Sunday, October 24, 2021

Add News

गणेश कुमार

विध्वंसक दौर के अंत की शुरुआत

हया यकलख़्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता!  परेशान न हों, आप को ग़ज़ल सुनाने का मन नहीं है। सिर्फ़ यह कहना है कि कुछ चीज़ें त्वरित गति से होती हैं और कुछ धीमी गति से। मसलन बिजली बहुत तेज़ी से...

About Me

1 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

जटिल मनःस्थितियों की उलझी हुई कविताएं

कवर के अंतिम पृष्ठ पर कवि का परिचय पढ़ते हुए बहुत प्रभावित हुआ और कुछ ऐसा ही प्रभाव पड़ा...