertisement -spot_img

Latest News

बहु आयामी गरीबी के आईने में उत्तर-प्रदेश

उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाना है- ऐसा योगी सरकार का संकल्प है। उनका संकल्प है कि विकास के...
- Advertisement -spot_img