Saturday, October 16, 2021

Add News

क्या कर रहे हैं करोना काल में भाजपा नेता

ज़रूर पढ़े

जब लखनऊ के कुछ अस्पतालों ने आक्सीजन की कमी की सूचना अपनी दीवारों पर चिपकाई तो उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री ने 24 अप्रैल 2021 को चेतावनी दी कि जो लोग अस्पतालों में आक्सीजन की कमी की अफवाह फैलाएंगे उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्यवाही की जाएगी और उनकी सम्पत्ति जब्त की जाएगी। इससे पहले प्रदेश के विधि मंत्री बृजेश पाठक ने अतिरिक्त मुख्य सचिव, स्वास्थ्य को एक पत्र लिख कर शिकायत की कि कोविड की जांच आख्या मिलने में 4 से 5 दिन का समय लग रहा है, प्रदेश में पर्याप्त जांच की सुविधा नहीं है और अधिकारी फोन नहीं उठाते। स्वास्थ्य मंत्री से शिकायत करने पर जब फोन उठाते भी हैं तो उनसे जनता को कोई मदद नहीं मिलती। उन्होंने यह भी बताया कि लखनऊ के जाने माने इतिहासकार योगेश प्रवीण के लिए जब उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को एम्बुलेंस हेतु फोन किया तो भी एम्बुलेंस आई नहीं और योगेश प्रवीण की मौत हो गई। मोहनलालगंज से भारतीय जनता पार्टी के सांसद कौशल किशोर यह कहते हुए कि चुनाव से ज्यादा जरूरी लोगों की जान बचाना है चुनाव आयोग से उ.प्र. पंचायत चुनाव टालने की अपील कर चुके थे।

कौशल किशोर ने यह भी आरोप लगाया कि लखनऊ के प्रतिष्ठित किंग जार्ज चिकित्सीय विश्वविद्यालय के श्वसन चिकित्सा विभाग में 100 के ऊपर आक्सीजन के साथ शैय्या व छह शैय्या आई.सी.यू. में खाली पड़ी हैं और मरीज आक्सीजन की कमी से मर रहे हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पास के ही बलरामपुर अस्पताल में 20 में से सिर्फ 5 वेंटिलेटर काम में लिए जा रहे हैं क्योंकि वहां वेंटिलेटर संचालन हेतु तकनीकी रूप से प्रशिक्षित कर्मचारी ही नहीं हैं। मरीजों को आक्सीजन न मिलने की स्थिति में उन्होंने धरना तक देने की चेतावनी दी। कौशल किशोर के बड़े भाई का आखिर में किंग जार्ज चिकित्सीय विश्वविद्यालय में आक्सीजन की कमी के कारण ही निधन हो गया। इन दोनों भाजपा नेताओं ने बोलने की हिम्मत दिखाई क्योंकि शायद वे अन्य राजनीतिक दलों जैसे बहुजन समाज पार्टी या भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की पृष्ठभूमि से आते हैं। यदि वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पृष्ठभूमि से आते तो शायद सरकार की छवि की उन्हें ज्यादा चिंता होती।

लेकिन अब तो कई भाजपा नेता उ.प्र. में कोराना को लेकर चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर चुके हैं। इनमें बरेली के भाजपा विधायक केसर सिंह, जिनका बाद में कोविड से निधन हो गया, बस्ती के सांसद हरीश द्विवेदी, भदोही के विधायक दीनानाथ भास्कर, कानपुर के सांसद सत्यदेव पचौरी, मेरठ से सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, लखीमपुर खीरी के विधायक लोकेन्द्र प्रताप सिंह और अब केन्द्रीय मंत्री संतोष गंगवार, जिन्होंने वेंटिलेटर आदि की कालाबाजारी पर चिंता व्यक्त की है, शामिल हैं। 

लेकिन मानवता को सबसे शर्मसार करने वाली घटना बेंगलुरू में हुई जहां युवा सांसद तेजस्वी सूर्य ने पहले तो अस्पतालों में शैय्या घूस लेकर दिए जाने की आरोप लगाया और फिर वृहत बेंगलुरू महानगर पालिका के कोविड नियंत्रण कक्ष में तीन विधायकों के साथ जाकर 205 में से 17 मुस्लिम संविदा कर्मचारियों के नाम सार्वजनिक रूप से पढ़कर उनकी नियुक्ति पर हंगामा खड़ा किया। जिस निजी संस्था ने इन कर्मचारियों को रखा था पहले तो उसने उन्हें काम पर आने से मना किया लेकिन पुलिस जांच में कोई अनियमितता न पाए जाने पर उन्हें वापस रख लिया गया। तेजस्वी सूर्य की इस अवांछित कार्यवाही से नियंत्रण कक्ष का कार्य दो दिनों तक प्रभावित रहा। तेजस्वी सूर्य और तीन विधायकों पर सरकारी काम में बाधा डालने का मुकदमा क्यों नहीं दर्ज होना चाहिए? भाजपा के नेता संकट काल में भी साम्प्रदायिक राजनीति करने से आज नहीं आ रहे।

