32.1 C
Delhi
Saturday, September 25, 2021

Add News

नए केंद्रीय कृषि अध्यादेशों के खिलाफ पंजाब में किसान आंदोलन शुरू

ज़रूर पढ़े

केंद्र सरकार के तीन नए खेती अध्यादेशों-2020 के खिलाफ पंजाब में किसान आंदोलन शुरु हो गया है। प्रमुख किसान संगठनों तथा सूबे में चर्चित बैंस विधायक बंधुओं की अगुवाई वाली लोक इंसाफ पार्टी ने भी नरेंद्र मोदी सरकार की नई कृषि नीतियों के विरुद्ध बाकायदा जन आंदोलन का आगाज कर दिया है।                                  

किसानों के बड़े संगठन क्रांतिकारी किसान यूनियन की अगुवाई में केंद्र के नए कृषि अध्यादेश के खिलाफ 22 से 28 जून तक मनाए जा रहे ‘केंद्र विरोधी सप्ताह’ के तहत गांवों, कस्बों और शहरों में मोदी सरकार की अर्थियां फूंक कर आंदोलन की शुरुआत की गई। पंजाब में इन दिनों धान की रोपाई जोरों पर है और कोरोना वायरस का खौफ भी लेकिन बावजूद इसके बड़े पैमाने पर किसान केंद्रीय कृषि अध्यादेश विरोधी आंदोलन में शिरकत कर रहे हैं। क्रांतिकारी किसान यूनियन ने पटियाला में बड़ी रैली की। ठीक उसी वक्त अन्य गांवों, कस्बों और शहरों में भी आंदोलन विधिवत तौर पर शुरु हो गया। यूनियन के प्रधान डॉक्टर दर्शन पाल के मुताबिक आंदोलन को धान रोपाई, गर्मी और कोरोना के बावजूद जबरदस्त समर्थन मिल रहा है। 

वह कहते हैं, “कृषि अध्यादेश-2020 सरासर किसान विरोधी है। पंजाब के किसान इस मुद्दे पर जागृत हैं और इसलिए इसकी पुरजोर मुखालफत कर रहे हैं। सरकार फसलों के दाम मंडियों से बाहर कर के विदेशी कंपनियों को पैदावार की लूट का खुला मौका दे रही है। डीजल-पेट्रोल की निरंतर बढ़ती कीमतें भी हमारे आंदोलन का एक बड़ा पहलू हैं।” क्रांतिकारी किसान यूनियन के मुताबिक यह आंदोलन पंजाब के तमाम शहरों, गांवों और कस्बों तक फैल रहा है।               

लोक इंसाफ पार्टी ने गुरु की नगरी अमृतसर से आंदोलन की शुरुआत की। पार्टी कार्यकर्ता अमृतसर से चंडीगढ़ तक साइकिल रोष मार्च कर रहे हैं। प्रधान विधायक सिमरजीत सिंह बैंस और सरपरस्त विधायक बलविंदर सिंह बैंस ने स्वर्ण मंदिर साहिब और जलियांवाला बाग में नतमस्तक होकर आंदोलन का बिगुल बजाया। दोनों विधायक बंधु साइकिल रोष यात्रा में साइकिल चला कर पांच दिन में चंडीगढ़ पहुंचेंगे। समरजीत सिंह बैंस के अनुसार, “चंडीगढ़ जा कर हम मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मांग करेंगे कि यथाशीघ्र विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर नरेंद्र मोदी सरकार के कृषि ऑर्डिनेंस को रद्द किया जाए। केंद्र के कृषि अध्यादेश देश के संघीय ढांचे पर सीधा हमला हैं। पंजाब कृषि प्रधान राज्य है। खेती ऑर्डिनेंस का सबसे ज्यादा नागवार असर पंजाब पर ही पड़ेगा।”            

अमृतसर में रोष साइकिल रैली का आगाज करती लोक इंसाफ पार्टी।

भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल) ने लुधियाना के समराला में विशाल मोटरसाइकिल रोष रैली निकाल कर केंद्र के कृषि अध्यादेशों का जोरदार विरोध किया। यूनियन के प्रधान बलबीर सिंह की अगुआई में हुई रोष रैली में किसानों के अलावा बड़ी तादाद में आढ़तियों, मुनीमों और मंडी मजदूरों ने भी शिरकत की। बलबीर सिंह कहते हैं, “पंजाब बड़े किसान आंदोलन की ओर बढ़ रहा है। पंजाब-हरियाणा के पास किसानों की फसलों की खरीद-फरोख्त के लिए दुनिया का सबसे बेहतरीन ढांचा मौजूद है लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़े कॉरपोरेट घरानों को फायदा देने के लिए ऐसा कृषि अध्यादेश लागू किया है कि मंडीकरण व्यवस्था ही खत्म हो जाएगी। रोज-रोज बढ़ रहे डीजल-पेट्रोल के दाम भी किसानों की दुश्वारियों में इजाफा कर रहे हैं।”                        

गौरतलब है कि केंद्र के कृषि ऑर्डिनेंस के खिलाफ हो रहे किसान आंदोलनों में डीजल-पेट्रोल बढ़ती कीमतें अहम मुद्दा हैं। जानकारी के मुताबिक 22 और 23 जून को सूबे में अलहदा तौर पर 70 जगह किसानों ने इसके खिलाफ धरना-प्रदर्शन किए। सब जगह सामाजिक दूरी का बखूबी ध्यान रखा जा रहा है।          

इस बीच पंजाब के अति सम्मानित अर्थशास्त्री डॉक्टर सुच्चा सिंह गिल ने भी केंद्र सरकार के नए कृषि ऑर्डिनेंस को किसानी के लिए तबाहकुन खतरा बताया है। वह कहते हैं कि मंडीकरण ढांचे में किसी किस्म की छेड़छाड़ पंजाब के किसान बर्दाश्त नहीं करेंगे और बड़े पैमाने पर आंदोलन शुरू होगा। पंजाब लोक मोर्चा के संयोजक अमोलक सिंह कहते हैं कि सोची-समझी साजिश के तहत कृषि ऑर्डिनेंस लाया गया है। पहले इसके लिए लोकसभा और राज्यसभा में बहस करवानी चाहिए थी। सरकार बारूद से खेल रही है। पंजाब में एक बड़े किसान आंदोलन की नींव इस बार खुद मोदी सरकार ने रखी है।

(पंजाब से वरिष्ठ पत्रकार अमरीक सिंह की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

लगातार भूलों के बाद भी नेहरू-गांधी परिवार पर टिकी कांग्रेस की उम्मीद

कांग्रेस शासित प्रदेशों में से मध्यप्रदेश में पहले ही कांग्रेस ने अपनी अंतर्कलह के कारण बहुत कठिनाई से अर्जित...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.