Fri. May 29th, 2020

डीयू में अवैध तरीके से लगायी गयी सावरकर की बुत पर एनएसयूआई के कार्यकर्ता ने पोती कालिख

1 min read
सावरकर पर कालिख पोतता युवक।

नई दिल्ली। आरएसएस जिस तरह देश में सत्ता और संस्थानों पर काबिज है, उसके लिए दिल्ली यूनिवर्सिटी में सावरकर का बुत दिन दहाड़े समारोहपूर्वक लगाना भी मुश्किल काम नहीं था। संसद में सावरकर का बुत समारोह के साथ ही लगाया गया था और वाम के लोग भी उसमें शामिल थे।
लेकिन, सावरकर का और आरएसएस का जैसा इतिहास है, शायद उसे दोहराने के लिए आरएसएस की विद्यार्थी विंग एबीवीपी ने रात के अंधेरे में गुपचुप ढंग से सावरकर का बुत खड़ा कर दिया। एक खम्भे पर भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस के सहारे। भगत सिंह के बोस से जिस क़दर राजनीतिक मतभेद थे, उन्होंने लिखकर ही व्यक्त किए थे। लेकिन सावरकर और सावरकर की विचारधारा के लोगों से दोनों के ही रास्ते ठीक उलट थे। दोनों के लेखन और दोनों की राजनीति में यह स्पष्ट है। रात के अंधेरे में इस तरह सावरकर के बुत को लगा दिए जाने की आलोचना करने वाले इसी तरह रात में बाबरी मस्जिद में मूर्तियां रख दिए जाने को भी याद कर रहे थे।
कल ये पूरा मसला सोशल मीडिया पर चलता रहा। आज सोशल मीडिया से ही पता चला कि एनएसयूआई के एक कार्यकर्ता ने भगत और बोस के बुतों पर फूलों का हार पहनाने के बाद सावरकर के बुत पर जूते की माला डाल दी और उस पर काला पेन घिस दिया। इस दौरान एक युवक जो शायद एबीवीपी का हो, उसने और गार्ड्स ने इस युवक को रोकने की कोशिश भी की। जो वीडियो वायरल हो रहा है, उसमें इस कार्रवाई के बाद युवक भगत सिंह ज़िंदाबाद के नारे लगवाने के बाद एनएसयूआई ज़िंदाबाद के नारे भी लगाता है।

सावरकर की मूर्ति पर जूतों की माला पिछली रात एनएसयूआई वाले नॉर्थ कैंपस पहुंचे, शहीद-ए-आज़म भगत सिंह और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति को प्रणाम किया और उनपर फूल चढ़ाए.फिर सावरकर की मूर्ति की ओर बढ़े…जूते की माला चढ़ाई और चेहरे पर कालिख पोत दी. आख़िर में भगत सिंह ज़िंदाबाद के नारे भी लगे.#DU

Donate to Janchowk
प्रिय पाठक, जनचौक चलता रहे और आपको इसी तरह से खबरें मिलती रहें। इसके लिए आप से आर्थिक मदद की दरकार है। नीचे दी गयी प्रक्रिया के जरिये 100, 200 और 500 से लेकर इच्छा मुताबिक कोई भी राशि देकर इस काम को आप कर सकते हैं-संपादक।

Donate Now

Scan PayTm and Google Pay: +919818660266
Shahnawaz Malik ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಬುಧವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 21, 2019

(यह टिप्पणी पत्रकार धीरेश सैनी की एफबी वाल से ली गयी है।)

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर Janchowk Android App

Leave a Reply