बिहार में भूतपूर्व सांसद व जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव ने जब सारण में यह खुलासा किया कि भाजपा नेता राजीव प्रतीप रूड़ी की सांसद निधि से खरीदी गई 30 एम्बुलेंस खड़ी हुई हैं तो बिहार सरकार ने पप्पू यादव को आपदा प्रबंधन अधिनियम व महामारी अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर लिया है जबकि पप्पू इस संकट की घड़ी में कोविड मरीजों की सेवा में लगे हुए थे जिसकी वजह से भाजपा छोड़ सभी राजनीति दलों ने सरकार की अलोकतांत्रिक कार्यवाही की निंदा की है। राजीव प्रताप रूड़ी ने अपनी सफाई में अविश्वसनीय कारण बताया है कि चालकों की कमी की वजह से एम्बुलेंस खड़ी है। असल में महामारी अधिनियम के तहत एम्बुलेंसों का इस्तेमाल न होने देने के लिए मुकदमा तो राजीव प्रताप रूड़ी पर दर्ज होना चाहिए।

उ.प्र. व दिल्ली की सरकारों ने भी निजी एम्बुलेंस के इस्तेमाल की दरें निर्धारित की हैं। सवाल यह है कि जब सरकार निजी अस्पतालों का अधिग्रहण कर रही है अथवा निजी अस्पताल में कोविड के इलाज का खर्च वहन कर रही है तो वह निजी एम्बुलेंसों का अधिग्रहण कर उन्हें जनता को मुफ्त क्यों नहीं उपलब्ध कराती? पाकिस्तान की इद्ही फांउडेशन जो वहां एक एम्बुलेंस सेवा संचालित करती है ने 23 अप्रैल को भारत सरकार को प्रस्ताव रखा कि वे भारत के किसी भी शहर के लिए 50 एम्बुलेंस, चालक, अन्य जरूरी सामग्री के साथ अपने खर्च पर भेजने को तैयार हैं। इद्ही के बारे में मशहूर है कि फोन करने के 15 मिनटों के अंदर एम्बुलेंस आ जाती है।

वे वर्षों से पाकिस्तान में सेवा का काम कर रहे हैं। परन्तु भाजपा सरकार चूंकि पाकिस्तान को दुश्मन मानती है तो उसने वहां की एक धर्मार्थ कार्य करने वाली संस्था की मदद लेना भी उचित नहीं समझा। यह इद्ही फाउंडेशन वह संस्था है जो पाकिस्तान में पकड़े गए भारतीय मछुआरों को भारत वापस भेजने का काम भी करती है। सवाल यह भी है कि भारत में अभी तक कोई इद्ही फांउडेशन जैसी एम्बुलेंस सेवा क्यों नहीं शुरू हुई? राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, जो अपने आप को दुनिया का सबसे बड़ा सांस्कृतिक-सामाजिक संगठन मानता है, ही यह काम कर सकता था और चाहे तो अभी भी कर सकता है। किंतु अभी कुछ दिनों पहले तक रा.स्वं.सं. के कार्यकर्ता जो अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए घर-घर जाकर चंदा इकट्ठा कर रहे थे इस समय दिखाई नहीं पड़ रहे। अब इसका नाम बदल कर राष्ट्रीय संवेदनहीन संघ रख देना चाहिए।

जब देश में कोविड महामारी और मानवीय संकट जनता पर कहर ढा रहा है, तब देश के केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, जो चिकित्सक भी हैं, ने कहा है कि जनता कोविड तनाव से दूर रहने के लिए 70 प्रतिशत कोको वाली डार्क चॉकलेट खाएं। पिछले सालों में विशेषकर कोविड महामारी के 17 महीनों में स्वास्थ्य मंत्री को यह सुनिश्चित करना चाहिए था कि देश में स्वास्थ्य व्यवस्था सशक्त हो, खासकर कि वह जो कोविड ग्रसित लोगों के लिए जीवनरक्षक हो सकती है, उदाहरण के लिए ऑक्सीजन जैसी मूलभूत सुविधा या अस्पताल में शैय्या व वेंटिलेटर, श्रम अधिकार सुनिश्चित करते हुए पर्याप्त स्वास्थ्यकर्मियों की भर्ती, टीका और संक्रमण बचाव हर इंसान के लिए संभव हो सके, आदि। स्वास्थ्य मंत्री के कोविड तनाव से बचने के लिए विशेष प्रकार की महंगी चॉकलेट खाने के सुझाव पर अनेक विशेषज्ञों ने सवाल उठाये हैं और वैज्ञानिक प्रमाण माँगा है।

पर सबसे बड़ा सवाल यह है कि देश में हर इंसान का स्वास्थ्य अधिकार सुनिश्चित करना किसकी जिम्मेदारी थी? स्वास्थ्य अधिकार न मिल पाने पर जो जनता तनावग्रस्त है वह चॉकलेट नहीं स्वास्थ्य सेवा में सुधार चाहती है, अपने स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा अधिकार चाहती है। आपदा के समय में, भाजपा सरकार रु. 20,000 करोड़ खर्च कर के नया संसद भवन और प्रधान मंत्री का महलनुमा आवास बनाना ‘अति-आवश्यक सेवा’ मानती है। इसी से जाहिर है कि उसकी प्राथमिकता क्या है। यदि जनहित और जनता के सामाजिक सुरक्षा अधिकार सरकार के केंद्र में होते तो उसने देश से ‘अति महत्वपूर्ण व्यक्ति’ के लिए विशेष सुविधा वाली गैर बराबरी की व्यवस्था ही खत्म की होती।

(बॉबी रमाकांत और संदीप पांडेय लेखक द्वय सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) से जुड़े हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

टेनी की बर्खास्तगी: छत्तीसगढ़ में ग्रामीणों ने केंद्रीय मंत्रियों का पुतला फूंका, यूपी में जगह-जगह नजरबंदी

कांकेर/वाराणसी। दशहरा के अवसर पर जहां पूरे देश में रावण का पुतला दहन कर विजय दशमी पर्व मनाया गया।...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.