Subscribe for notification

क्या कभी सभ्य समाज तक पहुंच पाएंगी छत्तीसगढ़ के आदिवासियों की दर्द भरी कहानियां ?

छत्तीसगढ़ के सारकेगुड़ा गांव में न्यायिक आयोग की रिपोर्ट आने के बाद अपराधियों के विरुद्ध पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग को लेकर अनशन पर बैठा था

मुख्यमंत्री के सलाहकार ने कार्रवाई करने का आश्वासन दिया

थाने से अपना अनशन समाप्त कर सारकेगुड़ा गांव वापस आया

यह वही गांव है जहां 7 साल पहले 17 निर्दोष आदिवासियों को पुलिस ने चारों तरफ से घेरकर गोलियों से भून दिया था

आज दोपहर का खाना खिलाने के लिए एक आदिवासी लड़की अपने घर ले गई

लड़की का घर आधा बन चुका है घर के सामने मिट्टी की कच्ची ईंटें पड़ी हुई हैं

मैंने पूछा घर बनाने के लिए यह ईंटें कौन बना रहा है? वह बोली मैं खुद बना रही हूं

अन्य ग्रामीणों के अलावा यह लड़की भी कल से थाने में मेरे साथ थी

मैंने पूछा बेटा तुम्हारी पढ़ाई पूरी हो गई ?

लड़की ने कहा नहीं बीएससी कर रही थी लेकिन पैसे नहीं थे इसलिए पढ़ाई छोड़ दी

मैंने कहा पढ़ाई फिर से चालू करो पैसे का कहीं ना कहीं से इन्तजाम हो जाएगा हम अपने कुछ मित्रों से मदद के लिये कहेंगे

आज खाना खाते समय लड़की के घर में बैठा था

तो उसने मुझे बताया कि मेरा घर सलवा जुडूम के समय पुलिस ने जला दिया था

बाद में इस गांव के दूसरे घरों को जलाया गया था

लड़की ने बताया मेरे पिताजी का हाथ भी पुलिस ने तोड़ दिया था

इस घटना के कुछ समय बाद पिताजी का देहांत हो गया

दीवार पर एक बच्चे की फोटो लगी थी और उस पर फूलों का हार चढ़ा हुआ था

मैंने पूछा यह किसकी फोटो है ?

लड़की ने बताया यह मेरा छोटा भाई है

उस रात पुलिस ने जब ग्रामीणों पर गोली चलाई तब यह भी मारा गया

मैंने फोटो के नीचे लिखा हुआ नाम पढ़ा मुझे पूरी घटना याद आ गई

मैंने कहा यह तो वही बच्चा है जो गणित में गोल्ड मेडलिस्ट था

वह लड़की बोली, जी हां यह वही है

मैं सोचने लगा पहले निर्दोष पिता को पुलिस ने मारा

फिर पुलिस ने घर जला दिया

फिर छोटे भाई को भी मार दिया

पिछले 7 साल से यह लड़की जांच आयोग की मदद कर रही थी

गांव के आदिवासियों को ले जाकर आयोग के सामने गवाही दिलवा रही थी

अब जांच आयोग ने फैसला दिया है कि मारे गए आदिवासी निर्दोष ग्रामीण थे जिनकी पुलिस ने हत्या करी थी

मैं सोच रहा था आदिवासियों की दुखों से भरी यह कहानियां क्या कभी इस देश के तथाकथित सभ्य समाज के सामने आएंगी?

इस लड़की का साहस, धैर्य और इसके दुख की क्या हमारे समाज के लिये कोई कीमत है?

मैं चाहता हूं कि मेरी बेटियां इस लड़की से मिलें और सीखें कि जिंदगी का मुकाबला कैसे किया जाता है?

(हिमांशु गांधीवादी कार्यकर्ता हैं और आजकल हिमाचल प्रदेश में रहते हैं।)

This post was last modified on December 7, 2019 8:29 pm

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

जनता ही बनेगी कॉरपोेरेट पोषित बीजेपी-संघ के खिलाफ लड़ाई का आखिरी केंद्र: अखिलेंद्र

पिछले दिनों वरिष्ठ पत्रकार संतोष भारतीय ने वामपंथ के विरोधाभास पर मेरा एक इंटरव्यू लिया…

17 mins ago

टाइम की शख्सियतों में शाहीन बाग का चेहरा

कहते हैं आसमान में थूका हुआ अपने ही ऊपर पड़ता है। सीएएए-एनआरसी के खिलाफ देश…

1 hour ago

राजनीतिक पुलिसिंग के चलते सिर के बल खड़ा हो गया है कानून

समाज में यह आशंका आये दिन साक्षात दिख जायेगी कि पुलिस द्वारा कानून का तिरस्कार…

3 hours ago

रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगाड़ी का कोरोना से निधन, पीएम ने जताया शोक

नई दिल्ली। रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगाड़ी का कोरोना से निधन हो गया है। वह दिल्ली…

15 hours ago

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के रांची केंद्र में शिकायतकर्ता पीड़िता ही कर दी गयी नौकरी से टर्मिनेट

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (IGNCA) के रांची केंद्र में कार्यरत एक महिला कर्मचारी ने…

16 hours ago

सुदर्शन टीवी मामले में केंद्र को होना पड़ा शर्मिंदा, सुप्रीम कोर्ट के सामने मानी अपनी गलती

जब उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार से जवाब तलब किया कि सुदर्शन टीवी पर विवादित…

18 hours ago