Subscribe for notification

प्रियंका गांधी के निर्देश पर पीड़ित को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ढूँढ निकाला, भोजन-पानी कराने के बाद बस से किया घरों के लिए रवाना

नई दिल्ली। नीचे वीडियो में दिख रहे मजदूरों की पीड़ा को पूरे देश ने देखा था। आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के प्रयासों से इन सभी को उनके घरों के लिए रवाना कर दिया गया। ये मज़दूर अपने परिवारों के साथ अंबाला से आए थे। बीबीसी के रिपोर्टर ने इनसे बातचीत की थी। जिसमें इन लोगों ने अपनी पीड़ा का बयान किया था। उनका यह वीडियो पूरे देश में वायरल हो गया था। उसके बाद कांग्रेस महासचिव ने अपने कार्यकर्ताओं को इन्हें ढूँढ निकालने का निर्देश दिया था।

जिसके बाद उनकी खोजबीन शुरू हुई और उनके मिल जाने पर कार्यकर्ताओं ने उनको पहले भोजन-पानी के साथ ज़रूरी मास्क मुहैया कराए और उसके बाद पुलिस की इजाज़त से पूरे परिवार को एक मिनी बस में बैठा दिया। यात्रा शुरू होने से पहले इन प्रवासी मज़दूरों ने प्रियंका गांधी का दिल से आभार जताया।

इसके पहले प्रियंका गांधी ने कहा था कि हम चाहते हैं कि इस कड़ी धूप में पैदल या अमानवीय परिस्थितियों में ट्रकों पर लदकर जा रहे किसी भी मजदूर/ कामगार भाई – बहन को पीड़ा न सहनी पड़े। इसीलिए आज यूपी सरकार से हमने अपने खर्चे पर 1000 बसें चलाने की अनुमति मांगी है।

उन्होंने कहा कि ये समय जरूरतमंदों के साथ संवेदना के साथ खड़े होने का भी है। यूपी में  #कांग्रेसकेसिपाही 58 लाख जरूरतमंद लोगों तक मदद पहुंचा चुके हैं।

अभी की त्रासदी को देखते हुए हमने यूपी में 40 पॉइंट्स पर मजदूरों को खाना, पानी, शर्बत, नाश्ता बांटने के स्टॉल लगाए हैं।

This post was last modified on May 16, 2020 9:13 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

हवाओं में तैर रही हैं एम्स ऋषिकेश के भ्रष्टाचार की कहानियां, पेंटिंग संबंधी घूस के दो ऑडियो क्लिप वायरल

एम्स ऋषिकेश में किस तरह से भ्रष्टाचार परवान चढ़ता है। इसको लेकर दो ऑडियो क्लिप…

2 hours ago

प्रियंका गांधी का योगी को खत: हताश निराश युवा कोर्ट-कचहरी के चक्कर काटने के लिए मजबूर

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक और…

3 hours ago

क्या कोसी महासेतु बन पाएगा जनता और एनडीए के बीच वोट का पुल?

बिहार के लिए अभिशाप कही जाने वाली कोसी नदी पर तैयार सेतु कल देश के…

3 hours ago

भोजपुरी जो हिंदी नहीं है!

उदयनारायण तिवारी की पुस्तक है ‘भोजपुरी भाषा और साहित्य’। यह पुस्तक 1953 में छपकर आई…

4 hours ago

मेदिनीनगर सेन्ट्रल जेल के कैदियों की भूख हड़ताल के समर्थन में झारखंड में जगह-जगह विरोध-प्रदर्शन

महान क्रांतिकारी यतीन्द्र नाथ दास के शहादत दिवस यानि कि 13 सितम्बर से झारखंड के…

16 hours ago

बिहार में एनडीए विरोधी विपक्ष की कारगर एकता में जारी गतिरोध दुर्भाग्यपूर्ण: दीपंकर भट्टाचार्य

पटना। मोदी सरकार देश की सच्चाई व वास्तविक स्थितियों से लगातार भाग रही है। यहां…

16 hours ago