Subscribe for notification

हाथरस के आगोश में पूरा देश! ‘दलित लाइव्स मैटर’ के बैनर तले जंतर-मंतर पर बड़ा जमावड़ा

नई दिल्ली/ इलाहाबाद/ लखनऊ। आज गांधी जयंती पर इंडिया गेट के सामने ‘दलित लाइव्स मैटर’ आंदोलन का कॉल तमाम वामपंथी संगठनों द्वारा दिया गया था। लेकिन दिल्ली पुलिस द्वारा इंडिया गेट के आस-पास धारा 144 लगाकर भारी पुलिस बल तैनात कर देने के बाद दिल्ली के जंतर-मंतर पर जन-आंदोलन का आयोजन किया गया।

दिल्ली स्थित वाल्मीकि मंदिर में हाथरस पीड़िता के लिए प्रार्थना सभा आयोजित की गई। इसमें हर तबके, हर कौम, हर संगठन के लोग शरीक हुए। कांग्रेस की तरफ से महासचिव प्रियंका गांधी ने हिस्सा लिया।

तमाम राजनीतिक दल के नेता पहुंचे जंतर-मंतर

जंतर-मंतर पर तमाम राजनीतिक दलों के नेता भी पहुंचे हैं। इसमें कांग्रेस, सीपीआई, सीपीआईएम, सीपीआईएमएल, आम आदमी पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल के नेता प्रमुख हैं।

दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने कहा, “ बच्ची खुद कह रही है कि उसके साथ गैंगरेप हुआ है। और सरकार और प्रशासन गैंगरेप को नकार रहे हैं। डीएम पीड़ित परिवार को धमका रहे हैं।”

सिने तारिका स्वरा भास्कर भी जंतर-मंतर पहुँची। उन्होंने कहा, “हाथरस में जो हुआ है वो सरकार और पुलिस प्रशासन के संरक्षण में हुआ है। सरकार आरोपियों को सजा दिलवाने के बजाय पीड़ित परिवार को ही परेशान कर रही है।”

आम आदमी पार्टी के दिलीप पांडेय और सौरभ भारद्वाज भी जंतर-मंतर पहुंचे।

लेफ्ट छात्र संगठन, दलित संगठन शामिल हुए

छात्र संगठन आइसा (AISA) की ओर से आज शाम 5 बजे जंतर-मंतर पर ‘दलित लाइव्स मैटर’ जन-आंदोलन की अपील की गयी थी। डीसीपी की ओर से जंतर-मंतर पर सिर्फ़ 100 लोगों के इकट्ठा होने और इकट्ठा होने से पहले परमिशन लेने की शर्त रखी गई थी। बावजूद इसके शाम पांच बजे जंतर-मंतर पर कदम रखने तक की जगह नहीं है। आइसा के अलावा एसएफआई, एआईडीएसओ, एआईआरएसएफ, एआईएसएफ, एनएसयूआई आदि तमाम छात्र संगठनों और कांग्रेस यूथ के सदस्य जंतर-मंतर पर लगातार नारे लगा रहे हैं और पीड़िता के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा भीम आर्मी के कार्यकर्ता भी बड़ी मात्रा में जंतर-मंतर पहुंचे हैं।

वाल्मीकि मंदिर प्रार्थना सभा में पहुंची प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी दिल्ली के वाल्मीकि मंदिर में आयोजित प्रार्थना सभा में हिस्सा लेने पहुँची। और दलित लड़की की क्रूरतापूर्ण हत्या और आधी रात उसकी लाश योगी सरकार की रहनुमाई में फूंके जाने पर सवाल उठाते हुए पूछा कि सनातन धर्म में आधी रात लाश जलाने का प्रावधान नहीं है।

लखनऊ में गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण नहीं करने दिया गया

