बीच बहस

बॉम्बे हाईकोर्ट का अर्णब के केस को प्राथमिकता देने से इंकार, कहा-शनिवार को सुनवाई करने पर हुई थी जबर्दस्त आलोचना

बॉम्बे हाईकोर्ट  के जस्टिस एसएस शिंदे और जस्टिस एमएस कार्णिक की खंडपीठ अब अर्णब गोस्वामी की याचिका को उच्च प्राथमिकता के आधार पर नहीं सुनेगा, क्योंकि शनिवार अर्थात छुट्टी के दिन 7 नवंबर, 2020 को हुई सुनवाई करने पर जस्टिस एसएस शिंदे को 500 से अधिक संदेश मिले थे, जिसमें इसकी कड़ी आलोचना की गयी थी और उच्च प्राथमिकता देने के औचित्य पर सवाल उठाया गया था। बॉम्बे हाईकोर्ट ने गुरुवार को आत्महत्या मामले में अर्णब गोस्वामी की याचिका को सुनवाई में उच्च प्राथमिकता देने के उनके अधिवक्ता के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया।

खंडपीठ अर्णब गोस्वामी द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक की आत्महत्या के आरोप में रायगढ़ पुलिस को आरोप पत्र दायर करने की चुनौती दी गई। गोस्वामी की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता आबडा पोंडा ने मामले की स्थगन की मांग की और कहा कि इस मामले को ‘बोर्ड पर उच्च’ सूचीबद्ध करने के अनुरोध के साथ अगले सप्ताह सुना जाए। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मामले को सुनने के लिए स्थगन देने पर सहमति व्यक्त करते हुए कोर्ट ने स्पष्ट रूप से ‘बोर्ड पर उच्च सूचीबद्ध ‘ करने से इनकार कर दिया।

खंडपीठ ने कहा कि जब हमने अंतरिम आदेश पारित किया, तो आपने हमें बताया था, आप एक सुनवाई के लिए आभारी थे, लेकिन शनिवार को सुनवाई करने के लिए हमारी आलोचना की गई। मुझे शनिवार को बैठने के लिए 500 से अधिक संदेश प्राप्त हुए हैं। इसलिए हमने कुछ भी उच्च बोर्ड, या बोर्ड में कम करना बंद कर दिया है।

खंडपीठ 7 नवंबर, 2020 को हुई सुनवाई का उल्लेख कर रही थी, जब उन्होंने अर्णब गोस्वामी द्वारा वर्तमान दलीलों के साथ-साथ संबंधित याचिकाओं में दायर जमानत याचिका पर अपना फैसला सुना और सुरक्षित कर लिया था। खंडपीठ ने अंतरिम जमानत के सीमित मुद्दे पर केवल सुनवाई के लिए शुक्रवार को सभी पक्षों की सहमति प्राप्त करने के बाद शनिवार को मामले पर सुनवाई के लिए सहमति व्यक्त की थी।

पोंडा ने गुरुवार को इस आधार पर स्थगन की मांग की कि वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे जो इस मामले के मुख्य वकील हैं, वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए पेश होना चाहते थे। साल्वे अभी टाटा बनाम मिस्त्री मामले में उच्चतम न्यायालय में बहस कर रहे हैं। इसलिए, पोंडा ने कहा कि इस बीच, अदालत अतिरिक्त आधार को शामिल करने के लिए याचिका में संशोधन करने के लिए अनुमति दे सकती है।

अदालत ने मामले को और सभी जुड़े मामलों को 16 दिसंबर, 2020 के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए स्थगित कर दिया। अदालत ने उस तारीख से पहले अपना जवाब दाखिल करने के लिए राज्य को अनुमति भी दे दिया।

गोस्वामी ने शुरू में आत्महत्या मामले में रायगढ़ पुलिस द्वारा आरोप पत्र दाखिल करने पर रोक लगाने के लिए एक आवेदन दायर किया है। इसके बाद, जब रायगढ़ पुलिस ने अपनी चार्जशीट दाखिल की, तो गोस्वामी ने एक नया आवेदन दायर कर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट को निर्देश दिया कि वे दायर चार्जशीट का संज्ञान न लें।

हाईकोर्ट ने वर्तमान याचिका में दायर गोस्वामी की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। बाद में उच्चतम न्यायालय द्वारा 11 नवंबर को जमानत दी गई और उच्च न्यायालय द्वारा याचिका का निपटारा होने तक इसे बढ़ाया गया।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

This post was last modified on December 11, 2020 10:59 am

Share