Monday, October 25, 2021

Add News

राज्य

अल्पसंख्यकों को रिझाने में जुटी गुजरात की बीजेपी सरकार

अहमदाबाद। गुजरात में बीजेपी ने अपनी डूबती नैया को बचाने के लिए अब अल्पसंख्यकों के पतवार का सहारा लेने का फैसला किया है। इसके तहत उसने इस तबके को रिझाने का बाकायदा कार्यक्रम तैयार किया है। इसी के तहत...

भगवान के मुख पर लहू का धब्बा—!

(डेरा मुखिया राम रहीम को सलाखों के पीछे भेजने में पीड़ित साध्वियों, सीबीआई और कोर्ट के अलावा जिस चौथे शख्स की सबसे अहम भूमिका थी वो हैं पत्रकार रामचंद्र छत्रपति। उन्होंने ही सबसे पहले इस मामले का खुलासा किया...

बलात्कार के आरोपी बाबा के आगे निर्वाचित सरकार नतमस्तक!

कैसा भयानक दृश्य है कि लोकतंत्र में एक निर्वाचित सरकार ने संविधान को दुष्कर्म के आरोपी विवादास्पद-शक्तिशाली `बाबा` के पैरों में पटक दिया है! `डेरा सच्चा सौदा` के प्रमुख बाबा गुरमीत सिंह `राम-रहीम` के खिलाफ चल रहे दुष्कर्म के केस में शुक्रवार, 25 अगस्त को...

मनमाफ़िक ख़बरें न लिखने पर शामली में दलित पत्रकार का पुलिसिया उत्पीड़न!

पत्रकारों ने जुलूस निकालकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया शामली। एक दलित पत्रकार को पुलिस के मनमाफ़िक ख़बर नहीं लिखने की भयानक सजा भुगतनी पड़ रही है। पुलिस ने एक जातिवादी संगठन के आपराधिक छवि वाले स्वयंभू नेता की तरफ से...

मृत सफ़ाई कर्मियों के आश्रितों को 50 लाख मुआवज़ा दे सरकार : स्वराज इंडिया

दिल्ली में पिछले 37 दिनों में सीवर के अंदर दस सफ़ाई कर्मियों की दु:खद मौत हो चुकी है। बिना किसी सुरक्षा उपकरण के सीवर के अंदर जाने से और ज़हरीली गैस के कारण इतने बेकसूर ग़रीब लोग जान गंवा बैठे। इन...

मीरा-भाईंदर में सेना के नहीं लोकल दादागीरी के पैर उखड़े हैं

इस साल फरवरी में बीएमसी (ब्रह्न्न मुंबई कार्पोरेशन) चुनाव नतीजों के ठीक अगले दिन, मुंबई की एक लोकल ट्रेन में, कुछ सब्जी वाले स्थानीय मुंबईकरों और भय्यों यानी मराठियों और हिंदी बोलने वालों के बीच होने वाली तू-तू–मैं-मैं का मैंने...

यूपी में अस्पतालों को मौत के घर में बदलने की तैयारी

लखनऊ। ऐसे समय में जबकि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 60 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गयी है। आक्सीजन के सिलेंडरों के समय से आपूर्ति न हो पाने के पीछे पैसे की कमी प्रमुख कारण रहा है। तब...

हर फरियादी हो गया है अल्पसंख्यकः रवीश

अहमदाबाद। शनिवार को चंद्रकांत दरू मेमोरियल ट्रस्ट ने एनडीटीवी के पत्रकार रविश कुमार को निडर पत्रकारिता के लिए चन्द्रकांत दरू मेमोरियल अवार्ड से सम्मानित किया। इससे पहले पत्रकारिता के लिए अरुण शौरी, बंधुआ मजदूरों की मुक्ति पर काम करने...

हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष का बेटा छेड़छाड़ के मामले में गिरफ़्तार

चंडीगढ़। हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला को एक युवती से छेड़छाड़ करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि विकास और उसके साथी आशीष ने शुक्रवार देर रात...

आज की सुबह पहले जैसी न थी, हवाओं में खून से सनी गंध महसूस की जा सकती थी

चालीस साल की बसासत का एक शांतिप्रिय शहर पल भर में तहस नहस हो जाता है। 28 लोगों के खून से सनी मेरे इस खूबसूरत शहर की मिट्टी का दर्द क्यों कोई जाने। उन्हें बस जुमलेफेंकने आते हैं। अजीबो-गरीब तर्क देने आते हैं। वे कुर्सी पर काबिज रह कर भी जवाबदेही से बचना चाहते हैं। प्रश्न गहरे हैं और हमारी बेचैनियां उस से भी ज्यादा गहरी हैं। क्योंकि उन प्रश्नोंके उत्तर हमारे पास नहीं हैं।  हमने एक अरसे से एक आदत बना रखी है कि धर्म और संस्कृति से जुड़े सवालों को हम या तो अंधभक्ति से सुलझाना चाहते हैं या राजनेताओं की बिसात परबिछी शतरंज की चालों के द्वारा। दोनों तरीकों से प्रश्न और उलझते हैं।  हम और अकेले हो जाते हैं। संस्कृति के मानवीय मूल्य तक हमारा साथ छोड़ने की हद तक चले गए दिखाई देते हैंऔर हमारे साथ जो खेल खेला जा रहा होता है उसके नायक या तो व्याभिचारी बाबा होते हैं या भ्रष्ट राजनेता। इन दोनों की मिलीभक्त से मेरे प्रिय शहर का जो हाल हुआ उसे मैंने अपनीआँखों से देखा। इन आँखों में अब आंसू भी नहीं हैं। आँखे बस घूर रही हैं अजनबी हो गयी मानवीय संवेदनाओं को। किस के पास इसका उत्तर है? मन बहुत आहत है... कल के घटनाक्रम से मन आहत है। आज की सुबह पहले जैसी न थी। हवाओं में खून से सनी गंध महसूस की जा सकती थी। अखबारों के पन्ने बलात्कारी बाबा और नकारा सरकार की...

Latest News

2021 के पहले नौ महीनों में भारत में ईसाइयों पर 305 हमले, केवल 30 प्राथमिकी

भारत में धार्मिक असहिष्णुता का शिकार केवल मुस्लिम समुदाय ही नहीं बन रहा है बल्कि ईसाइयों को भी लक्षित...