Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

ग्राउंड रिपोर्ट: घरेलू हिंसा के विरुद्ध समाज को जागरूक होने की जरूरत

“मेरी शादी 30 साल पहले हुई थी। शादी के कुछ दिन तो अच्छे रहे लेकिन उसके बाद मारपीट और घरेलू हिंसा का कहर इस कदर [more…]

Estimated read time 3 min read
ज़रूरी ख़बर

हे राजनीति के पुरुषोत्तम गद्दी बचा रहे हैं या रद्दी बचा रहे हैं! 

नीतीश कुमार भारतीय जनता पार्टी के साथ अ-सहज हो गये थे। उन्होंने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का साथ छोड़कर बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के [more…]

Estimated read time 5 min read
संस्कृति-समाज

पुस्‍तक समीक्षा: वर्तमान संदर्भ में क्‍या हैं धर्म, समाज और संस्‍कृति के निहितार्थ ?

किसी भी देश में जो मौजूदा समाज व्‍यवस्‍था होती है उसी जड़ें वहां के धर्म और संस्‍कृति में निहित होती हैं। वहां की राजनीति और [more…]

Estimated read time 1 min read
राज्य

वडोदरा: मुस्लिम महिला के फ्लैट आवंटन का सोसाइटी के निवासी ही कर रहे हैं विरोध 

नई दिल्ली। वडोदरा में उद्यमिता और कौशल विकास मंत्रालय में काम करने वाली एक मुस्लिम महिला को जब वडोदरा म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन की ओर से बनाए [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

मतगणना में हेरफेर के खिलाफ सिविल सोसाइटी चलाएगी अभियान

नई दिल्ली। सिविल सोसाइटी के सदस्यों ने इस बात की आशंका जतायी है कि चुनाव में हार का सामना कर रही बीजेपी जीतने के बाद [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

सलमान सोज और अमिताभ दुबे का लेख: कांग्रेस एक ज्यादा न्यायपूर्ण समाज बनाना चाहती है

कांग्रेस पार्टी के घोषणापत्र ने भारत में बढ़ती जा रही गैर-बराबरी पर एक महत्वपूर्ण बहस छेड़ दी है। चूंकि भाजपा कांग्रेस पर धन का पुनर्वितरण [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

लोकतंत्र के अंतर्मन में सत्ता का शोर और समाज के निर्भय होने का स्वप्न 

आम चुनाव 2024 का पहला चरण 19 अप्रैल को पूरा हुआ। राजनीतिक विश्लेषक और विशेषज्ञ मतदान प्रतिशत में गिरावट और लोकतंत्र के पर्व के प्रति [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

‘ये बाबू संविधान बचाईं कि चिराग बाबू के जिताईं समझ में नाही आवत बा’

यह बात बिहार की करीब 60-65 वर्ष की पासी समाज की एक महिला ने कही। जब हम लोग संविधान बचाने और भाजपा को हराने के [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

तानाशाही के खिलाफ बुलंद आवाज का नाम है अमर सिंह चमकीला

1 comment

‘अमर सिंह चमकीला’ साधारण बायोपिक फ़िल्म होते हुए भी असाधारण फ़िल्म है। इम्तियाज अली सोसाइटी के दबाए जाने वाले डिस्कोर्स को पॉपुलर तरीके से परोसने [more…]

Estimated read time 1 min read
राज्य

ग्राउंड रिपोर्ट: रीति रिवाजों के नाम पर लैंगिक भेदभाव से मुक्त नहीं हुआ समाज

हमारे समाज में अक्सर ऐसे कई रीति रिवाज देखने को मिलते हैं जिससे लैंगिक भेदभाव स्पष्ट रूप से नज़र आता है। लड़का और लड़की के जन्म [more…]