Tuesday, November 29, 2022

higher

अकबर इलाहाबादी से अकबर प्रयागराजी तो अमरूद इलाहाबादी कैसे!

जब से हमारे इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया गया, तब से मैं सोचता रहा हूं कि वहां के अमरूदों का नाम क्यों नहीं बदला गया? क्या इलाहाबाद के नागरिकों के मुकाबले अमरूदों की तरफ से ज्यादा कड़ी प्रतिक्रिया की...

उच्च शिक्षण संस्थाओं में हो रही है सामाजिक न्याय की हत्या

आजादी के साथ ही भारतीय संविधान के बनाने की प्रक्रिया के दौरान ही हमारे पुरखों ने इस बात का हमेशा ख्याल रखा और उम्मीद जताई थी। इस गैर बराबरी, भेदभाव और सामंती मूल्यों पर निर्मित भारतीय समाज को न्यायप्रिय,...

उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग का कमाल, बिना परीक्षा दिये ही 5000 अभ्यर्थी हुये प्रतिस्पर्धा से बाहर

उत्तर प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों (एडेड डिग्री कॉलेज) में 2003 असिस्टेंट प्रोफेसरों की भर्ती के लिये आज 30 अक्तूबर को हो रहे पहले चरण की परीक्षा से क़रीब पांच हजार अभ्यर्थी सिर्फ़ इसलिये बाहर कर दिये गये...

प्रतिभाओं के लिए ग्रहण बन गया है शिक्षा नियुक्ति में प्रतिशत का पैमाना

बातें थर्ड divisioner की। देश में महात्मा गांधी से लेकर कई ऐसे लोग हुए जिनको अपने जीवन में थर्ड डिग्री से संतोष करना पड़ा। क्योंकि स्केलिंग उस समय वही थी, टॉपर को 50, 55 और 60 के आस पास प्रतिशत आया...

दलित: मौत के बाद भी अपमान का अन्त नहीं !

क्या कोई जानता है 21 वीं सदी की शुरुआत में चकवारा के दलितों के एक अहम संघर्ष को। याद है जयपुर से बमुश्किल पचास किलोमीटर दूर चकवारा के दलितों ने गांव के सार्वजनिक तालाब पर समान हक पाने के...

हर तरीक़े से संदिग्ध हो गया है भारत के मध्य और उच्च वर्ग का चरित्र

भारत का मध्य और उच्च वर्ग ख़ास तौर पर उच्च जातियों का वर्ग 'करुणा' शब्द और उसके अर्थ अभिप्राय का शोषण करने में माहिर है। इस वर्ग की मन-वचन और कर्म की संगति पूरी तरह नष्ट हो चुकी है।...

यूपी में उच्च शिक्षा के निजीकरण की भी हो गयी शुरुआत, पहले चरण में तीन सरकारी डिग्री कालेजों के मांगे गए प्रस्ताव

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश सरकार उच्चशिक्षा के निजीकरण की तैयारी में है। इसके लिए प्रारम्भिक चरण में प्रदेश के तीन राजकीय डिग्री कालेजों को पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप (पीपीपी) में देने की तैयारी है। उच्च शिक्षा निदेशालय ने उत्तर प्रदेश शासन के पत्रांक...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कस्तूरबा नगर पर DDA की कुदृष्टि, सर्दियों में झुग्गियों पर बुलडोजर चलाने की तैयारी?

60-70 साल पहले ये जगह एक मैदान थी जिसमें जगह-जगह तालाब थे। बड़े-बड़े घास, कुँए और कीकर के पेड़...
- Advertisement -spot_img