हाथरस केस में प्रोटेस्ट कर रहे वाम नेताओं को गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण तक नहीं करने दिया गया। सेंट्रल कमेटी मेंबर हीरालाल यादव समेत कई सदस्यों को लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया गया। जबकि दूसरी ओर पार्टी कार्यालय से गांधी प्रतिमा तक गांधी तस्वीर लेकर शांति मार्च निकाल रहे सपा के वरिष्ठ नेताओं और विधायकों तथा तमाम महिला कार्यकर्ताओं को सड़क पर घसीट-घसीटकर मारा गया और गिरफ्तार करके थाने ले जाया गया। महिला सदस्यों के कपड़े तक फाड़ डाले गए। कल प्रोटेस्ट के दौरान नोएडा में कांग्रेस नेता अमृता धवन के कपड़े फाड़े जाने की खबर आई।

पूरे उत्तर प्रदेश में वाल्मीकि मंदिरों में कांग्रेस पार्टी की तरफ से हाथरस की बेटी के लिए प्रार्थना सभा

कांग्रेस यूपी के तमाम जिलों में प्रार्थना सभा का आयोजन कर रही है। लखनऊ में हुसैनाबाद वाल्मीकि मंदिर पर प्रार्थना सभा रखा गया। जहां प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू, विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मोना और एमएलसी दीपक सिंह समेत कई नेता शामिल हुए। वहीं दिल्ली में पंचकुइयां रोड स्थित वाल्मीकि मंदिर में प्रार्थना सभा में प्रियंका गांधी शामिल हुईं।

हाथरस में पीड़िता के परिवार को प्रशासन ने बनाया है बंधक, महिला मीडियाकर्मियों से बदतमीजी

पीड़िता के गांव में धारा 144 लागू करके रखा गया है। गांव के चारों ओर पुलिस और पीएसी का कड़ा पहरा है। पूरे गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। मीडिया तक को गांव के अंदर नहीं जाने दिया रहा है। कोई पत्रकार या महिला पत्रकार जोर जबर्दस्ती या चोरी छिपे अंदर जाने की कोशिश करता भी है तो पुलिस-प्रशासन उसके साथ बदसलूकी से पेश आती है। और बल का प्रयोग करके उन्हें पीछे धेकल देती है।

आज पीड़िता का एक भाई चोरी छिपे खेत के रास्ते निकल कर मीडिया तक पहुँचने में सफल रहा। उसने मीडिया को बताया कि पुलिस ने पूरे परिवार का मोबाइल फोन छीन लिया है। किसी के पास मोबाइल नहीं है। कल पीड़िता के ताऊ की छाती पर डीएम ने लात मारा था। बच्चे ने कहा कि उसका परिवार मीडिया से बात करके अपनी पीड़ा को पूरे देश को बताना चाहता है।

बता दें कि हाथरस में पीड़िता के गांव के बाहर ही तमाम दलों के नेता और कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए हैं। वहां बैठ कर वो गांधी कीर्तन रघुपति राघव राजाराम का गायन कर रहे हैं। इनमें आम आदमी पार्टी के नेता और टीएमसी नेता प्रमुख हैं।

हाथरस गांव के बाहर टीएमसी सांसद को धक्का मारकर गिराया

वहीं, आज तृणमूल कांग्रेस का एक दल गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने उसके गांव जा रहा था। इस दौरान हाथरस के बॉर्डर पर तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन समेत पूरे प्रतिनिधिमंडल को पुलिस प्रशासन ने रोक दिया। न मानने पर डेरेक ओ ब्रायन के साथ धक्का-मुक्की करके उन्हें नीचे गिरा दिया गया। टीएमसी नेता ममता ठाकुर का कहना है कि, “महिला पुलिसकर्मियों ने हमारे ब्लाउज खींचे और हमारी सांसद प्रतिमा मंडल पर लाठीचार्ज किया।”

मुंबई के चेंबूर में बड़ा विरोध-प्रदर्शन

भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई के चेंबूर में हाथरस केस के खिलाफ़ बड़ा विरोध प्रदर्शन हो रहा है। इसमें नागरिक समाज, आम नागरिक, दलित समुदाय और चेतन नागरिक शामिल हुए हैं।

