Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

हर जरूरतमंद परिवार को 10 हज़ार रुपये देकर भारत में टाला जा सकता है अनलॉक का खतरा

अमेरिका में कल एक दिन में होने वाली मौत का आंकड़ा 2000 के पार निकल गया-2100 और कुल मौतों का आंकड़ा भी दुनिया में सबसे ऊपर पहुंच गया 18860, इटली के 18849 से आगे।

ठीक उसी दिन, ट्रम्प अजीब कश्मकश में हैं !

इंडियन एक्सप्रेस में वाशिंगटन से प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार जहां Medical Experts, ट्रम्प को सलाह दे रहे हैं कि इन हालात में Stay at Home नीति को हर हाल में जारी रखा जाय और 30 अप्रैल के आगे भी बढ़ाया जाय, वहीं उनके Businessman दोस्त-Bankers, कॉरपोरेट, उद्योगपति-उन्हें लगातार फोन कर रहे हैं कि बिज़नेस पुनः खोला जाय ! (ज्ञातव्य है कि ट्रम्प स्वयं भी एक बड़े बिजनेसमैन हैं।)

मेडिकल एक्सपर्ट्स का तर्क है कि घरबन्दी से कोरोना के प्रसार पर कुछ नियंत्रण लगता दिख रहा है, अगर खोला गया तो यह उपलब्धि बर्बाद हो जाएगी और हालात नियंत्रण के बाहर हो जाएंगे, जबकि पूंजीपतियों का तर्क है कि क्योंकि स्थिति में सुधार हुआ है, इसीलिए अब जरूरी है कि अर्थव्यवस्था को ठीक किया जाए।

पिछले दिनों एक अमेरिकी धनकुबेर ने कहा कि मौत का आंकड़ा चाहे जो हो हम अपनी अर्थव्यवस्था को बर्बाद नहीं होने दे सकते।

यहां साफ है कि उनके अर्थव्यवस्था का मतलब है उनका मुनाफा।

वित्तीय पूंजी अपने मौजूदा चरण में कैसे एक नग्न हत्यारे में तब्दील हो गयी है, यह दिन के उजाले की तरह साफ है।

अपने मुनाफे के लिए उसे समूची मानवजाति के भविष्य को दांव पर लगाने में रंच मात्र भी हिचक नहीं है।

वह सारा मुनाफा और सारी दौलत जिन श्रमिकों के श्रम से निर्मित हुई है, उनके जीवन की रक्षा की उसे कोई परवाह नहीं। यह रास्ता आत्मघात का है।

बेहद गंभीर स्थिति के मद्देनजर हमारे अपने देश में भी ‘जान है तो जहान है’ से ‘जान भी, जहान भी’ का एक ही implication होना चाहिए,

Stay at home, तालाबंदी, physical distancing हर हाल में जारी रहे। कारपोरेट मुनाफाखोरी के लिए इसमें कोई ढील देश के सर्वनाश की कीमत पर ही दी जा सकती है।

केंद्र और राज्य सरकारें अपना खजाना खोलें और सभी जरूरतमंद भारतवासियों, श्रमिकों के घरबन्दी के दौरान उनकी आजीविका- भोजन और अन्य जरूरी ज़रूरियात की free आपूर्ति की गारंटी करें।

एक अनुमान के अनुसार देश की 75% जरूरतमंद आबादी (देश के कुल 26 करोड़ परिवारों में से लगभग 19.5 करोड़ परिवार) को तत्काल 10 हज़ार रुपये प्रति परिवार दे दिए जांय तो उनकी जान और जहान दोनों बच सकती है, पूरा देश भी unlock होने के खतरे से बच जाएगा और कोरोना महा आपदा के खिलाफ हमारी लड़ाई प्रभावी ढंग से आगे बढ़ सकेगी।

इसमें कुल खर्च 2 लाख करोड़ से भी कम होगा, इसकी तुलना आप कारपोरेट घरानों को पिछले दिनों दी गयी लाखों करोड़ की टैक्स छूट, NPA अथवा आज पूंजीपतियों द्वारा मांगे जा रहे 15 लाख करोड़ के राहत पैकेज से कर सकते हैं।

क्या प्रधानमंत्री जनता की जान और जहान दोनों बचाने के लिए यह जरूरी इच्छाशक्ति दिखाएंगे?

(लाल बहादुर सिंह इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष रहे हैं और आजकल लखनऊ में रहते हैं।)

This post was last modified on April 12, 2020 2:55 pm

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

कल हरियाणा के किसान करेंगे चक्का जाम

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के तीन कृषि बिलों के विरोध में हरियाणा और पंजाब के…

5 hours ago

प्रधानमंत्री बताएं लोकसभा में पारित किस बिल में किसानों को एमएसपी पर खरीद की गारंटी दी गई है?

नई दिल्ली। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के वर्किंग ग्रुप के सदस्य एवं पूर्व…

6 hours ago

पाटलिपुत्र का रण: जनता के मूड को भांप पाना मुश्किल

प्रगति के भ्रम और विकास के सच में झूलता बिहार 2020 के अंतिम दौर में एक बार फिर…

6 hours ago

जनता के ‘मन की बात’ से घबराये मोदी की सोशल मीडिया को उससे दूर करने की क़वायद

करीब दस दिन पहले पत्रकार मित्र आरज़ू आलम से फोन पर बात हुई। पहले कोविड-19…

9 hours ago

फिल्म-आलोचक मैथिली राव का कंगना को पत्र, कहा- ‘एनटायर इंडियन सिनेमा’ न सही हिंदी सिनेमा के इतिहास का थोड़ा ज्ञान ज़रूर रखो

(जानी-मानी फिल्म-आलोचक और लेखिका Maithili Rao के कंगना रनौत को अग्रेज़ी में लिखे पत्र (उनके…

11 hours ago

पुस्तक समीक्षा: झूठ की ज़ुबान पर बैठे दमनकारी तंत्र की अंतर्कथा

“मैं यहां महज़ कहानी पढ़ने नहीं आया था। इस शहर ने एक बेहतरीन कलाकार और…

12 hours ago