Wednesday, December 1, 2021

Add News

foreign

मोदी सरकार के नकारेपन और अक्षमता का जिंदा स्मारक बन गया है कोरोना वैक्सीनेशन

सरकार वैक्सीनेशन को लेकर फिर उतने ही कन्फ्यूजन में है, जितना कि नोटबन्दी के समय में थी। नोटबन्दी के समय में भी 8 नवम्बर 2016 से 31 दिसम्बर 2016 तक सरकार ने लगभग सौ आदेश जारी किये, जिनमें से...

अमिताभ घोष का नया उपन्यासः जलवायु-परिवर्तन,शरणार्थी और संक्रमण जैसी जटिल चुनौतियों की दिलचस्प गाथा

यह एक ऐसा उपन्यास है, जिसका कथानक दुनिया के चार महाद्वीपों में फैला है! इसके चरित्र भी कई देशों से हैं। लेकिन अलग-अलग देशों-क्षेत्रों, धर्मों-जातियों, वर्गों और पेशों की विविधता के साथ उऩकी कुछ बड़ी समस्याओं में एकरूपता हैं।...

भारतीय मीडिया ने भले ब्लैकआउट किया हो, लेकिन विदेशी मीडिया में छाया रहा किसानों का ‘भारत बंद’

भारत के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने पूरी तरह से किसानों के देशव्यापी ‘भारत बंद’, चक्का जाम और विरोध रैली को ब्लैक आउट कर दिया। लेकिन दुनिया के तमाम देशों की मीडिया में भारतीय किसानों के विरोध-प्रदर्शन को प्रमुखता से स्थान...

सुलझने के बजाय, उलझता जा रहा है भारत-चीन सीमा विवाद

एशिया के दो सबसे बड़े पड़ोसी देश, आज फिर एक बार 1962 के बाद एक दूसरे के आमने-सामने हैं। मामला चीनी विश्वासघात और घुसपैठ का है और इन सबके बीच अंतरराष्ट्रीय कूटनीति की भूमिका तो है ही। युद्ध सदैव...

विकास नहीं, यह मौत का है रास्ता

वह समाज खूबसूरत होता है जो अपनी कमियों को हंसते हुए स्वीकार करे और उसे ठीक करने के लिए कमर कस ले। यह हरेक इंसान के लिए भी जरूरी है। हर आदमी शीशे में अपना चेहरा देखते हुए थोड़ा...

राजनाथ सिंह की चीनी रक्षामंत्री के साथ हुई बातचीत, विदेश सचिव ने बताया भारत-चीन सीमा की स्थिति को अभूतपूर्व

नई दिल्ली। विदेश मंत्री हर्ष वर्धन के लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा की स्थिति को 1962 के बाद से अभूतपूर्व करार देने के कुछ ही घंटों बाद सीमा संकट को हल करने के लिए देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह...

अपने ही बिछाए जाल में फंस गयी बीजेपी! विदेश मंत्री और एनएसए के चीनी संस्थाओं से निकले सीधे रिश्ते

नई दिल्ली। मौजूदा समय और परिस्थितियों के हिसाब से जो जानकारी सामने आ रही है वह अपने आप में बेहद सनसनीखेज है। इसके सामने आने के बाद यह कहा जा सकता है कि कांग्रेस से जुड़े राजीव गांधी पीस...

भारत-नेपाल विवाद और कालापानी का सच

नवम्बर 1814 से मार्च 1816 तक नेपाल (जिसे उस समय गोरखा अधिराज्य कहा जाता था) और भारत पर शासन कर रही ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच युद्ध चला जिसमें नेपाल को पराजय का सामना करना पड़ा। 4 मार्च 1816...

क्यों असफल हो रही है मोदी की विदेश नीति?

कोरोना संकट के दौरान अगर आप ने अख़बारों को ध्यान से पढ़ा होगा तो एक ‘पैटर्न’ आप ने ज़रूर नोटिस किया होगा। बहुत सारे लेख ऐसे प्रकाशित किए गये जिनमें इस बात का दावा किया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र...

भारत-चीन सीमा झड़प: विदेश मंत्री ने की अपने चीनी समकक्ष से बात, 19 को मामले पर सर्वदलीय बैठक

नई दिल्ली। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी से गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुए खूनी झड़प को लेकर आज दोपहर में बात की। भारत के विदेश मंत्रालय ने एक बयान...
- Advertisement -spot_img

Latest News

ऐक्टू ने किया निर्माण मजदूरों के सवालों पर दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल के सामने प्रदर्शन

नई दिल्ली। ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (ऐक्टू) से सम्बद्ध बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन ने निर्माण मजदूरों की...
- Advertisement -spot_img