इसके अलावा पूरे मुंबई में जगह-जगह तमाम राजनीतिक पार्टियों ने हाथरस केस के खिलाफ विरोध जुलूस निकाला है। आज कांग्रेस नेताओं ने गांधी उद्यान थाने में कार्यक्रम किया। कल कांग्रेस ने डॉ. अंबेडकर स्टैचू से लेकर सेंट्रल लाइब्रेरी तक कैंडल मार्च का आयोजन किया था।

यूपी के तमाम जिलों में सत्याग्रह

उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ रही महिलाओं पर हिंसा के खिलाफ हाथरस के डीएम पर कार्रवाई करने, किसान विरोधी विधेयकों को वापस लेने, रोजगार को मौलिक अधिकार बनाने और मनरेगा में काम व काम का पूरा दाम देने की मांग पर आज ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट व मजदूर किसान मंच की इकाइयों ने पूरे प्रदेश में गांधी जयंती के अवसर पर सत्याग्रह प्रदर्शन कार्यक्रम आयोजित किया।

अखिल भारतीय किसान मजदूर संघर्ष समन्वय समिति व अन्य जनवादी संगठनों के आवाहन पर आयोजित इस कार्यक्रम को उत्तर प्रदेश में सोनभद्र, चंदौली, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, रामपुर, इलाहाबाद, गोंडा, बस्ती, वाराणसी, आगरा और लखनऊ में आयोजित किया गया। कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आईजी एस आर दारापुरी और मजदूर किसान मंच के महासचिव डॉ बृज बिहारी ने प्रेस को जारी अपने बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश महिलाओं की कब्रगाह में तब्दील हो गया है। लगातार हो रही बलात्कार, हत्या की घटनाएं यह दिखाती हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था खत्म हो चुकी है।

प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में युवाओं ने किया रोजगार अधिकार सत्याग्रह

रोजगार अधिकार सत्याग्रह के आवाहन के क्रम में युवा मंच के बैनर तले इलाहाबाद, आगरा, सोनभद्र, चंदौली, जौनपुर, सीता पुर, बांदा, आजमगढ़, हरदोई, लखीमपुर सहित तमाम जनपदों में प्रतिवाद कार्यक्रम हुए। इलाहाबाद में बालसन चौराहे पर रोजगार अधिकार सत्याग्रह के तहत युवाओं ने प्रदर्शन कर रोजगार अधिकार के लिए आवाज बुलंद की।

इलाहाबाद में प्रदर्शन स्थल पुलिस छावनी में तब्दील रहा। रोजगार अधिकार सत्याग्रह के माध्यम से युवा मंच ने रोजगार को मौलिक अधिकार बनाने, देशभर में खाली 24 लाख पदों अविलंब भरने की मांग उठाई गई। युवा मंच के संयोजक राजेश सचान ने कहा कि देश में रोजगार संकट अरसे से है लेकिन मोदी सरकार की नीतियों से कारोबार, व्यापार, खेती-किसानी, छोटे मझोले उद्योग सब कुछ चौपट होने से विगत 6 वर्षों में अभूतपूर्व आजीविका का संकट पैदा हुआ है।

इलाहाबाद में युवा मंच के संयोजक राजेश सचान व अनिल सिंह, हरदोई में युवा मंच राज्य कमेटी सदस्य अंकुर सिंह व कुलदीप कुशवाहा, चंदौली में युवा मंच के सहसंयोजक आलोक राय व स्नेहा राय, सोनभद्र में ज्ञान दास सिंह व रूबी सिंह, आजमगढ़ में युवा मंच राज्य कमेटी सदस्य जय प्रकाश यादव, जौनपुर में बलिंदर यादव, आगरा में आराम सिंह, लखीमपुर में संतोष भारती, बांदा में शहनवाज खान शानू के नेतृत्व में युवाओं ने रोजगार अधिकार सत्याग्रह में भागीदारी की।

ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा #DalitLivesMatter

ट्विटर पर दोपहर से ही #DalitLivesMatter टॉप ट्रेंड कर रहा है। जबकि दूसरे नंबर पर #MeriBhiBetiHai है।

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

This post was last modified on October 2, 2020 8:08 pm

Share