Thursday, February 9, 2023

index

झारखंड: राशन वितरण में गड़बड़ी के खिलाफ लातेहार में ग्रामीणों का विरोध-प्रदर्शन

भूख और कुपोषण पर नजर रखने वाले ग्लोबल हंगर इंडेक्स की वेबसाइट के अनुसार भारत 121 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स (GHI) 2022 में 101 से 107वें स्थान पर खिसक गया है। अब इस सूचकांक में पड़ोसी देश पाकिस्तान,...

भारत भूख सूचकांक में अफगानिस्तान के करीब; म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका की स्थिति देश से बेहतर

अभी तीन दिन पहले बुधवार 12 अक्तूबर, 22 को सुर्खियाँ दिखीं कि भारत भले ही इस समय 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य लेकर चल रहा हो लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) का मानना है कि इसमें 10...

नीति आयोग के हेल्थ इंडेक्स में केरल टॉप पर, डबल इंजन सरकार के बावजूद यूपी और बिहार फिसड्डी

नीति आयोग ने चौथा हेल्थ इंडेक्स जारी किया है। इसके मुताबिक, बड़े राज्यों में स्वास्थ्य सुविधाओं के मामले में केरल टॉप पर है, जबकि उत्तर प्रदेश अंतिम पायदान पर है। नीति आयोग के हेल्थ इंडेक्स में केरल एक बार...

ग्लोबल हंगर इंडेक्स को लेकर भी असहिष्णु सरकार

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत के खराब प्रदर्शन और भारत सरकार द्वारा इंडेक्स की विश्वसनीयता पर उठाए गए प्रश्नों पर चर्चा करने से पूर्व यह जानना अधिक आवश्यक लगता है कि सरकार कुपोषण और भूख की समस्या को लेकर...

भूख के पैमाने पर भारत फिसड्डी

दुनिया भर के देशों में भूख और पोषण का आकलन करने वाली ‘वैश्विक भूख सूचकांक’(Global Hunger Index- GHI)- 2021 जारी कर दिया गया है। इस सूचकांक में भारत की स्थिति पिछले वर्ष के मुकाबले और अधिक बदतर हालात में...

वैश्विक भूख सूचकांक: हम सोमालिया हो गए हैं, नेपाल और बांग्लादेश हमसे कहीं आगे

नरेंद्र दामोदर दास मोदी के नेतृत्व में भारत देश भुखमरी, ग़रीबी, कुपोषण, बाल मृत्यु दर में नित नई इबारत लिख रहा है। बता दें कि भूख और कुपोषण पर नज़र रखने वाली वैश्विक भुखमरी सूचकांक की वेबसाइट पर कल...

विपन्नता के समुद्र में जाहिलियत की नदी बह रही है!

जाहिलियत और विपन्नता ही अब इस देश की पहचान बन गयी है। और अफगानिस्तान का तालीबानी निजाम हमारा आदर्श है। मौजूदा 'विश्व गुरू' की सच्चाई यह है कि अलीगढ़ में एक परिवार को पिछले 10 दिनों से अन्न का...

भारत स्वतंत्र देशों की सूची से ही बाहर हो गया

पिछले कुछ वर्षों से भारत के लिए गर्व करने वाले विषयों का अकाल सा पड़ा हुआ है और गरीबी, भूख, प्रेस स्वतंत्रता, मानव विकास सूचकांक आदि सभी रिपोर्टों में देश की स्थिति निरंतर दयनीय होती जा रही है। लेकिन...

मोदी जी के नेतृत्व में देश सोमालिया और सूडान बनने की तरफ अग्रसर

गाल बजाने और बड़ी-बड़ी डींगें हांकने से अगर सब कुछ सुधर जाए तो विकास और बदलाव लाने की सारी राजनीति बेकार ही है। मौजूदा सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि तो यही है कि उसने भारतीय लोकतंत्र, प्रेस की आज़ादी और...

सूबों में सबसे सुशासित केरल और सबसे कुशासित उत्तर प्रदेश: रिपोर्ट

'जन मामलों का सूचकांक 2020' जारी हो गया है। इस सूचकांक के अनुसार बड़े राज्यों में से सबसे सुशासित राज्य केरल और सबसे कुशासित राज्य उत्तर प्रदेश है। इस सूची के बड़े राज्यों की श्रेणी में पहले स्थान पर...

Latest News

‘उफ़! टू मच डेमोक्रेसी’: सादा ज़बान में विरोधाभासों से निकलता व्यंग्य

डॉ. द्रोण कुमार शर्मा का व्यंग्य-संग्रह ‘उफ़! टू मच डेमोक्रेसी’ गुलमोहर किताब से प्रकाशित हुआ है। वैसे तो ये व्यंग्य ‘न्यूज़क्लिक’...