पहला पन्ना

लाल किला, नांगलोई टी प्वाइंट पर पुलिस का लाठीचार्ज, संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा- अराजक तत्व आंदोलन में घुसे

दिल्ली में निर्धारित रूट से अलग पहुंचे  और उपद्रव कर रहे किसानों को रोकने के लिए लाल किला और नांगलोई टी प्वाइंट पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। इस बीच संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से कहा गया है कि किसान गणतंत्र दिवस परेड में अभूतपूर्व भागीदारी के लिए हम किसानों को धन्यवाद देते हैं। हम उन अवांछनीय और अस्वीकार्य घटनाओं की भी निंदा करते हैं, जो आज घटित हुई हैं। ऐसे कृत्यों में लिप्त होने वाले लोग हमारे सहयोगी नहीं हैं।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है, “हमारे सभी प्रयासों के बावजूद कुछ संगठनों और व्यक्तियों द्वारा रूट का उल्लंघन करने का निंदनीय कृत्य किया गया। असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण आंदोलन में घुसपैठ की। हमने हमेशा माना है कि शांति हमारी सबसे बड़ी ताकत है और किसी भी उल्लंघन से आंदोलन को नुकसान होगा।” वहीं भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है, “हम उन लोगों को जानते हैं जो अशांति पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, उनकी पहचान कर ली गई है। वे राजनीतिक दलों के लोग हैं जो आंदोलन को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं।” वहीं योगेंद्र यादव ने अपील की है कि किसान पूर्व की तयशुदा रूट पर लौट आएं और बिल्कुल अहिंसक तरीके से आगे बढ़ें।

लाल किले के भीतर मौजूद किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। इस लाठीचार्ज में सैकड़ों किसान बुरी तरह घायल हो गए हैं और उन्हें एंबुलेंस में भर कर दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया है। नांगलोई टी प्वाइंट पर भी पुलिस ने आंदोलन पर लाठीचार्ज किया है। इसके अलावा आंसू गैस के गोले दागे गए हैं।

वहीं आईटीओ से सुप्रीम कोर्ट के बीच भीड़ को रोकने के लिए तीन लेयर बनी है। एक लेयर रैपिड एक्शन फोर्स की है जो सबसे आगे है। दूसरी पुलिस की जो बीच में है और तीसरी बीएसएफ की है। ITO के पास ट्रैक्टर पलटने से एक किसान की मौत हो गई, हालांकि किसानों का कहना है कि पुलिस की गोली लगने से उक्त किसान की मौत हुई है।

वहीं गृह मंत्रालय द्वारा सिंघु, गाजीपुर, टिकरी, मुकरबा चौक, नांगलोई और उनके आस-पास के क्षेत्रों में आज रात 11:59 PM तक इंटरनेट सेवाएं अस्थायी रूप से निलंबित कर दी हैं। किसानों के हंगामे को देखते हुए सरकार ने सिंघु, टीकरी, गाजीपुर बॉर्डर के साथ ही मुकरबा चौक और नांगलोई इलाके में भी इंटरनेट बंद कर दिया है। ये सभी ऐसे पॉइंट हैं, जहां किसान आंदोलन चल रहा है।

इसके साथ ही ग्रे लाइन रूट वाले सभी मेट्रो स्टेशन भी बंद कर दिए गए हैं। जामा मस्जिद, दिलशाद गार्डेन, झिलमिल, मान सरोवर पार्क मेट्रो स्टेशन बंद करवा दिए गए हैं।

वहीं कापसहेड़ा चौक से बिजवासन रोड तक ट्रैफिक की आवाजाही बंद कर दी गई है। कापसहेड़ा बॉर्डर और समालखा टी पॉइंट से रूट डायवर्ट कर दिया गया है। द्वारका मोड़ से उत्तम नगर ईस्ट मेट्रो स्टेशन तक ट्रैफिक की आवाजाही बंद कर दी गई है। द्वारका मोड़ से रूट डायवर्ट कर दिया गया है।

दिल्ली पुलिस ने एनएच 44, जीटीके रोड, आउटर रिंग रोड, सिग्नेचर ब्रिज, जीटी रोड, आईएसबीटी रिंग रोड, विकास मार्ग, आईटीओ, एनएच 24, निजामुद्दीन खट्टा, नोएडा लिंक रोड, पीरागढ़ी और आउटर दिल्ली, पूर्व और पश्चिम दिल्ली सीमा क्षेत्रों पर ट्रैफिक को जाने से बचने की सलाह दी है।

दिल्ली पुलिस ने अपील की है कि वजीराबाद रोड, आईएसबीटी रोड, जीटी रोड, पुश्ता रोड, विकास मार्ग, एनएच-24, रोड नंबर पर 57, नोएडा लिंक रोड पर भारी ट्रैफिक है कृपया इन सड़कों से बचें।

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

This post was last modified on January 26, 2021 8:48 pm

Share
%%footer%%