Subscribe for notification

अरुंधति रॉय ने फिर बोला सरकार पर तीखा हमला, कहा- जेनोसाइड की तरफ़ बढ़ रहे हैं हालात

नई दिल्ली। लेखिका और एक्टिविस्ट अरुंधति रॉय ने कोरोना महामारी को भी सांप्रदायिक रंग देने के सरकार के मंसूबों पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि हालात जेनोसाइड की तरफ़ बढ़ रहे हैं। उनका कहना था कि मोदी सरकार मुसलमानों के साथ उसी तरह का व्यवहार कर रही है जैसा कि जर्मनी में हिटलर ने यहूदियों के साथ किया था। उन्होंने ये बातें जर्मन न्यूज़ नेटवर्क डॉचे वेले (DW) को दिए इंटरव्यू में कहीं।

उन्होंने सरकार पर कोरोना संकट के दौर में हिंदू-मुस्लिम के बीच तनाव बढ़ाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ‘कोरोना संकट से निपटने में सरकार की इस कथित रणनीति (दो समुदायों के बीच खाई बढ़ाने की) से ऐसी स्थिति पैदा होगी जिस पर दुनिया को नजर रखनी चाहिए।’ उन्होंने आगे कहा कि ‘हालात जेनोसाइड (जातीय या सामुदायिक संहार) की तरफ बढ़ रहे हैं।’

उन्होंने कहा कि ‘कोविड-19 में जो हुआ, उससे भारत के बारे में वो चीजें बाहर निकलकर आ गई हैं जिनके बारे में हम सबको पता है।’ अरुंधति ने कहा कि ‘हम सिर्फ कोविड से ही पीड़ित नहीं हैं, बल्कि घृणा और भूख के संकट से भी ग्रस्त हैं।’

अरुंधति ने आगे कहा कि ‘यह संकट मुसलमानों के प्रति घृणा का है जो दिल्ली में हुए नरसंहार के तुरंत बाद सामने आया है। दिल्ली में मुस्लिम विरोधी कानून के खिलाफ प्रदर्शन के कारण दंगे हुए थे।’ राय ने कहा कि ‘कोविड-19 की आड़ में सरकार युवा विद्यार्थियों को गिरफ्तार कर रही है। वकीलों, वरिष्ठ संपादकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों के खिलाफ केस दर्ज कर रही है। कुछ को हाल ही में जेल में डाल दिया गया।’

राय ने इंटरव्यू में सरकार पर बेहद तीखा हमला बोला और मौजूदा परिस्थितियों की तुलना नाजी होलोकास्ट से की। उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना संकट का जैसा रणनीतिक इस्तेमाल कर रही है वह याद दिलाता है कि कैसे नाजियों ने होलोकास्ट की रणनीति बनाई थी।

उन्होंने कहा, ‘आरएसएस का पूरा संगठन जिससे मोदी आते हैं और जिससे बीजेपी का जन्म हुआ है, ने बहुत पहले ही कहा था कि भारत को हिंदू राष्ट्र होना चाहिए। इसकी विचारधारा भारत के मुस्लिमों को जर्मनी के यहूदियों की तरह देखती है। अगर आप देखेंगे कि वो कोविड का कैसा इस्तेमाल कर रहे हैं तो पता चलेगा कि यह रणनीति कुछ ऐसी ही है जो यहूदियों की छवि बनाने में इस्तेमाल हुई थी।’

(खबर में कुछ इनपुट नवभारत टाइम्स से लिए गए हैं।)

This post was last modified on April 18, 2020 11:14 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

क्या कोसी महासेतु बन पाएगा जनता और एनडीए के बीच वोट का पुल?

बिहार के लिए अभिशाप कही जाने वाली कोसी नदी पर तैयार सेतु कल देश के…

3 mins ago

भोजपुरी जो हिंदी नहीं है!

उदयनारायण तिवारी की पुस्तक है ‘भोजपुरी भाषा और साहित्य’। यह पुस्तक 1953 में छपकर आई…

43 mins ago

मेदिनीनगर सेन्ट्रल जेल के कैदियों की भूख हड़ताल के समर्थन में झारखंड में जगह-जगह विरोध-प्रदर्शन

महान क्रांतिकारी यतीन्द्र नाथ दास के शहादत दिवस यानि कि 13 सितम्बर से झारखंड के…

13 hours ago

बिहार में एनडीए विरोधी विपक्ष की कारगर एकता में जारी गतिरोध दुर्भाग्यपूर्ण: दीपंकर भट्टाचार्य

पटना। मोदी सरकार देश की सच्चाई व वास्तविक स्थितियों से लगातार भाग रही है। यहां…

13 hours ago

मीडिया को सुप्रीम संदेश- किसी विशेष समुदाय को लक्षित नहीं किया जा सकता

उच्चतम न्यायालय ने सुदर्शन टीवी के सुनवाई के "यूपीएससी जिहाद” मामले की सुनवायी के दौरान…

14 hours ago

नौजवानों के बाद अब किसानों की बारी, 25 सितंबर को भारत बंद का आह्वान

नई दिल्ली। नौजवानों के बेरोजगार दिवस की सफलता से अब किसानों के भी हौसले बुलंद…

15 hours ago