Tuesday, October 26, 2021

Add News

Science

सावरकर का हिंदुस्थान-1: प्रतिशोध और प्रतिहिंसा पर आधारित है सावरकर का दर्शन

सावरकर के आधुनिक पाठ में उन्हें वैज्ञानिक, आधुनिक और तार्किक हिंदुत्व के प्रणेता तथा हिन्दू राष्ट्रवाद के जनक के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है। रणनीति कुछ ऐसी है कि जब सावरकर के इन कथित विचारों को प्रचारित...

विज्ञान के विकास के लिए स्वतंत्रता सबसे बड़ी शर्त, संदर्भ सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर

भारत की इस धरती पर कई ऐसे महान वैज्ञानिक पैदा हुए हैं, जिन्होंने अपनी खोज और रिसर्च से दुनिया के विकास को नई दिशा दी है। विडंबना यह है कि यह काम वे भारत में रहते हुए नहीं कर...

ग्लोबल वार्मिंग और आकाशीय बिजली का अन्तर्सम्बन्ध

अभी पिछले दिनों आकाशीय बिजली गिरने से राजस्थान और उत्तर प्रदेश में बहुत से लोग अकाल कलवित हो गए। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार भारत में हर साल औसतन 2000 लोग आकाशीय बिजली गिरने से अपना अमूल्य जीवन खो...

हिंदुत्व की भ्रामक अवधारणा के बरक्स विवेकवादी परंपरा

भारत की विवेकवादी परंपरा में लोकायत प्राचीनतम परंपराओं में से एक है जिसे तांत्रिक बौद्ध और वेदांती हिंदुत्व के अनुयायियों द्वारा बहुत बदनाम किया गया है और बड़ा नुकसान पहुंचाया गया। संसार के प्रति इनका दृष्टिकोण अपने समय के...

हमारे दौर के लिए एक विलाप

जिस तरह से एम्बुलेंस के साइरन ट्रैफिक के बीच से रास्ता बनाने के लिए चीख रहे हैं, हमें भी अब उन बहुत से नुकसानों और अपने सामूहिक दुख पर विलाप करने की जरूरत है जो घातक कोविड महामारी से...

मोदी-विज्ञानः अज्ञान या फरेब?

आक्सीजन, पानी और एनर्जी देने वाला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काल्पनिक टरबाइन सोशल मीडिया पर कई दिनों तक छाया रहा। देश और दुनिया में लोगोें को यह मजाक काफी पसंद आया। मोदी जी भी इस पर बात करते वक्त...

नयी शिक्षा नीतिः पिछड़े चिंतन के नेता कैसे तैयार करेंगे नई सोच के नौजवान!

शिक्षा एक धारदार चाक़ू की तरह है। अगर आपको सही शिक्षक जीवन में सही समय पर मिल जाए तो जीवन काफ़ी आसान हो जाता है, लेकिन अगर ग़लत जानकारी देने वाला शिक्षक आपको मिल जाए तो आपका बना बनाया...

चीन में कोरोना के टीके लगने शुरू

चीन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के विज्ञान और प्रौद्योगिकी केंद्र के प्रमुख झेंग झोंगवेई (Zheng Zhongwei) ने 23 अगस्त रविवार को राज्य के मीडिया संगठन सीसीटीवी को बताया कि सरकार ने स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और सीमा अधिकारियों सहित श्रमिकों के...

टोना-टोटका और अंधविश्वास नहीं वैज्ञानिक प्रामाणिकता है बीमारियों के इलाज का पैमाना

1991 के बसंत में कनाडा की मैकमास्टर युनिवर्सिटी के डाक्टर जार्डन गुयात ने ‘साक्ष्य आधारित चिकित्सा’ (एविडेंस बेस्ड मेडिसिन) पारिभाषिक पद गढ़ा था। सरल शब्दों में इसका अर्थ होता है- मरीजों के इलाज के बारे में उस समय तक...

कोविड 19, विज्ञान की अमूर्त दुनिया और विवेक

काेविड-19 से संबंधित तथ्यों को लेकर, जिस प्रकार के असमंजस की स्थिति है, उससे हममें से कई किंकर्तव्यविमूढ़ हैं। अनेक लोगों को मीडिया और अपनी सरकारों और विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसे संगठनों के माध्यम से प्रचारित करवाए जा रहे...
- Advertisement -spot_img

Latest News

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में रिश्वत के दोषी पाए गए एक जिला एवं सत्र न्यायाधीश की फाइल पर चार साल से कार्रवाई नहीं

उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल भले ही राजनेताओं के खिलाफ आपराधिक मामलों के समयबद्ध निपटान का संकल्प व्यक्त किया...
- Advertisement -spot_img